हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 13 Nov, 2020
  • 12 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 13 नवंबर, 2020

आईएनएस वागीर

INS Vagir

हाल ही में प्रोजेक्ट -75 के तहत निर्मित पाँचवी स्कॉर्पीन पनडुब्बी ‘आईएनएस वागीर' (INS Vagir) को मुंबई के मझगाँव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (MDL) में लॉन्च किया गया।

प्रमुख बिंदु:

  • भारत के पनडुब्बी कार्यक्रम को बढ़ावा देते हुए पोत निर्माण इकाई MDL ने इन पनडुब्बियों का निर्माण पूरी तरह से 'मेक इन इंडिया' के तहत किया है।
  • इसे बेहतर स्टील्थ फीचर्स (जैसे कि उन्नत ध्वनिक अवशोषण तकनीक, कम विकिरण वाले शोर स्तर, हाइड्रो-डायनामिक रूप से अनुकूलित आकार आदि) और सटीक-निर्देशित हथियारों के साथ पुनः निर्मित किया गया है।
  • यह पानी के नीचे या सतह पर टारपीडो और ट्यूब-लॉन्च एंटी-शिप मिसाइलों के साथ हमला करने में सक्षम है।
  • वागीर-I, पूर्व में रूस से प्राप्त की गई सबमरीन, जिसका नाम सैंड फिश के नाम पर रखा गया है, हिंद महासागर का एक समुद्री शिकारी था, को 3 दिसंबर, 1973 को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था और 7 जून, 2001 को सेवामुक्त किया गया था।


स्ट्रिप्ड बबल-नेस्ट फ्रॉग

Striped Bubble-Nest Frog

हाल ही में वैज्ञानिकों के एक समूह ने स्ट्रिप्ड बबल-नेस्ट फ्रॉग (Striped Bubble-Nest Frog) नामक अंडमान द्वीप में ट्री फ्रॉग (Tree Frog) की एक नए जीनस की खोज की है।

प्रमुख बिंदु:

  • जैविक नाम- रोहनीक्सालस विट्टैटस (Rohanixalus vittatus)
    • नए जीनस ‘रोहनीक्सालस ’का नामकरण श्रीलंकाई करदाता रोहन पेठियागोड़ा के नाम पर रखा गया है।
  • स्ट्रिप्ड बबल-नेस्ट फ्रॉग अतीत में पाए जाने वाले ट्रीफ्रॉग परिवार ‘राकोफोराइडे’ (Rhacophoridae) के जीनस से संबंधित है।
  • यह पहली बार है जब अंडमान द्वीप में ट्री फ्रॉग की पहली प्रजाति की उपस्थिति दर्ज की गई है।
  • शारीरिक विशेषताएँ-
    • छोटा और पतला शरीर (2-3 सेमी लंबा)।
    • शरीर के दोनों ओर विषम रंगीन पार्श्व रेखाएँ हैं तथा पूरे शरीर पर भूरे रंग के धब्बे हैं।
    • ये वृक्षों पर बने (Arboreal) घोसलों में हल्के हरे रंग के अंडे देते हैं।
    • इन्हें एशियन ग्लास फ्रॉग के नाम से भी जाना जाता है

फ्लाई ऐश से जियो-पॉलिमर एग्रीगेट का निर्माण

(Geo-polymer aggregate from fly ash)

हाल ही में भारत के सबसे बड़े बिजली उत्पादक और बिजली मंत्रालय के अधीन सार्वजनिक उपक्रम एनटीपीसी लिमिटेड ने फ्लाई ऐश से जियो-पॉलिमर एग्रीगेट को सफलतापूर्वक विकसित किया है।

प्रमुख बिंदु:

  • फ्लाई ऐश से जियो-पॉलिमर एग्रीगेट के उत्पादन की एनटीपीसी की अनुसंधान परियोजना, भारतीय मानकों के वैधानिक मापदंडों के अनुरूप है और इसकी पुष्टि राष्ट्रीय सीमेंट और निर्माण सामग्री परिषद (NCCBM) ने भी की है।
  • एनटीपीसी ने प्राकृतिक एग्रीगेट के प्रतिस्थापन के रूप में जियो-पॉलिमर एग्रीगेट को विकसित किया है। कंक्रीट कार्यों में उपयोग की उपयुक्तता के लिये भारतीय मानकों के आधार पर NCCBM, हैदराबाद ने तकनीकी मानकों का परीक्षण किया और परिणाम स्वीकार्य सीमा में हैं।

एग्रीगेट

  • किसी भू-भाग या क्षेत्र को स्थिर करने के लिये सिविल इंजीनियरिंग परियोजनाओं में एग्रीगेट का उपयोग किया जाता है।
    • प्राकृतिक एग्रीगेट प्राप्त करने के लिये पत्थर के उत्खनन की आवश्यकता होती है।
    • जियो-पॉलिमर एग्रीगेट का निर्माण उद्योग में व्यापक उपयोग किया जाता है।

लाभ

  • प्राकृतिक एग्रीगेट के स्थान पर इसका उपयोग किया जाएगा, जिससे पर्यावरण पर होने वाले दुष्प्रभाव को कम करने में मदद मिलेगी।
  • भारत में इन एग्रीगेट की कुल मांग लगभग 2000 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष है। फ्लाई ऐश, एनटीपीसी द्वारा विकसित एग्रीगेट की मांग को काफी हद तक पूरा करने में मदद करेगा और प्राकृतिक एग्रीगेट से होने वाले पर्यावरणीय दुष्प्रभाव को भी कम करेगा।
  • भारत में कोयले से चलने वाले बिजली कारखानों द्वारा हर साल लगभग 258 मीट्रिक टन राख (फ्लाई ऐश) का उत्पादन किया जाता है। इसमें से लगभग 78 प्रतिशत राख का उपयोग किया जाता है और शेष राख डाइक में जमा रहती है। इस अनुसंधान परियोजना में 90 प्रतिशत से अधिक राख का उपयोग करके एग्रीगेट का उत्पादन किया जाता है।
  • फ्लाई ऐश पर्यावरण अनुकूल सामग्री है। ये एग्रीगेट पर्यावरण के अत्यंत अनुकूल हैं और इसमें कंक्रीट में मिश्रण के लिये किसी भी सीमेंट की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि फ्लाई ऐश आधारित जियो-पॉलिमर मोर्टार (बांधने वाली सामग्री) के रूप में कार्य करता है। जियो-पॉलिमर एग्रीगेट कार्बन उत्सर्जन को कम करने में मदद करेंगे और इनके उपयोग से पानी की खपत में भी कमी आएगी।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 13 नवंबर, 2020

ऑयल पाम परियोजना

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने हाल ही में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऑयल पाम परियोजना (Oil Palm Project) की शुरुआत की है, जो कि राज्य में झूम खेती (Jhum Cultivation) का विकल्प हो सकती है। ऑयल पाम की बागवानी उष्ण क्षेत्र के लिये काफी उपयुक्त है और राज्‍य सरकार ने पाम ऑयल की खेती के लिये चंदेल, चूड़ाचाँदपुर, इम्फाल पश्चिम, विष्णुपुर, उखरूल और थाउबल ज़िलों में 66,652 हेक्‍टेयर भूमि का चयन किया है। राज्‍य सरकार ने शुरू में 200 हेक्टेयर भूमि पर पाम ऑयल की खेती का लक्ष्य निर्धारित किया है और इसके लिये केंद्र सरकार की सहायता से मिज़ोरम तथा आंध्र प्रदेश से बीज की खरीद की जाएगी। ध्यातव्य है कि राज्य में इस परियोजना को तिलहन और पाम तेल पर राष्ट्रीय मिशन के तहत लागू किया जा रहा है। केंद्र सरकार के तिलहन और पाम तेल पर राष्ट्रीय मिशन का उद्देश्य खाद्य तेलों में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही अन्य देशों को निर्यात करना भी है। ध्यातव्य है कि भारत पाम ऑयल का सबसे बड़ा उपभोक्ता एवं आयातक है। भारत में पाम ऑयल की खपत वर्ष 2001 के 3 मिलियन टन से बढ़कर वर्तमान में लगभग 10 मिलियन टन हो गई है।

राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस

13 नवंबर, 2020 को देश भर में 5वें राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाया गया। भारत में प्रत्येक वर्ष धनवंतरी जयंती (धनतेरस) के अवसर पर राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस मनाया जाता है, जिसकी शुरुआत वर्ष 2016 में आयुष मंत्रालय द्वारा की गई थी। इस दिवस के आयोजन का उद्देश्य वर्तमान पीढ़ी में आयुर्वेद के प्रति जागरूकता पैदा करना और समाज में चिकित्सा के आयुर्वेदिक सिद्धांतों को बढ़ावा देना है। इस दिवस को सर्वप्रथम वर्ष 2016 में मनाया गया था। वर्ष 2019 में यह दिवस 25 अक्तूबर को मनाया गया था। वर्ष 2020 के लिये राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस की थीम ‘कोविड-19 के लिये आयुर्वेद ‘ (Ayurveda for Covid-19) रखी गई है। ध्यातव्य है कि आयुर्वेद प्राचीन भारतीय प्राकृतिक और समग्र वैद्य-शास्त्र चिकित्सा पद्धति है। संस्कृत भाषा में आयुर्वेद का अर्थ है ‘जीवन का विज्ञान’ (संस्कृत मे मूल शब्द आयुर का अर्थ होता है ‘दीर्घ आयु’ या आयु और वेद का अर्थ ‘विज्ञान’ से है।

विश्व निमोनिया दिवस

प्रत्येक वर्ष 12 नवंबर को वैश्विक स्तर पर विश्व निमोनिया दिवस (World Pneumonia Day) का आयोजन किया जाता है। इस दिवस की शुरुआत सर्वप्रथम वर्ष 2009 में ‘ग्लोबल कोएलिशन अगेंस्ट चाइल्ड निमोनिया’ द्वारा निमोनिया के बारे में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से की गई थी। निमोनिया फेफड़ों में एक गंभीर संक्रमण की स्थिति है, जो कि बैक्टीरिया के कारण होता है। चूँकि निमोनिया फेफड़ों का संक्रमण है, इसलिये इसके सबसे आम लक्षण खाँसी, साँस लेने में परेशानी और बुखार हैं। निमोनिया से पीड़ित बच्चों में तेज साँस लेने जैसे लक्षण पाए जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, निमोनिया के कारण वैश्विक स्तर पर 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों की सबसे अधिक मृत्यु होती है।

ऑस्ट्रेलिया-भारत जल केंद्र

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- गुवाहाटी (IIT-G) और यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न सिडनी ने संयुक्त तौर पर ऑस्ट्रेलिया-भारत जल केंद्र का शुभारंभ किया है। ऑस्ट्रेलिया-भारत जल केंद्र, ऑस्ट्रेलियाई और भारतीय भागीदारों को जल संरक्षण के क्षेत्र में अवसरों का पता लगाने और अनुसंधान तथा शिक्षा के क्षेत्र में दीर्घकालिक सहयोग स्थापित करने में सक्षम बनाएगा। इस केंद्र में मुख्यतः जल अनुसंधान के क्षेत्र में सहयोग स्थापित करने, जल संरक्षण में एक संयुक्त मास्टर स्तर का प्रोग्राम शुरू करने, कार्यशालाओं का आयोजन और सरकारी एजेंसियों तथा अन्य प्रतिभागियों को जल संरक्षण के क्षेत्र में अल्पकालिक प्रशिक्षण प्रदान करने का कार्य किया जाएगा।


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close