हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • कश्मीर को शेष भारत से जोड़ने में दार्शनिक विचारों और परंपराओं की क्या भूमिका रही? चर्चा करें ।

    05 Mar, 2020 सामान्य अध्ययन पेपर 1 संस्कृति

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोणः

    • कश्मीरी संस्कृति का संक्षिप्त परिचय।

    • दार्शनिक विचारों व परंपराओं पर प्रकाश डालें ।

    • सूफी परंपरा से उत्पन्न सांस्कृतिक संबंधों का उल्लेख करें।

    कश्मीर अपनी प्राकृतिक सुंदरता और भौगोलिक स्थिति के समान कला, साहित्य, नाटक, नृत्य और चित्रकला में भी धनी रहा है। उल्लेखनीय है कि व्यापार एवं राजनीति के अतिरिक्त एक समान दार्शनिक विचारों और परंपराओं के कारण भी कश्मीर शेष भारत से सदैव जुड़ा रहा है। इस संबंध में प्रस्तुत तर्क निम्नलिखित हैं-

    • शैवमत के अभिन्न अंग कश्मीरी शैव मत में वर्णित ‘शिव’ की अवधारणा, दक्षिण भारत में चर्चित शंकर के ‘अद्वैत दर्शन’ के ब्रह्म से समानता रखती है। यह प्रमाण कश्मीर के शैवमत व शेष भारत के दार्शनिक विचारों के आदान-प्रदान को प्रदर्शित करता है। कश्मीरी शैवमत के प्रमुख अभिनव गुप्त की ‘तंत्रलोक’ पुस्तिका में वर्णित ‘तंत्रों’ का प्रचार-प्रसार शेष भारत में हुआ।
    • शंकराचार्य द्वारा स्थापित पीठों में पूजा हेतु ‘केसर’ का प्रयोग होता है। यह ‘केसर’ कश्मीर से मंगाया जाता है।
    • भरत मुनि जो दक्षिण से संबंधित थे, ने नाट्यशास्त्र में 36 अध्यायों का वर्णन किया है जिसे विद्वान, कश्मीर शैवमत में वर्णित ‘36 तत्त्वों’ से संबंधित करते हैं जो निसंदेह एक समान दार्शनिक विचारों को प्रमाणित करता है।
    • कुषाण शासक कनिष्क ने चौथी बुद्ध संगीति कश्मीर में आयोजित की। इसी में बौद्ध धर्म का हीनयान-महायान विभाजन हुआ तथा कश्मीर में बौद्ध धर्म का प्रचार-प्रसार हुआ।
    • कश्मीर की एक पुस्तक ‘योग वशिष्ठ’ वाल्मिकी से संबंधित है, जिन्होंने रामायण की रचना की थी। यह कश्मीर और शेष भारत के सांस्कृतिक संबंधों को प्रदर्शित करती है।
    • कश्मीर की प्रसिद्ध कवयित्री लालेश्वरी द्वारा रचित कविताओं ने शेष भारत को कश्मीरी भाषा से अवगत कराया।
    • सूफी मत का प्रचार-प्रसार संपूर्ण भारत में हुआ था और कश्मीर भी इससे अछूता नहीं था। इसने कश्मीर व शेष भारत को एक सूत्र में पिरोने का कार्य किया। कश्मीर में नूरूद्दीन नूरानी और लल्ला आरिफी ने सूफी धर्म का प्रचार किया। उल्लेखनीय है कि लल्ला आरिफी को ‘लाल डेड’ (मदर लल्ला) के नाम से भी जाना जाता है।

    इस प्रकार इन तर्कों के आधार पर दार्शनिक विचारों एवं परंपराओं के संबंध में कश्मीर का शेष भारत से स्पष्ट संबंध दिखाई देता है। इन सब के अतिरिक्त चरक के आयुर्वेद, पाणिनी के व्याकरण, कल्हण की राजतरंगिणी विल्हण के संगीत में शेष भारत की परंपराएँ व दर्शन दृष्टिगत होते हैं।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close