हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 11 Jan, 2022
  • 22 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रवासी भारतीय दिवस 2022

हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas- PBD) भारत के विकास में प्रवासी भारतीय समुदाय के योगदान को चिह्नित करने हेतु मनाया जाता है।

Pravasi-Bharatiya-Divas

प्रमुख बिंदु 

  • पृष्ठभूमि:
    • 9 जनवरी को पीबीडी मनाने के दिन के रूप में चुना गया था क्योंकि इसी दिन वर्ष 1915 में महात्मा गांधी महान प्रवासी, दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे, जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व किया और भारतीयों के जीवन को हमेशा के लिये बदल दिया।
    • वर्ष 2003 से प्रवासी दिवस मनाने की शुरुआत की गई  लेकिन वर्ष 2015 में इसे संशोधित किया गया और हर दो वर्ष पर इसे मनाने का निर्णय लिया गया। यह तब एक विषय-आधारित सम्मेलन था जिसे हर वर्ष अंतरिम अवधि के दौरान किया जाता था।
    • PBD सम्मेलन हर दो वर्ष में एक बार आयोजित किया जाता हैं।
      • पीबीडी 2021: 16वाँ PBD सम्मेलन वस्तुतः नई दिल्ली में आयोजित किया गया था। जिसका विषय था "आत्मनिर्भर भारत में योगदान"
    • इस दिन सरकार प्रवासी भारतीय सम्मान पुरस्कार भी प्रदान करती है।
      • यह एक अनिवासी भारतीय या भारतीय मूल के व्यक्ति और अनिवासी भारतीयों या भारतीय मूल के व्यक्तियों द्वारा स्थापित एवं संचालित एक संगठन/संस्था को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है, जिन्होंने विदेशों में भारत को बेहतर ढंग से समझने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है तथा भारत के कारणों और चिंताओं का मूर्त रूप से समर्थन करते हैं।
  • महत्त्व:
    • यह प्रवासी भारतीय समुदाय को सरकार और देश के मूल लोगों के साथ जुड़ने के लिये एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
    • ये कन्वेंशन दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले प्रवासी भारतीय समुदाय के बीच नेटवर्किंग में बहुत उपयोगी हैं और उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में अपने अनुभव साझा करने में सक्षम बनाते हैं।

प्रवासी भारतीयों से संबंधित सरकारी पहलें

  • प्रवासी कौशल विकास योजना (PKVY): प्रवासी भारतीय कामगारों के कौशल विकास की प्रक्रिया को संस्थागत बनाना।
  • प्रवासी बच्चों के लिये छात्रवृत्ति कार्यक्रम (SPDC): स्नातक पाठ्यक्रमों हेतु भारतीय मूल के व्यक्तियों (PIO) और अनिवासी भारतीय (NRI) छात्रों को प्रतिवर्ष 100 छात्रवृत्तियाँ प्रदान की जाती हैं।
  • ‘भारत को जानो’ कार्यक्रम (केआईपी): यह भारतीय मूल के युवाओं (18-30 वर्ष) को उनकी भारतीय मूल और समकालीन भारत से परिचित कराता है।
  • ई-माइग्रेट सिस्टम: यह एक विदेशी नियोक्ता डेटाबेस है। यह कल्याण सुनिश्चित करता है और प्रवासियों के शोषण पर रोक लगाता है।
  • VAJRA (उन्नत संयुक्त अनुसंधान संकाय का दौरा) योजना: यह एक रोटेशन कार्यक्रम को औपचारिक रूप देता है जिसमें शीर्ष एनआरआई वैज्ञानिक, इंजीनियर, डॉक्टर, प्रबंधक और पेशेवर एक संक्षिप्त अवधि के लिये भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों की सेवा करते हैं, अपनी विशेषज्ञता की सेवा देते हैं।

स्रोत- पी.आई.बी


प्रारंभिक परीक्षा

रेड सैंडर्स

हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) ने रेड सैंडर्स (या रेड सैंडलवुड) को एक बार फिर से अपनी रेड लिस्ट में 'लुप्तप्राय' की श्रेणी में वर्गीकृत किया है।

  • वर्ष 2018 में इसे 'संकट निकट' (Near Threatened) के रूप में वर्गीकृत किया गया था।

Red-Sanders

प्रमुख बिंदु

  • परिचय:
    • यह प्रजाति ‘पटरोकार्पस सैंटलिनस’ (Pterocarpus santalinus) परिवार की एक भारतीय स्थानिक वृक्ष प्रजाति है, जिसकी पूर्वी घाट में एक सीमित भौगोलिक सीमा है।
    • यह प्रजाति आंध्र प्रदेश के विशिष्ट वन क्षेत्रों के लिये स्थानिक है।
    • रेड सैंडर्स आमतौर पर लाल मिट्टी और गर्म एवं शुष्क जलवायु के साथ चट्टानी तथा परती भूमि में उगते हैं।
  • खतरे:
    • तस्करी, वनाग्नि, मवेशी चराने और अन्य मानवजनित खतरों के साथ-साथ अवैध कटाई।
    • रेड सैंडर्स, जो अपने समृद्ध रंग और चिकित्सीय गुणों के लिये जाने जाते हैं, पूरे एशिया में, विशेष रूप से चीन और जापान में, सौंदर्य प्रसाधन एवं औषधीय उत्पादों के साथ-साथ फर्नीचर, लकड़ी के शिल्प तथा संगीत वाद्ययंत्र बनाने के लिये प्रयोग किये जाते हैं।
  • संरक्षण स्थिति

सैंडलवुड स्पाइक रोग

  • यह एक संक्रामक रोग है जो फाइटोप्लाज़्मा के कारण होता है।
    • फाइटोप्लाज़्मा पौधों के ऊतकों के जीवाणु परजीवी हैं- जो कीट वैक्टर द्वारा संचरित होते हैं और एक पौधे से दूसरे पौधे तक संचरण में शामिल होते हैं।
  • अभी तक इसके संक्रमण का कोई इलाज नहीं है।
    • वर्तमान में इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिये संक्रमित पेड़ को काटने और हटाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
  • यह रोग पहली बार वर्ष 1899 में कर्नाटक के कोडागु में देखा गया था।
    • वर्ष 1903 और वर्ष 1916 के बीच कोडागु तथा मैसूर क्षेत्र में दस लाख से अधिक चंदन के पेड़ हटा दिये गए थे।

स्रोत: डाउन टू अर्थ


प्रारंभिक परीक्षा

वीर बाल दिवस

हाल ही में, भारत के प्रधान मंत्री ने घोषणा की है कि 26 दिसंबर को अंतिम सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह के चार पुत्रों "साहिबजादे" के साहस को श्रद्धांजलि देने के लिये "वीर बाल दिवस" ​​के रूप में चिह्नित किया जाएगा।

  • इस तारीख को चुना गया है क्योंकि इस दिन को साहिबजादा जोरावर सिंह और फतेह सिंह के शहादत दिवस के रूप में मनाया जाता था, जो मुगल सेना द्वारा सरहिंद (पंजाब) में छह और नौ साल की उम्र में मारे गए थे।

प्रमुख बिंदु  

  • साहिबजादा जोरावर सिंह और फतेह सिंह के बारे में:
    • साहिबजादा जोरावर सिंह और साहिबजादा फतेह सिंह सिख धर्म के सबसे सम्मानित शहीदों में से हैं।
    • मुगल सैनिकों ने सम्राट औरंगजेब (1704) के आदेश पर आनंदपुर साहिब को घेर लिया।
    • गुरु गोबिंद सिंह के दो पुत्रों को पकड़ लिया गया।
    • मुसलमान बनने पर उन्हें न मारने की पेशकश की गई थी।
    • उन दोनों ने इनकार कर दिया और इसलिये उन्हें मौत की सजा दी गई और उन्हें जिंदा ईंटों से दीवार में चुनवा दिया गया।
    • इन दोनों शहीदों ने धर्म के महान सिद्धांतों से विचलित होने के बजाय मृत्यु को प्राथमिकता दी।
  • गुरु गोबिंद सिंह: 
    • दस सिख गुरुओं में से अंतिम गुरु गोबिंद सिंह का जन्म 22 दिसंबर,1666 को पटना, बिहार में हुआ था।
    • गुरु गोबिंद सिंह अपने पिता ‘गुरु तेग बहादुर’ यानी नौवें सिख गुरु की मृत्यु के बाद 9 वर्ष की आयु में 10वें सिख गुरु बने।
    • वर्ष 1708 में उनकी हत्या कर दी गई थी।
  • योगदान:
    • धार्मिक:
      • उन्हें सिख धर्म में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिये जाना जाता है, जिसमें बालों को ढंकने के लिये पगड़ी भी शामिल है।
      • उन्होंने खालसा या पाँच 'क' के सिद्धांत की भी स्थापना की।
        • पाँच 'क' केश (बिना कटे बाल), कंघा (लकड़ी की कंघी), कारा (लोहे या स्टील का ब्रेसलेट), कृपाण (डैगर) और कचेरा (छोटी जाँघिया) हैं।
        • ये आस्था के पाँच प्रतीक हैं जिन्हें एक खालसा को हमेशा धारण करना चाहिये।
      • उन्होंने खालसा योद्धाओं के पालन करने हेतु कई अन्य नियम भी निर्धारित किये, जैसे- तंबाकू, शराब,  हलाल मांस से परहेज आदि। खालसा योद्धा निर्दोष लोगों को उत्पीड़न से बचाने के लिये भी कर्तव्यनिष्ठ थे। 
      • उन्होंने अपने बाद गुरु ग्रंथ साहिब (खालसा और सिखों की धार्मिक पुस्तक) को दोनों समुदायों का अगला गुरु घोषित किया।
    • सैन्य:
      • उन्होंने वर्ष 1705 में मुक्तसर की लड़ाई में मुगलों के खिलाफ युद्ध किया।
      • आनंदपुर (1704) के युद्ध में गुरु गोबिंद सिंह ने अपनी माँ और दो नाबालिग बेटों को खो दिया, जिन्हें मार डाला गया था। उनका बड़ा बेटा भी युद्ध में मारा गया।
    • साहित्यिक:
      • उनके साहित्यिक योगदानों में जाप साहिब, बेंती चौपाई, अमृत सवाई आदि शामिल हैं।
      • उन्होंने ‘ज़फरनामा’ भी लिखा जो मुगल सम्राट औरंगजेब को एक पत्र था।

प्रारंभिक परीक्षा

‘गेटवे ऑफ हेल’: तुर्कमेनिस्तान

हाल ही में ‘तुर्कमेनिस्तान’ ने विशाल प्राकृतिक गैस भंडारण- ‘दरवाज़ा गैस क्रेटर’ (जहाँ मीथेन, कार्बन डाइऑक्साइड, नाइट्रोजन, हाइड्रोजन सल्फाइड और हीलियम का मिश्रण मौजूद) में अक्सर लगने वाली आग को बुझाने का तरीका खोजने का फैसला किया है। ‘दरवाज़ा गैस क्रेटर’ को 'गेटवे टू हेल' के रूप में भी जाना जाता है।

  • तुर्कमेनिस्तान को मीथेन रिसाव का केंद्र माना जाता है। वर्ष 2019 में तटवर्ती तेल और गैस परिचालन में 50 सबसे गंभीर मीथेन गैस रिसावों में से 31 तुर्कमेनिस्तान में हुए थे।
  • यह ‘एरिज़ोना’ में मौजूद सभी कारों के वार्षिक उत्सर्जन के बराबर जलवायु प्रभाव डालता है।

मीथेन रिसाव की गंभीरता

  • पृथ्वी की सतह पर मौजूद ओज़ोन, जो कि एक खतरनाक वायु प्रदूषक और ग्रीनहाउस गैस है, के निर्माण में मीथेन का प्राथमिक योगदान होता है, जिसके संपर्क में आने से प्रतिवर्ष 1 मिलियन लोगों की मौत हो जाती है।
  • मीथेन (Methane)  भी एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस है। 20 साल की अवधि में यह कार्बन डाइऑक्साइड की तुलना में वायुमंडल को 80 गुना अधिक गर्म करती है। 

Darvaza-Gas-Crater

प्रमुख बिंदु 

  • परिचय:
    • तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अश्गाबात से 260 किलोमीटर दूर काराकुम रेगिस्तान में स्थित यह क्रेटर पिछले 50 सालों से जल रहा है।
    • क्रेटर देश में एक महत्त्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण बन गया है। 2018 में देश के राष्ट्रपति ने आधिकारिक तौर पर इसका नाम बदलकर "काराकुम की चमक" (“Shining of Karakum”) कर दिया।
  • क्रेटर की उत्पत्ति:
    • सोवियत भूवैज्ञानिक काराकुम रेगिस्तान में तेल के लिए ड्रिलिंग कर रहे थे, जब उन्होंने गलती से प्राकृतिक गैस के एक पॉकेट से पृथ्वी ढह गई और तीन विशाल सिंकहोल बन गए। 
      • सिंकहोल जमीन में एक अवसाद है जिसमें कोई प्राकृतिक बाहरी सतह जल निकासी नहीं है, ये ऐसे क्षेत्र हैं जो भूजल द्वारा अंतर्निहित चूना पत्थर के आधार को भंग कर देते हैं।
      • उत्पत्ति का विवरण वास्तव में ज्ञात नहीं है, लेकिन यह कहा गया है कि क्रेटर 1971 में सोवियत ड्रिलिंग ऑपरेशन के दौरान बनाया गया था।
    • स्थानीय लोगों ने यह भी कहा है कि क्रेटर वर्ष 1960 के दशक में बनाया गया था, लेकिन 1980 के दशक तक इसमें आग नहीं लगाई गई थी।
    •  यह भी कहा जाता है कि सोवियत शासन के दौरान तेल और गैस बहुत महँगी वस्तुएँ थीं, इसलिये क्रेटर बनना एक गोपनीय जानकारी बनी हुई है।
  • बंद करने का कारण:
    • यह पर्यावरण और आसपास रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य दोनों पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।
    • मूल्यवान प्राकृतिक संसाधनों की हानि और लोगों की भलाई में सुधार हेतु उनका उपयोग कर सकते हैं।
    • केंद्रीय काराकुम के उप-समृद्धि के त्वरित औद्योगिक विकास में बाधा उत्पन्न करता है।

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस


विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 11 जनवरी, 2022

विश्व हिंदी दिवस 2022

विश्व हिंदी दिवस हर साल 10 जनवरी को मनाया जाता है। विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी, 1975 को नागपुर में आयोजित पहले विश्व हिंदी सम्मेलन की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। इस सम्मेलन का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नागपुर में किया था। सम्मेलन का उद्देश्य दुनिया भर में हिंदी भाषा को बढ़ावा देना था। हिंदी को भारत की मातृभाषा माना जाता है। यह हमारे राष्ट्र की अभिव्यक्ति का सबसे सरल स्रोत है। यह हमारी विरासत है और देश में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। हिंदी शब्द की उत्पत्ति फारसी शब्द हिंद से हुई है, जिसका अर्थ है सिंधु नदी की भूमि। विश्व हिंदी दिवस पहली बार वर्ष 2006 में मनाया गया था। इस दिन हिंदी भाषा के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिये निबंध लेखन, पोस्टर बनाने, प्रश्नोत्तरी, वाद-विवाद जैसी कई प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं। इस दिन देश भर के अधिकांश स्कूल और कॉलेज छात्रों को विभिन्न साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने के लिये प्रोत्साहित करते हैं जैसे कि कविता प्रतियोगिता, निबंध और भाषा में पत्र लेखन आदि।

विश्व हिंदी दिवस 2022: प्रेरणादायक उद्धरण-

  • "यदि सभी भारतीय भाषाओं के लिये एक लिपि की आवश्यकता है, तो वह देवनागरी ही हो सकती है" -जस्टिस कृष्णास्वामी अय्यर
  • "हिंदी हमारे देश की अभिव्यक्ति का सबसे सरल स्रोत है" -सुमित्रा नंदन पंत
  • "हमारी नागरी दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है" -राहुल सांकृत्यायन
  • "एक राष्ट्र राष्ट्रभाषा के बिना गूँगा है" -महात्मा गांधी
  • "हिंदी भारतीय संस्कृति की आत्मा है" -कमलापति त्रिपाठी

फिनटेक विभाग

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने भारत में गतिशील रूप से बदलते वित्तीय परिदृश्य पर ध्यान केंद्रित करने के लिये एक आंतरिक “फिनटेक विभाग” की स्थापना की। RBI सर्कुलर के अनुसार, फिनटेक विभाग की स्थापना 4 जनवरी, 2022 को हुई थी। इस विभाग की स्थापना का निर्णय गतिशील रूप से बदलते परिदृश्य के साथ तालमेल रखते हुए फिनटेक क्षेत्र में नवाचार पर ध्यान केंद्रित करने के लिये लिया गया था। फिनटेक विभाग का उद्देश्य फिनटेक इनोवेशन पर ज़ोर देना, विनियमन क्षेत्र में नवाचार को बढ़ावा देना, इस क्षेत्र से जुड़ी चुनौतियों और अवसरों की पहचान करने के साथ-साथ ऐसी चुनौतियों का समाधान करना है। आरबीआई ने मुख्य रूप से वित्तीय सेवाओं की लागत को कम करने और वित्तीय समावेशन में सुधार के उद्देश्य से नवाचार को आगे बढ़ाने का फैसला किया था। फिनटेक में अधिकांश स्टार्टअप ने अनियमित संस्थाओं के रूप में काम करना शुरू कर दिया था। जून 2018 में आरबीआई की वरिष्ठ प्रबंधन समिति की एक बैठक के परिणामस्वरूप विनियमन विभाग में एक फिनटेक इकाई का निर्माण हुआ था। वर्ष 2019 में आरबीआई ने एक नियामक सैंडबॉक्स के लिये रूपरेखा जारी की। चूंकि अधिकांश फिनटेक गतिविधियाँ तब भुगतान क्षेत्र में थीं, इस यूनिट को जुलाई 2020 में भुगतान और निपटान प्रणाली विभाग में स्थानांतरित कर दिया गया था। 

गंगासागर मेला

हर साल मकर संक्रांति के दौरान आयोजित होने वाला गंगासागर मेला पश्चिम बंगाल के गंगासागर (सागर के रूप में भी जाना जाता है) द्वीप पर 10 जनवरी से 16 जनवरी तक आयोजित होगा। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राज्य सरकार को कोविड-19 की जाँच के लिये आवश्यक उपाय करने के बाद कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दी। न्यायालय ने राज्य सरकार को राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता, पश्चिम बंगाल मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष और राज्य के प्रतिनिधि सहित तीन सदस्यीय पैनल का गठन करने का निर्देश दिया, ताकि सागर द्वीप में कोविड -19 उपायों का अनुपालन सुनिश्चित किया जा सके। इस मेले के दौरान मकर संक्रांति के अवसर पर हज़ारों तीर्थयात्री, संत और पर्यटक गंगा एवं बंगाल की खाड़ी के पवित्र संगम में डुबकी लगाते हैं तथा कपिल मुनि मंदिर में पूजा करते हैं। 

RBI के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल AIIB के उपाध्यक्ष नियुक्त

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल को बीजिंग स्थित एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (AIIB) का उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। उर्जित पटेल इस बहुपक्षीय विकास बैंक के पाँच उपाध्यक्षों में से एक के रूप में तीन साल का कार्यकाल पूरा करेंगे और गुजरात के पूर्व मुख्य सचिव डी.जे. पांडियन, जो उपाध्यक्ष के रूप में एआईआईबी के निवेश कार्यों और दक्षिण व दक्षिण-पूर्व एशिया में सभी संप्रभु तथा गैर-संप्रभु ऋण देने का नेतृत्व कर रहे थे, का स्थान लेंगे। उर्जित पटेल ने दो वर्ष की सेवा के बाद "व्यक्तिगत कारणों" का हवाला देते हुए दिसंबर, 2018 में एक आश्चर्यजनक निर्णय में आरबीआई गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया था। वर्ष 2015 में बीजिंग में लॉन्च किये गए AIIB ने बैंक के किसी भी अन्य सदस्य की तुलना में भारत के लिये अधिक ऋण स्वीकृत किये हैं। चीन इसका सबसे बड़ा शेयरधारक है और भारत दूसरा सबसे बड़ा। अमेरिका और जापान इसके 104 सदस्यों में से नहीं हैं।


एसएमएस अलर्ट
Share Page