इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

टू द पॉइंट


शासन व्यवस्था

भारत @ 75 (भाग II)

  • 14 Sep 2022
  • 33 min read

  भारत @ 75 (भाग l)  

प्रिलिम्स के लिये:

लैंगिक अंतराल सूचकांक (GGI), वैश्विक भुखमरी सूचकांक (GHI), महिला श्रम बल, मानव विकास सूचकांक (HDI), बाल मृत्यु दर, NFHS-5 महिलाओं पर संबंधित निष्कर्ष, शिशु मृत्यु दर, वैश्विक जलवायु जोखिम सूचकांक, भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक

मेन्स के लिये:

समकालीन भारत में महिलाओं की स्थिति, महिलाओं से संबंधित विकास और विकास की चुनौतियाँ, मानव विकास सूचकांक में भारत की स्थिति

स्वतंत्र भारत में महिलाओं की स्थिति

संदर्भ

  • भारत की आजादी के बाद के सात दशकों में, कई लोगों ने उन लोगों के सपने को पूरा करने के लिये कड़ी मेहनत की है जिन्होंने आजादी के लिये लड़ाई लड़ी थी। भारत में सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक दोनों तरह के महत्त्वपूर्ण परिवर्तन हुए हैं और वैश्विक मंच पर सफलताओं को देखा गया है।
  • लेकिन स्वतंत्रता, गरिमा, समान अधिकार और प्रतिनिधित्त्व की लड़ाई में महिलाओं की स्थिति पर विचार करने की आवश्यकता है क्योंकि वे देश की आधी नागरिकता का निर्माण करती हैं।

समकालीन भारत में लैंगिक अंतराल की स्थिति:

  • लिंगानुपात: पिछले दो दशकों में सकारात्मक संकेत देखे गए हैं और अनुपात थोड़ा सुधर कर वर्ष 2011 में प्रति 1,000 पुरुषों पर 943 हो गया, जो वर्ष 2001 की जनगणना में 933 था।
    • इतिहास में पहली बार वर्ष 2021 में महिलाओं का अनुपात पुरुषों से अधिक हुआ। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS) के आंँकड़ों के मुताबिक, प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएंँ हैं।
    • हालाँकि, विशेषज्ञों का मानना था कि यह आंँकड़ा दशकीय जनगणना की तुलना में छोटे नमूने के आकार के कारण भारत के लिंगानुपात का सटीक प्रतिनिधित्त्व नहीं था।
      • वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, बाल लिंगानुपात वर्ष 2011 में 927 से गिरकर प्रति 1,000 पुरुषों पर 914 हो गया।
      • बालिकाओं के प्रति भेदभाव और लिंग-चयनात्मक गर्भपात जैसे कई कारक विषम अनुपात के लिये ज़िम्मेदार हैं।
  • बाल मृत्यु दर: 'चिल्ड्रेन इन इंडिया' शीर्षक सयूनिसेफ की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत एकमात्र बड़ा देश है जहाँ लड़कों की तुलना में अधिक लड़कियों की मृत्यु होती है, जन्म के समय विपरीत लिंगानुपात प्रति 1000 लड़कों पर 900 लड़कियों क्र जन्म का कारण है।
    • विश्व स्तर पर लड़कियों की तुलना में 7% अधिक लड़के 5 वर्ष से कम आयु में मरते हैं लेकिन भारत में 5 वर्ष से कम आयु में 11% अधिक लड़कियों की मृत्यु होती है
    • वैश्विक स्टार पर भारत में सबसे अधिक बालिका वधू भी हैं।
  • लिंग-चयनात्मक गर्भपात: संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की स्टेट ऑफ द वर्ल्ड पॉपुलेशन रिपोर्ट, 2022 के अनुसार, भारत में हर दिन असुरक्षित गर्भपात से संबंधित कारणों की वजह से आठ महिलाओं की मृत्यु हो जाती है, जिससे असुरक्षित गर्भपात देश में मातृ मृत्यु का तीसरा प्रमुख कारण बन जाता है।
    • वर्ष वर्ष 2007 और वर्ष 2011 के बीच भारत में 65% से अधिक गर्भपात को असुरक्षित के रूप में वर्गीकृत किया गया था।
    • NFHS 5 आगे दिखाता है कि एक-चौथाई (27%) से अधिक गर्भपात अप्रशिक्षित महिलाओं द्वारा घर पर बिना किसी सहायता के किये गए।
  • मिसिंग फीमेल्स: स्टेट ऑफ वर्ल्ड पॉपुलेशन वर्ष 2020 में लापता महिलाओं को परिभाषित किया गया है, जो अतीत में प्रसवोत्तर और प्रसवपूर्व लिंग चयन के संचयी प्रभाव के कारण दी गई तारीखों में आबादी से गायब हैं
    • दुनिया की 14.26 करोड़ "लापता महिलाओं" में से 4.6 करोड़ भारत की हैं।
    • वर्ष 2020 में प्रकाशित संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 4.6 लाख लड़कियाँँ वर्ष 2013 और वर्ष 2017 के बीच हर साल जन्म के समय 'लापता' थीं।
      • इसने खतरनाक संख्या के पीछे दो मुख्य कारणों के रूप में लिंग और जन्म के बाद महिला मृत्यु दर के आधार पर लिंग चयन का हवाला दिया।
      • वर्ष 1950 में अपनी स्थापना के बाद से सर्वोच्च न्यायालय में अब केवल 11 महिला न्यायाधीश हुई हैं।

महिला शिक्षा का परिचय:

  • साक्षरता दर: स्वतंत्रता के समय भारत की साक्षरता दर 20% से कम थी। इन वर्षों में, भारत ने महत्त्वपूर्ण प्रगति की है और समग्र दर में सुधार कर 74.04% (जनगणना वर्ष 2011) कर दी है।
    • NFHS-5 रिपोर्ट, जिसमें 15-49 आयु वर्ग में 7.24 लाख महिलाओं और 1 लाख पुरुषों की आबादी का सर्वे था, ने पाया कि महिला साक्षरता दर 72% तक पहुँच गई
      • हालाँकि यह अभी भी वैश्विक औसत दर 87% के मुकाबले 15% कम है।
  • स्कूली शिक्षा की स्थिति: 11% पुरुषों की तुलना में 15-49 वर्ष की आयु के बीच 23% महिलाओं ने अभी भी कोई स्कूली शिक्षा प्राप्त नहीं की थी। एक-चौथाई से अधिक ग्रामीण महिलाएंँ कभी स्कूल नहीं गईं, जबकि शहरी महिलाओं की संख्या 13% थी।
    • पिछले कुछ वर्षों में कुल नामाँकन में वृद्धि हुई है, लेकिन वर्ष 2012 और वर्ष 2021 के बीच प्राथमिक, माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक स्तरों में लड़कों की तुलना में कम संख्या में लड़कियों ने प्रवेश लिया।
    • यूनिफाइड डिस्ट्रिक्ट इंफॉर्मेशन सिस्टम फॉर एजुकेशन प्लस (UDISE+) के अनुसार , वर्ष 2020-21 में 14.2% लड़कियांँ माध्यमिक स्तर पर बाहर हो गईं, जबकि 1% ने वर्ष 2019-20 में बीच में पढ़ाई छोड़ दी
      • लड़कियों के स्कूल छोड़ने के कुछ कारण परिवारं द्वारा शिक्षा छोड़ने का दबाव, कम आयु में शादी और घरेलू ज़िम्मेदारियां हैं।

हेल्थकेयर परिदृश्य क्या है?

  • अल्पपोषण और एनीमिया: भारत ने वैश्विक लैंगिक अंतराल सूचकांक वर्ष 2022 रैंकिंग के "स्वास्थ्य और उत्तरजीविता" उप-सूचकांक में सबसे खराब प्रदर्शन किया, जो 146 देशों में अंतिम था
    • सरकारी आंँकड़ों से पता चलता है कि प्रजनन आयु की लगभग 20% महिलाएंँ कुपोषित हैं
    • 20% पुरुषों की तुलना में 15-49 आयु वर्ग की लगभग 60% महिलाएंँ एनीमिक हैं।
      • एनीमिक महिलाओं की संख्या वर्ष 2015-16 के 53% से बढ़कर वर्ष 2019-21 में 57% हो गई।
  • कुपोषित माताओं का बच्चों पर प्रभाव: माताओं की पोषण स्थिति का बच्चों पर सीधा प्रभाव पड़ता है।
    • NFHS के आंँकड़ों से पता चलता है कि कम वजन वाली माताओं से पैदा होने वाले बच्चों में सामान्य बीएमआई वाली माताओं या उन बच्चों की तुलना में कम वजन वाले या कम वजन होने की संभावना होती है जिनकी माँ अधिक वजन / मोटापे से ग्रस्त हैं।
    • इसमें शिक्षा की भूमिका पर भी प्रकाश डाला गया है। बिना स्कूली शिक्षा वाली माताओं से पैदा हुए बच्चों में से 45% से अधिक बच्चे अविकसित थे, जबकि 26% बच्चे 12 या अधिक वर्षों की स्कूली शिक्षा वाली माताओं से पैदा हुए थे।

कार्यबल में महिलाएंँ कितनी सहभागी हैं?

  • महिला साक्षरता दर में वृद्धि के बावजूद महिलाओं की श्रम शक्ति भागीदारी में तेज़ी से गिरावट आई है।
    • सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकॉनमी (CMIE) की एक रिपोर्ट के अनुसार , वर्ष 2021-22 में लगभग 9% महिलाएंँ कार्यरत थीं या नौकरी की तलाश में थीं
  • महिलाओं के लिये कोविड-19 महामारी का प्रभाव गंभीर था क्योंकि बेरोज़गारी दर 17% तक पहुँच गई, जो पुरुषों की दर से दोगुनी से अधिक थी।
    • सशुल्क कार्य में भाग लेने वाली कामकाजी आयु की महिलाओं का अनुपात वर्ष 2021 में घटकर 19.2% हो गया, जो वर्ष 2006 में 30.7% था।
  • सरकारी आंँकड़ों से यह भी पता चलता है कि भारत में महिलाओं की तुलना में पुरुषों के रोज़गार की संभावना अधिक बनी हुई है। 75% पुरुषों की तुलना में, वर्तमान में लगभग 25% महिलाएंँ कार्यरत हैं।
  • साक्षरता का स्तर, विवाह का बोझ और सार्वजनिक क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका को निर्धारित करने वाले सामाजिक मानदंड कार्यबल में कम भागीदारी के लिये कुछ महत्त्वपूर्ण चालक हैं।
    • दूसरा कारण यह है कि अधिकांश भारतीय महिलाएंँ अवैतनिक घरेलू कार्यों में लगी हुई हैं

महिलाओं की वित्तीय स्वायत्तता के बारे में NFHS-5 क्या कहता है?

  • कामकाजी लड़कियों और महिलाओं में 83% नकद कमाते हैं, जबकि 22% की कोई आय नहीं है
    • सर्वेक्षण से पता चलता है कि 18% विवाहित महिलाएंँ स्वतंत्र वित्तीय निर्णय लेती हैं।
    • नकद कमाने वाली 85% विवाहित महिलाओं का कहना है कि वे अकेले या अपने पति के साथ संयुक्त रूप से निर्णय लेती हैं कि उनकी कमाई का उपयोग कैसे किया जाए।
    • 14% महिलाओं के लिये एक महिला की कमाई के उपयोग के संबंध में पति एकमात्र निर्णय लेने वाला है।
  • 79% महिलाओं के पास बैंक या बचत खाता है जिसका वे स्वयं उपयोग करती हैं।
  • आयु वर्ग की 50% से कुछ ही अधिक महिलाओं के पास मोबाइल फ़ोन है जिसका वे स्वयं उपयोग करती हैं।
  • 42% महिलाओं के पास अकेले या किसी के साथ संयुक्त रूप से घर है।
  • अपने पति के बराबर या उससे अधिक कमाने वाली नियोजित महिलाओं का प्रतिशत 42% (NFHS-4) से घटकर 40% हो गया है

महिलाओं के खिलाफ अपराध:

  • डेटा से पता चलता है कि पिछले कुछ वर्षों में वैवाहिक बलात्कार सहित दुर्व्यवहार, उत्पीड़न और यौन हिंसा के मामलों में वृद्धि हुई है।
    • महिलाओं के खिलाफ अपराध के सरकारी आंँकड़ों से पता चला है कि भारत में वर्ष 2018 में औसतन हर 15 मिनट में एक बलात्कार की घटना देखी गई
  • डिजिटलीकरण के आगमन के साथ, चीज़ें और भी बदतर हो गई हैं, जहाँ महिलाओं को ऑनलाइन परेशान किया जा रहा है और दुर्व्यवहार और बलात्कार की धमकियांँ आम होती जा रही हैं
  • NFHS-5 डेटा में पाया गया कि भारत में लगभग एक-तिहाई महिलाओं ने शारीरिक या यौन हिंसा का अनुभव किया है
    • 18 से 49 वर्ष की आयु के बीच 30% महिलाओं ने 15 साल की आयु से शारीरिक हिंसा का अनुभव किया है और 6% ने अपने जीवनकाल में यौन हिंसा का अनुभव किया है।
  • महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा मामूली रूप से घटकर 31.2% से 29.3% हो गई, लेकिन 32% विवाहित महिलाओं ने शारीरिक, यौन या भावनात्मक वैवाहिक हिंसा का अनुभव किया।

निर्णय लेने में महिलाओं का प्रतिनिधित्त्व:

  • स्वतंत्रता के बाद से निर्णय लेने में महिलाओं के प्रतिनिधित्त्व के संबंध में बहुत कुछ नहीं बदला है- संसद एक पुरुष प्रधान संस्था है।
    • वर्तमान लोकसभा में केवल 14% संसद सदस्य महिलाएंँ हैं। वैश्विक औसत 25 है।
  • अंतर-संसदीय संघ के अनुसार, संसद के निचले सदन में निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के प्रतिशत के मामले में भारत लगभग 200 देशों की सूची में 144वें स्थान पर है।
    • स्वतंत्रता के लगभग सात दशकों में लोकसभा में महिलाओं का प्रतिनिधित्त्व 20% के आंँकड़े को पार करने में विफल रहा है।
  • वर्षों से, राजनीतिक दलों ने कई बार महिलाओं को 33% आरक्षण का वादा किया है, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है।
  • भारतीय न्यायपालिका में स्थिति अलग नहीं है- निचली न्यायपालिका में लगभग 30% महिला न्यायाधीश हैं, उच्च न्यायालयों में 11.5% और वर्तमान में सर्वोच्च न्यायालय में 33 में से केवल चार वर्तमान में न्यायाधीश महिलाएंँ हैं।
    • पंजीकृत 1.7 मिलियन अधिवक्ताओं में से केवल 15% महिलाएंँ हैं।
    • 1950 में अपनी स्थापना के बाद से सर्वोच्च न्यायालय ने केवल 11 महिला न्यायाधीशों को देखा है

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, पिछले वर्ष के प्रश्न (PYQ)

प्रिलिम्स:

प्रश्न. जननी सुरक्षा योजना कार्यक्रम का प्रयास है (वर्ष 2012):

  1. संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना
  2. प्रसव की लागत को पूरा करने के लिये माँ को आर्थिक सहायता प्रदान करना
  3. गर्भावस्था और प्रसूति के कारण मज़दूरी के नुकसान का पुनर्भरण

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

(a) केवल 1 और 2
(b) केवल 2
(c) केवल 3
(d) 1, 2 और 3

उत्तर: (a)


मुख्य:

Q. समय और स्थान के साथ भारत में महिलाओं के लिये निरंतर चुनौतियाँ क्या हैं? (वर्ष 2019)


भारत - आजादी के बाद से विकास

संदर्भ:

  • भारत की स्वतंत्रता ने विकास, अवसर, लोकतांत्रिक शासन और स्वतंत्रता के एक नए युग की शुरुआत की। हालाँकि यह एकमात्र ऐसा क्षेत्र या देश नहीं था जो उस समय अत्यधिक परिवर्तन से गुज़र रहा था।
  • कई अन्य दक्षिण-पूर्व एशियाई और अफ्रीकी देश भी औपनिवेशिक शासन से आज़ादी के लिये लड़ रहे थे या स्वतंत्र हो गए थे।
  • पश्चिम भी द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से उबर रहा था।
  • निस्संदेह, भारत ने पिछले 75 वर्षों में महत्त्वपूर्ण प्रगति की है, लेकिन वैश्विक स्तर पर इसकी स्थिति पर तब गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है, जब विकसित पश्चिम या अन्य देशों की बात आती है, जिन्होंने समान परिस्थितियों में समान समय अवधि के दौरान स्वतंत्रता प्राप्त की थी।

भारत की प्रगति:

  • विकास संकेतक: नए स्वतंत्र भारत में जीवन प्रत्याशा दर बेहद खराब थी और शिशु मृत्यु दर बहुत अधिक थी।
    • पक्की सड़कें कम थीं और अधिकांश के लिये विद्युत की पहुँच एक विलासिता थी
    • हालाँकि भारत दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश बना हुआ है, लेकिन तब से इसने स्वास्थ्य सेवा, बुनियादी ढांचे और प्रौद्योगिकी में बड़ी प्रगति की है। ये तीनों अब आबादी के एक महत्त्वपूर्ण अनुपात के लिये सुलभ हैं।
      • भारत की शिशु मृत्यु दर वर्ष 1960 के 161.8 से घटकर वर्ष 2020 में 27 हो गई।
      • जबकि वर्ष 1990 के दशक में केवल 50% घरों में विद्युत की पहुँच थी, अब यह अंतर व्यावहारिक रूप से निष्क्रिय हो गया।
      • वर्ष 2020 में 40% से अधिक भारतीय इंटरनेट का उपयोग कर रहे थे
  • राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों का प्रदर्शन: विभिन्न सामाजिक आर्थिक और विकास संकेतकों पर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने समय के साथ प्रगति की है लेकिन सुधार का स्तर राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में भिन्न होता है।
    • भारत के उत्तरी, दक्षिणी, मध्य, पूर्वी, पश्चिमी और उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों के प्रदर्शन में काफी अंतर है।
      • दक्षिणी और पश्चिमी राज्यों ने अन्य क्षेत्रों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है।
      • पूर्वी राज्यों, जैसे कि बिहार, ओडिशा और झारखंड ने संकेतकों में खराब प्रदर्शन किया है।

संकेतकों का निष्कर्ष:

  • मानव विकास सूची:
    • मानव विकास सूचकांक (HDI) मानव विकास के तीन प्रमुख आयामों को मापता है:
      • एक दीर्घ और स्वस्थ जीवन (जन्म के समय जीवन प्रत्याशा द्वारा मापा जाता है)
      • ज्ञान (स्कूली शिक्षा के औसत और अपेक्षित वर्षों से मापा जाता है)
      • सभ्य जीवन स्तर (PPP के संदर्भ में प्रति व्यक्ति सकल राष्ट्रीय आय यूएस डॉलर में मापा जाता है)
    • 0-1 के पैमाने पर, 1 उच्चतम संभव HDI है।
      • भारत का HDI वर्ष 1950 में 0.11 अंक बढ़कर वर्ष 2019 में 0.65 हो गया
  • शिशु मृत्यु दर: शिशु मृत्यु दर एक वर्ष में प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर एक वर्ष की आयु तक पहुँचने से पहले मरने वाले शिशुओं की संख्या है।
    • वर्ष 1960 और वर्ष 1975 के बीच, भारत में सातवीं सबसे खराब शिशु मृत्यु दर थी। लेकिन वर्ष 2020 में 27 के IMR के साथ भारत ने पाकिस्तान से बेहतर प्रदर्शन किया।
      • पाँच देश- तुर्की, बांग्लादेश, भूटान, मिस्र और नेपाल- वर्ष 1960-75 की अवधि में भारत से पीछे थे, वर्ष 2020 में बेहतर IMR के साथ आगे बढ़े।
    • राज्यों में, नगालैंड ने वर्ष 2018 में सबसे कम IMR ( 4 ) के साथ केरल को पीछे छोड़ दिया। वर्ष 2018 तक MP में उच्चतम IMR (48) था
  • सरकार में महिलाएंँ: भारत ने संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों के विपरीत कई महिलाओं को सरकार और राजनीतिक नेतृत्व के पदों पर देखा है लेकिन जब हम संसद में महिलाओं के प्रतिशत को देखते हैं, तो यह संख्या वर्ष 2021 में बढ़कर 14% हो गई, जो वर्ष 1997-98 में 7% थी
    • जबकि संसद में महिलाओं की हिस्सेदारी दोगुनी हो गई है, विकास की सापेक्ष गति धीमी रही है क्योंकि कई देशों ने विचाराधीन अवधि में भारत को पीछे छोड़ दिया है।
  • विद्युत और इंटरनेट का उपयोग: वर्ष 1993 और वर्ष 2000 के बीच भारत की 50% से अधिक आबादी की विद्युत तक पहुँच थी। वर्ष 2020 तक भारत अपनी 99% आबादी को विद्युत उपलब्ध कराने में कामयाब रहा।
    • पिछले वर्ष 20 वर्षों में जब इंटरनेट जनता के लिये सुलभ हो गया है, भारत अपनी 43% आबादी तक पहुँच प्रदान करने में कामयाब रहा है
      • भारतीय उपमहाद्वीप में भूटान एकमात्र ऐसा देश है जिसकी रैंक 53.5% है।
    • जबकि भारत ने इंटरनेट और विद्युत की पहुँच जैसे संकेतकों पर अच्छा प्रदर्शन किया है, यह अन्य देशों द्वारा HDI, प्रति व्यक्ति जीडीपी, IMR और महिलाओं के प्रतिनिधित्त्व जैसे संकेतकों से आगे निकल गया है।

राज्य-विशिष्ट परिदृश्य क्या है?

  • HDI के संदर्भ में: राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में वर्ष 1990 में केवल केरल और गोवा ने 0.55 स्कोर किया था, जबकि सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों ने वर्ष 2019 तक इस अंक को पार कर लिया था।
    • वर्ष 2019 में केवल बिहार और उत्तर प्रदेश में HDI 0.6 से कम था।
  • सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी): सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) एक राज्य के भीतर उत्पादित सभी वस्तुओं और सेवाओं के आर्थिक मूल्य का योग है, जिसे एक वर्ष के दौरान बिना दोहराव के गिना जाता है।
    • जबकि सभी राज्यों का राज्य घरेलू उत्पाद वर्ष 1993-94 में ₹20,000 के निशान से नीचे था, यह वर्ष 2019-20 तक ₹30,000 को पार कर गया।
      • वास्तव में इस समय तक, दक्षिण, पश्चिम (राजस्थान को छोड़कर) और उत्तर (उत्तर प्रदेश को छोड़कर) के सभी राज्यों ने ₹1 लाख का आंँकड़ा पार कर लिया था।
  • गरीबी दर: वर्ष 1990 के दशक के मध्य में भारत में आधे से अधिक राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों में गरीबी दर 30% से अधिक थी।
    • अपनी 50% से अधिक आबादी गरीबी रेखा से नीचे होने के साथ बिहार में वर्ष 1993-94 में गरीब लोगों की हिस्सेदारी सबसे अधिक थी।
    • वर्ष 2011-12 तक 10 से कम राज्यों में गरीबी दर 30% से ऊपर थी।
      • सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ (39.9%) ने बिहार को पीछे छोड़ दिया था।
      • 1993-94 में पंजाब (11.8%) में अत्यधिक गरीबी में रहने वाले लोगों की हिस्सेदारी सबसे कम थी।
      • वर्ष 2011-12 तक गोवा की हिस्सेदारी सबसे कम (5.1%) थी।
  • जन्म के समय जीवन प्रत्याशा: जीवन प्रत्याशा उन वर्षों की औसत संख्या है जो एक व्यक्ति के जीवित रहने की संभावना है यदि मृत्यु तक समान मृत्यु दर की स्थिति के संपर्क में है।
    • 1990 और वर्ष 2013-17 की शुरुआत में क्रमशः 72.9 एवं 75.2 की औसत जीवन प्रत्याशा के साथ केरल जन्म के समय उच्चतम जीवन प्रत्याशा वाला राज्य बना रहा।
    • 1991-95 की अवधि में मध्य प्रदेश में सबसे कम जीवन प्रत्याशा (54.7) थी।
      • उत्तर प्रदेश ने वर्ष 2013-17 की अवधि में 65 की जीवन प्रत्याशा के साथ अपना स्थान प्राप्त किया।
  • शौचालय सुविधाएँं: अधिकांश राज्यों में वर्ष 1990 के दशक की शुरुआत में 60% से कम घरों में शौचालय की सुविधा थी। वर्ष 1992-93 में केरल सहित पूर्वोत्तर राज्यों में 70% से अधिक घरों में शौचालय की सुविधा थी।
    • जबकि इस अवधि के दौरान उत्तरी राज्यों में शौचालय सुविधाओं वाले घरों की हिस्सेदारी खराब थी, ऐसे राज्यों ने वर्ष 2019-21 तक दूसरों के साथ प्रगति की।
      • दोनों अवधियों के दौरान शौचालय की सुविधा वाले घरों में मिजोरम का हिस्सा सबसे अधिक था।
    • वर्ष 2019-21 तक केवल झारखंड, ओडिशा और बिहार ने 70% का आंँकड़ा पार नहीं किया था।
  • अशुद्ध ईंधन: वर्ष 1990 के दशक की शुरुआत में लकड़ी जैसे ठोस ईंधन से खाना पकाने वाले घरों की हिस्सेदारी बहुत अधिक थी। इस अवधि के दौरान दक्षिणी राज्य और पूर्वोत्तर राज्य दूसरों से पीछे रह गए।
    • वर्ष 2019-21 तक दक्षिणी राज्यों ने अन्य क्षेत्रों को पीछे छोड़ दिया, जबकि पूर्वोत्तर राज्य पीछे रह गए।
    • अधिकांश पूर्वी और मध्य राज्यों में 40% से अधिक परिवारों ने खाना पकाने के लिये ठोस ईंधन का उपयोग करना जारी रखा

अन्य सूचकांकों पर भारत का प्रदर्शन कैसा है?

  • प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक: यह देशों को 0 से 100 तक के स्कोर पर रैंक प्रदान करता है, जिसमें 100 सर्वश्रेष्ठ स्कोर होता है
    • विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक के वर्ष 2022 संस्करण ने भारत को 180 देशों में से 150 में स्थान दिया।
    • नॉर्वे के 92.65 के मुकाबले भारत का वैश्विक स्कोर 41 था
      • वर्ष 2002 में भारत की रैंक 80 थी
  • पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक: पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक (ईपीआई) वर्ष 2022 ने जलवायु परिवर्तन को कम करने, पर्यावरणीय स्वास्थ्य में सुधार और पारिस्थितिकी तंत्र की जीवन शक्ति की रक्षा करने से संबंधित मापदंडों में प्रदर्शन के आधार पर भारत को 180 देशों में सबसे निचले पायदान पर रखा है।
    • पिछले 10 सालों में भारत की रैंक में 55 अंक की गिरावट आई है।
  • वैश्विक भुखमरी सूचकांक: वैश्विक भुखमरी सूचकांक (GHI) निम्नलिखित संकेतकों के आधार पर देशों की वार्षिक रैंकिंग है: अल्पपोषण, चाइल्ड वेस्टिंग, बाल स्टंटिंग, बाल मृत्यु दर।
    • रिपोर्ट पहली बार वर्ष 2006 में प्रकाशित हुई थी और भारत 119 देशों में 96वें स्थान पर था । अक्तूबर 2021 में प्रकाशित ताज़ा रिपोर्ट में भारत 116 देशों में 101वें स्थान पर था।
  • वैश्विक जलवायु जोखिम सूचकांक: यह विश्लेषण करता है कि किस हद तक देश मौसम से संबंधित नुकसान की घटनाओं जैसे- तूफान, बाढ़ आदि से प्रभावित हुए हैं। रैंक जितना अधिक होगा, किसी देश पर मौसम संबंधी घटनाओं का प्रभाव उतना ही खराब होगा।
    • वर्ष 2021 के वैश्विक जलवायु जोखिम सूचकांक के अनुसार, वर्ष 2019 में सबसे ज्यादा प्रभावित देश मोजाम्बिक, जिम्बाब्वे और बहामा थे।
      • शीर्ष दस में भारत सातवें स्थान पर था।
  • भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक: यह "विशेषज्ञों और व्यवसायियों के अनुसार सार्वजनिक क्षेत्र के भ्रष्टाचार के कथित स्तरों" के आधार पर देशों को 0 से 100 के पैमाने पर स्कोर करता है। 0 अत्यधिक भ्रष्ट है, जबकि 100 बहुत अच्छी स्थिति है
  • हेनले पासपोर्ट इंडेक्स: यह मापता है कि किसी देश का पासपोर्ट कितना शक्तिशाली है (उन गंतव्यों की संख्या जहाँ एक देश का पासपोर्ट धारक बिना पूर्व वज़ा के यात्रा कर सकता है)।
    • हेनले पासपोर्ट इंडेक्स का पहला संस्करण वर्ष 2006 में प्रकाशित हुआ था, जब भारत 71वें स्थान पर था
      • रिपोर्ट के वर्ष 2022 संस्करण में भारत 87वें स्थान पर है; भारतीय पासपोर्ट धारक दुनिया भर में 60 वीजा-मुक्त गंतव्यों तक पहुँच सकते हैं।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, पिछले वर्ष के प्रश्न (PYQ)

प्रिलिम्स:

प्रश्न. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये: (वर्ष 2009)

  1. शिशु मृत्यु दर जन्म के एक महीने के भीतर शिशुओं की मृत्यु को ध्यान में रखती है।
  2. शिशु मृत्यु दर उस वर्ष के दौरान प्रति 100 जीवित जन्मों पर एक विशेष वर्ष में शिशु मृत्यु की संख्या है।

उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1 और न ही 2

 वर्ष: (d)


मुख्य:

प्रश्न: उच्च विकास के लगातार अनुभव के बावजूद भारत अभी भी मानव विकास के निम्नतम संकेतकों के साथ है। उन मुद्दों की जाँच कीजिये जो संतुलित और समावेशी विकास को आदर्शवादी बनाते हैं। (वर्ष 2019)

प्रश्न. राष्ट्रीय बाल नीति के मुख्य प्रावधानों की जाँच कीजिये और इसके कार्यान्वयन की स्थिति पर प्रकाश डालिये। (वर्ष 2016)

प्रश्न. भारत के कुछ सबसे समृद्ध क्षेत्रों में महिलाओं के लिये प्रतिकूल लिंगानुपात क्यों है? अपने तर्क दीजिये। (वर्ष 2014) 

close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2