हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    भारत में आपदा प्रबंधन की बढ़ती आवश्यकता पर प्रकाश डालिए। साथ ही, आपदा प्रबंधन में इसरो (ISRO) के योगदान की विवेचना कीजिये।

    26 Apr, 2017 सामान्य अध्ययन पेपर 3 अर्थव्यवस्था

    उत्तर :

    आपदा एक प्राकृतिक या मानव निर्मित जोखिम का ‘प्रभाव’ है, जो समाज एवं पर्यावरण को बड़े स्तर पर नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। सूखा, बाढ़, चक्रवाती तूफान, भूकंप, भूस्खलन, वनों में लगने वाली आग, टिड्डी दल और ज्वालामुखी फटने की घटनाएँ ‘आपदा’ का स्वरूप ले लेती हैं।

    एक सक्षम आपदा प्रबंधन प्रणाली द्वारा विभिन्न आपदाओं से होने वाली क्षति से काफी हद तक बचा जा सकता है। कम-से-कम जनहानि को तो न्यूनतम या शून्य किया ही जा सकता है। भारतीय उपमहाद्वीप की भौगोलिक एवं पर्यावरणीय स्थिति ऐसी है कि यहाँ विभिन्न प्रकार की आपदाओं के घटित होने की संभावनाओं को नकारा नहीं जा सकता। यथा-

    • भारतीय उपमहाद्वीप का लगभग 60 प्रतिशत भू-भाग भूकंप संभावित क्षेत्र के अंतर्गत आता है।
    • विश्व के लगभग 10 प्रतिशत चक्रवातों के प्रभाव क्षेत्र में भारत आता है।
    • भारत की लगभग 68 प्रतिशत कृषि योग्य भूमि ‘सूखे’ के लिये अत्यन्त संवेदनशील है।
    • हिमालय क्षेत्र एवं पश्चिमी घाट में मानवीय हस्तक्षेपों से भूस्खलन की घटनाएँ बढ़ी हैं।
    • एक बहुत बड़ा क्षेत्र बाढ़ से प्रभावित रहता है।
    • शुष्क पर्णपाती एवं पर्णपाती वनों में आग लगने की घटनाएँ बार-बार होना।

    भारत में बढ़ती जनसंख्या की आवश्यकताओं के कारण भी पर्यावरण में मानवीय हस्तक्षेप बढ़ने से विभिन्न प्रकार की आपदाओं की बारम्बारता बढ़ी है। अतः एक कुशल, प्रभावी, एवं मजबूत आपदा प्रबंधन प्रणाली की सक्रियता आज की आवश्यकता है।

    आपदा प्रबंधन में इसरो को योगदानः

    इसरो के INSAT-3D, INSAT-3DR, INSAT-1A, IRS-1A और CARTOSAT-2D उपग्रह आपदा-प्रबंधन में महत्ती भूमिका निभाते हैं। ये उपग्रह निम्नलिखित तरीकों से आपदा प्रबंधन में सहयोग करते हैं-

    (i) आपदा-पूर्व सूचना देने में, यथा- 

    • सुनामी व चक्रवात जैसी आपदाओं के विषय में पूर्व सूचना देना।
    • नदियों में जल की कम मात्रा की सूचना आदि से सूखे के पूर्वानुमान में सहायता।

    (ii) आपदा के दौरान राहत कार्य में सहायक, यथा-

    • आपदा की लाइव मॉनिटरिंग जैसे- भूकंप या बाढ़ की स्थिति में।
    • जंगल में लगी आग की मॉनिटरिंग।

    (iii) आपदा उपरांत सहायक, यथा-

    • क्षति के सटीक अनुमान में, जैसे सूखा प्रभावित क्षेत्र।
    • प्रभावित क्षेत्र को पूर्व स्थिति में लाने के प्रयासों एवं घटना की पुनरावृत्ति रोकने के प्रयासों की मॉनिटरिंग में।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
एसएमएस अलर्ट
Share Page