हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 19 Nov, 2020
  • 18 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 19 नवंबर, 2020

एचआईवी रोकथाम के लिये वैश्विक रोकथाम गठबंधन

Global Prevention Coalition for HIV Prevention

18 नवंबर, 2020 को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने एचआईवी रोकथाम के लिये वैश्विक निवारण गठबंधन (Global Prevention Coalition- GPC) की मंत्रिस्तरीय बैठक को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित किया।     

प्रमुख बिंदु:

यूएनएड्स (UNAIDS):

UNAIDS

  • यूएनएड्स एक समस्या-समाधानकर्त्ता की भूमिका निभाता है।
  • यूएनएड्स की स्थापना संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (United Nations Economic and Social Council- ECOSOC) द्वारा की गई थी और यह संयुक्त राष्ट्र का एकमात्र संयुक्त कार्यक्रम है।
  • UNAIDS वर्ष 2030 तक सतत् विकास लक्ष्यों (Sustainable Development Goals) के हिस्से के रूप में एड्स को (सार्वजनिक स्वास्थ्य के खतरे को) समाप्त करने के वैश्विक प्रयास का नेतृत्त्व कर रहा है।
  • अपनी 37वीं बैठक में ‘यूएनएड्स प्रोग्राम कोऑर्डिनेटिंग बोर्ड’ ने वर्ष 2030 तक सार्वजनिक स्वास्थ्य के खतरे के रूप में एड्स महामारी को समाप्त करने के लिये एक नई रणनीति अपनाई। 
  • यूएनएड्स (UNAIDS) वर्ष 2016-2021 की रणनीति संयुक्त राष्ट्र प्रणाली में पहली है जो सतत् विकास लक्ष्यों से संबद्ध है, जिसने अगले 15 वर्षों में वैश्विक विकास नीति के लिये रूपरेखा तैयार की, इसका उद्देश्य वर्ष 2030 तक एड्स महामारी को समाप्त करना है।
  • इस वर्ष का यह सम्मेलन वर्ष 2030 तक एड्स को समाप्त करने के लिये वर्ष 2016 की ‘UNGA प्रतिबद्धता’ (UNGA Commitment) के लक्ष्य को प्राप्त करने के दृष्टिकोण से अत्यंत महत्त्वपूर्ण है।
  • GPC के सदस्य देशों ने वर्ष 2010 की तुलना में वयस्कों में HIV संक्रमण को वर्ष 2020 के अंत तक 75% तक कम करने पर सहमति व्यक्त की थी।       
    • GPC ने विश्व को एक ऐसा मॉडल उपलब्ध कराया है जहाँ कई सारे हितधारक एक साथ आ सकते हैं और एक समान लक्ष्य प्राप्त करने के लिये एकजुट होकर कार्य कर सकते हैं।
  • दुनिया भर में भारत के जेनेरिक एंटी-रेट्रोवायरल ड्रग्स (Anti-Retroviral Drugs) के प्रावधानों का एचआईवी महामारी को नियंत्रित करने में महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है।
  • इस अवसर पर भारत के अद्वितीय एचआईवी निवारण मॉडल की सराहना की गई जो 'सामाजिक अनुबंध' (Social Contracting) की अवधारणा पर केंद्रित है जिसके माध्यम से लक्षित हस्तक्षेप (Targeted Interventions) कार्यक्रम को लागू किया जाता है।
    • जिसके तहत गैर-सरकारी संगठनों के समर्थन से अनेक कार्यक्रम संचालित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसका उद्देश्य एचआईवी देखभाल के लिये आउटरीच, सेवा वितरण, परामर्श एवं परीक्षण तथा लिंकेज सुनिश्चित करना है।

गिल्लन बर्रे सिंड्रोम

Guillain Barre Syndrome

भारत में अगस्त 2020 से ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिनमें COVID-19 से संक्रमित कुछ रोगियों को गिल्लन बर्रे सिंड्रोम (Guillain Barre Syndrome- GBS) से पीड़ित पाया गया है। 

Guillain-Barre

प्रमुख बिंदु:

  • मुंबई में न्यूरोलॉजिस्ट का एक समूह अब इन मामलों एवं उनके लक्षणों की मैपिंग कर रहा है। 

गिल्लन बर्रे सिंड्रोम (GBS):

  • यह एक बहुत ही दुर्लभ ऑटोइम्यून विकार (Autoimmune Disorder) है।   
  • GBS बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण के कारण होता है। 
  • इस विकार से ग्रसित रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली कोरोनोवायरस को मारने के प्रयास में गलती से परिधीय तंत्रिका तंत्र (Peripheral Nervous System) पर हमला करना शुरू कर देती है, जिससे शरीर के  अंगों की कार्य करने की क्षमता प्रभावित होती है।
    • परिधीय तंत्रिका तंत्र, तंत्रिकाओं का एक नेटवर्क है जो मस्तिष्क एवं रीढ़ की हड्डी द्वारा शरीर के विभिन्न हिस्सों से संबद्ध होता है।
  • अतीत में ‘मिडिल-ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम’ (Middle East Respiratory Syndrome) के मरीज़ों में GBS के लक्षण दिखाई दिये थे जैसा कि ज़ीका, एचआईवी, हर्पीस वायरस (Herpes Virus) और कैंपिलोबैक्टर जेजुनी (Campylobacter Jejuni) से संक्रमित लोगों में देखा गया  था।

लक्षण:

  • इसके प्रमुख लक्षण- त्वचा में खुजली, मांसपेशियों में कमज़ोरी, दर्द एवं सुन्न हो जाना हैं। 
  • ये लक्षण सबसे पहले पैरों एवं हाथों में उभर सकते हैं। इसमें व्यक्ति को पैरालिसिस का  अनुभव होने लगता है जो अस्थायी हो सकता है, किंतु 6-12 महीने या उससे अधिक समय तक रह सकता है।

हरिकेन ईओटा

Hurricane Iota

16 नवंबर, 2020 को हरिकेन ईओटा (Hurricane Iota) मध्य अमेरिका के निकारागुआ (Nicaragua) के तट से टकराया और श्रेणी 5 (Category 5) के हरिकेन के रूप में विकसित हो गया।

Hurricane-Iota

प्रमुख बिंदु:

Hurricane-Wind-Scale

  •  ‘सैफिर-सिंपसन विंड स्केल’ के आधार पर श्रेणी 5 (Category 5) के अंतर्गत आने वाले हरिकेन ईओटा (Hurricane Iota) को गंभीर (Severe) श्रेणी में सूचीबद्ध किया गया है जिसमें वायु की गति 252 किलोमीटर/घंटा या अधिक होती है।    
    • श्रेणी 5 के हरिकेन से स्थल क्षेत्र में ‘प्रलयकारी नुकसान’ होता है।  

हरिकेन कब आते हैं?

  • अटलांटिक हरिकेन मौसम की अवधि 1 जून से 30 नवंबर के मध्य होती है जो अटलांटिक महासागर, कैरेबियन सागर और मेक्सिको की खाड़ी को कवर करता है। 
    • जबकि पूर्वी प्रशांत तट पर हरिकेन मौसम की अवधि 15 मई से 30 नवंबर के मध्य होती है।
  • नेशनल ओशनिक एंड एटमाॅस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन’ (National Oceanic and Atmospheric Administration- NOAA) के अनुसार, एक औसत हरिकेन मौसम में लगभग 12 हरिकेन आते हैं जिनमें से तीन प्रमुख हरिकेन के साथ छह सामान्य हरिकेन बन जाते हैं।

Arctic-Ocean


 केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क प्रोजेक्ट

Kerala Fibre Optic Network Project

केरल सरकार ने केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क प्रोजेक्ट (Kerala Fibre Optic Network Project-KFON) द्वारा दिसंबर 2020 तक गरीब परिवारों, सार्वजनिक कार्यालयों के लिये मुफ्त इंटरनेट प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

प्रमुख बिंदु:

  • इस परियोजना का उद्देश्य, केरल सरकार द्वारा ‘इंटरनेट एक्सेस को नागरिक अधिकार‘ बनाने संबंधी अवधारणा को पूरा करना है।
  • इस परियोजना का लक्ष्य गरीबी रेखा से नीचे (Below Poverty Line- BPL) जीवन जीने वाले 20 लाख से अधिक परिवारों को मुफ्त उच्च गति के इंटरनेट की सुविधा प्रदान करना है।
  • यह केरल राज्य बिजली बोर्ड (Kerala State Electricity Board) और केरल राज्य आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (Kerala State IT Infrastructure Ltd) की एक संयुक्त पहल है।       
    • 1548 करोड़ रुपए की KFON परियोजना में 50% हिस्सेदारी KSEB के पास बाकी हिस्सेदारी केरल राज्य आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के पास है।
    • इंटरनेट सेवा प्रदाता और केबल टेलीविज़न ऑपरेटर भी अपनी सेवाएँ प्रदान करने के लिये इस परियोजना में शामिल हो सकते हैं।
  • यह परियोजना भारतीय राज्यों के बीच अपनी तरह की पहली किंतु भारत सरकार की भारतनेट परियोजना (BharatNet Project) के समान है।
  • यह परियोजना 20 लाख से अधिक गरीब परिवारों एवं कार्यालयों, स्कूलों, आईटी पार्कों, हवाई अड्डों तथा बंदरगाहों सहित 30,000 से अधिक सरकारी संस्थानों के लिये मुफ्त इंटरनेट सेवाएँ प्रदान करेगी।

महत्त्व: 

  • जब यह परियोजना लॉन्च की जाएगी तो यह केरल के लिये एक और मील का पत्थर साबित होगी जिसने कई मानव विकास संकेतकों (HDI) में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। जैसे- स्वास्थ्य के क्षेत्र में।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 19 नवंबर, 2020

रानी लक्ष्मीबाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रानी लक्ष्मीबाई की 192वीं जयंती के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। रानी लक्ष्मी बाई का जन्म 19 नवंबर, 1828 को वाराणसी में हुआ था और उनके बचपन का नाम मणिकर्णिका तांबे था। उन्होंने बचपन में ही घुड़सवारी, तलवारबाज़ी और निशानेबाज़ी जैसी कलाओं में निपुणता हासिल कर ली थी। वर्ष 1842 में 14 वर्ष की उम्र में इनका विवाह झाँसी के महाराजा गंगाधर राव के साथ कर दिया गया, उसके बाद से इन्हें लक्ष्मीबाई के नाम से जाना गया। महाराजा की मृत्यु के बाद अंग्रेज़ों ने ‘व्यपगत सिद्धांत’ (Doctrine of Lapse) का हवाला देते हुए महाराजा के दत्तक पुत्र दामोदर राव को झाँसी के सिंहासन के कानूनी उत्तराधिकारी के रूप में स्वीकार करने से इनकार कर दिया। इस सिद्धांत के मुताबिक, यदि ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष नियंत्रण में आने वाली किसी रियासत के शासक के पास कानूनी तौर पर पुरुष उत्तराधिकारी नहीं है तो कंपनी द्वारा इस रियासत का अधिग्रहण कर लिया जाएगा। रानी लक्ष्मीबाई ने इस व्यवस्था का विरोध किया और जून 1857 में रानी लक्ष्मीबाई के नेतृत्व में झाँसी में विद्रोह प्रारंभ हो गया। ज्ञात हो कि यह वही समय था जब  मेरठ में कंपनी के भारतीय सिपाहियों ने विद्रोह किया था, तत्पश्चात्  यह विद्रोह कानपुर, बरेली, झाँसी, दिल्ली, अवध आदि स्थानों तक फैल गया। 1857 के विद्रोह में रानी लक्ष्मीबाई की काफी महत्त्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। झाँसी की सुरक्षा करते हुए ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ हुए युद्ध में 17 जून, 1858 रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु हो गई। 

विजयनगर- कर्नाटक का 31वाँ ज़िला

हाल ही में कर्नाटक मंत्रिमंडल ने मौजूदा बेल्लारी ज़िले से विजयनगर को अलग करने और एक नया ज़िला बनाने की दशकों पुरानी मांग को मंज़ूरी दे दी है। अब विजयनगर कर्नाटक का 31वाँ ज़िला होगा। ध्यातव्य है कि कर्नाटक में बीते कई वर्षों से विजयनगर साम्राज्य के नाम पर एक नए ज़िले के निर्माण की मांग की जा रही थी। विजयनगर साम्राज्य की स्थापना चौदहवीं शताब्दी (1336 ई.) में संगम वंश के दो राजकुमारों (हरिहर और बुक्का) द्वारा कृष्णा तथा तुंगभद्रा नदियों के बीच एक स्‍वतंत्र राज्‍य के रूप में की गई थी। भारतीय कला, संस्कृति और स्थापत्य के विकास की दृष्टि से विजयनगर साम्राज्य अत्यंत महत्त्वपूर्ण रहा है। इस दौरान भारतीय कला तथा संस्कृति का बहुआयामी विकास हुआ। विजयनगर साम्राज्य के सबसे प्रसिद्ध राजा कृष्‍ण देव राय थे। विजयनगर का राजवंश उनके कार्यकाल में भव्यता के शिखर पर पहुँच गया और 1529 ई. में राजा कृष्‍ण देव राय की मृत्यु के बाद विजयनगर साम्राज्य का पतन शुरू हो गया।

विश्व दर्शन दिवस

दार्शनिक विश्लेषण, अनुसंधान और प्रमुख समकालीन मुद्दों पर अध्ययन को बढ़ावा देकर दर्शन के प्रति लोगों की प्रतिबद्धता को मज़बूत करने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष नवंबर माह के तीसरे गुरुवार को विश्व दर्शन दिवस (World Philosophy Day) मनाया जाता है। इस दिवस के आयोजन का प्राथमिक उद्देश्य आम लोगों के बीच दर्शन के महत्त्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। वर्ष 2020 में यह विश्व दर्शन दिवस 19 नवंबर को मनाया जा रहा है। विश्व दर्शन दिवस की शुरुआत वर्ष 2002 में यूनेस्को (UNESCO) द्वारा की गई थी और वर्ष 2002 में इस दिवस का आयोजन 21 नवंबर को किया गया था। सदियों से प्रत्येक संस्कृति में दर्शन (Philosophy) ने अवधारणाओं, विचारों और विश्लेषणों को जन्म दिया है और इसके माध्यम से महत्त्वपूर्ण, स्वतंत्र और रचनात्मक विचार के लिये आधार निर्धारित किया है।

इंदिरा गांधी

19 नवंबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु की पुत्री इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर, 1917 को प्रयागराज (इलाहाबाद) में हुआ था। 1950 के दशक की शुरुआत में उन्होंने अनौपचारिक रूप से अपने पिता पंडित जवाहरलाल नेहरु के निजी सहायक के रूप में कार्य किया। वर्ष 1955 में वे काॅन्ग्रेस कार्यसमिति में शामिल हुईं और वर्ष 1959 में उन्हें काॅन्ग्रेस का अध्यक्ष चुन लिया गया। वर्ष 1964 में प्रधानमंत्री नेहरु की मृत्यु के बाद उन्होंने लाल बहादुर शास्त्री के नेतृत्त्व में कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया, किंतु लाल बहादुर शास्त्री की आकस्मिक मृत्यु के बाद वर्ष 1966 में वे देश की 5वीं प्रधानमंत्री बनीं। वर्ष 1975 में उनके कार्यकाल के दौरान भारत में आपातकाल लागू किया गया, जो कि भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का एक ‘काला अध्याय’ माना जाता है। 31 अक्तूबर, 1984 को दो सिख अंगरक्षकों द्वारा उनकी हत्या कर दी गई।


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close