हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 21 May 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तराखंड Switch to English

शिव सर्किट में शामिल होगी ‘महादेव गुफा’

चर्चा में क्यों?

हाल ही में कुमाऊँ मंडल विकास निगम के साहसिक पर्यटन प्रबंधक दिनेश गुरुरानी ने बताया कि चीन सीमा से लगे उत्तराखंड के गाँव सीपू के निकट स्थित पौराणिक महादेव गुफा को शिव सर्किट से जोड़ा जाएगा।

प्रमुख बिंदु

  • गुरुरानी के अनुसार कुमाऊँ मंडल विकास निगम द्वारा धारचुला की उच्च हिमालयी दारमा घाटी के अंतिम गाँव सीपू के समीप स्थित इस गुफा को आदि कैलाश यात्रा मार्ग में शामिल करने से धार्मिक पर्यटन को नया अवसर प्राप्त होगा।
  • पौराणिक मान्यताओं (शिव पुराण) के अनुसार, सती के अग्निकुंड में समाहित हो जाने के बाद भगवान शिव ने इसी गुफा को अपनी तपस्थली बनाया था।
  • गौरतलब है कि राज्य में विद्यमान विभिन्न शिव मंदिरों को धार्मिक पर्यटन के केंद्र के रूप में विकसित करने हेतु उत्तराखंड के पर्यटन विभाग द्वारा शिव सर्किट प्रारंभ किया गया है।
  • यह सर्किट उत्तराखंड के 24 शिव मंदिरों को शामिल करते हुए पौड़ी गढ़वाल स्थित एकेश्वर महादेव मंदिर से शुरू होकर बागेश्वर स्थित दांडेश्वर मंदिर में समाप्त होता है।

उत्तर प्रदेश Switch to English

खिड़किया (नमो) घाट पर बनेगा देश का पहला फ्लोटिंग स्विमिंग पूल

चर्चा में क्यों?

हाल ही में वाराणसी के मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने बताया कि खिड़किया घाट पर स्मार्ट सिटी की ओर से गंगा की लहरों के बीच फ्लोटिंग स्विमिंग पूल बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है।

प्रमुख बिंदु

  • वाराणसी के घाटों पर गंगा स्नान के महात्म्य को देखते हुए स्मार्ट सिटी मानसून के बाद खिड़किया (नमो) घाट में यह पूल तैयार करेगा।
  • यहाँ महिला और पुरुष श्रद्धालुओं के लिये अलग-अलग पूल के साथ ही चेंजिंग रूम भी बनाए जाएंगे।
  • यदि गंगा की लहरों पर बनने वाले इन कुंडों और चेंजिंग रूम का प्रयोग खिड़किया घाट पर सफल रहा तो इसे काशी के स्नान वाले दूसरे घाटों पर भी तैयार किया जाएगा, जिसके लिये ललिता, दशाश्वमेध, असी, पंचगंगा, तुलसी घाट सहित अन्य घाटों पर इस तरह के कुंड के निर्माण के लिये अध्ययन कराया जा रहा है।
  • उल्लेखनीय है कि स्मार्ट सिटी की ओर से 34 करोड़ रुपए से खिड़किया घाट को आधुनिक सुविधाओं के साथ विकसित किया जा रहा है।

राजस्थान Switch to English

राजस्थान आर्किटेक्चर फेस्टिवल

चर्चा में क्यों?

20 मई, 2022 को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर स्थित होटल क्लार्क्स आमेर में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स के राजस्थान चेप्टर की ओर से आयोजित ‘राजस्थान आर्किटेक्चर फेस्टिवल’का उद्घाटन किया।

प्रमुख बिंदु

  • इस अवसर पर गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शहरों को आगामी 20-25 वर्षों की आवश्यकता के अनुरूप नियोजित करने के लिये वास्तुविदों और नगर नियोजकों का पैनल तैयार किया गया है।
  • राजस्थान ऐसा राज्य है, जिसने सभी नगरों के मास्टर प्लान और राज्य के लिये आधुनिक बिल्डिंग बाय-लॉज तैयार किये हैं।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने वर्ष 1972 में संसद से वास्तुविद् अधिनियम पारित कराकर और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने प्रसिद्ध वास्तुविद् और नगर नियोजक चार्ल्स कोरिया को महत्त्व देकर देश के नगरीय विकास की मज़बूत नींव रखी थी।
  • जयपुर में कला एवं संस्कृति को आमजन तक पहुँचाने के लिये जवाहर कला केंद्र भवन का डिज़ाइन कार्य भी चार्ल्स कोरिया ने ही किया था।
  • समारोह में स्वायत्त शासन एवं नगरीय विकास मंत्री शांती कुमार धारीवाल ने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से ही जयपुर परकोटा यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल हुआ है।

मध्य प्रदेश Switch to English

भोपाल स्थित जामा मस्जिद को लेकर विवाद

चर्चा में क्यों?

19 मई, 2022 को भोपाल में संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें जामा मस्जिद में ‘शिव मंदिर’(Shiva Temple) होने का दावा किया गया है।

प्रमुख बिंदु

  • संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी के अनुसार अंग्रेज़ों के भोपाल स्टेट गजेटियर-1908 में मस्जिद में शिव मंदिर होना बताया गया है, जबकि इसके 50 साल के बाद 1958 में मस्जिद का वक्फ रजिस्ट्रेशन हुआ था।
  • भोपाल की पहली महिला शासक कुदसिया बेगम ने 1832 से 1857 ई. के बीच यह मस्जिद बनवाई थी, जिसका ज़िक्र उनकी पुस्तक ‘हयाते कुदसी’में किया गया है। इस पुस्तक में भी मस्जिद में शिव मंदिर होना बताया गया है।
  • गौरतलब है कि नौ मीटर वर्गाकार ऊँची जगह पर निर्मित यह मस्जिद भी दिल्ली की जामा मस्जिद की तरह ही चारबाग पद्धति पर आधारित है।
  • मस्जिद के चारों कोनों पर ‘हुजरे’बने हैं, अंदर बड़ा आंगन है तथा मस्जिद का प्रार्थना स्थल अर्द्ध स्तंभ एवं स्वतंत्र स्तंभ पर आधारित है।

हरियाणा Switch to English

हरियाणा-दिल्ली जल विवाद

चर्चा में क्यों?

20 मई, 2022 को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दिल्ली सरकार द्वारा उसके हिस्से का पानी नहीं देने के आरोप पर कहा कि हरियाणा सर्वोच्च न्यायालय के आदेश और प्रदेशों के समझौतों के अनुसार दिल्ली को उसके हिस्से का 1049 क्यूसिक पूरा पानी दे रहा है।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा दिल्ली के हैदरपुर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, नांगलोई वाटर ट्रीटमेंट प्लांट और वज़ीराबाद/चंद्रावल वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के लिये पानी की आपूर्ति करता आ रहा है।
  • गौरतलब है कि सर्वोच्च न्यायालय ने 29 फरवरी, 1996 को हरियाणा सरकार को निर्देश दिये थे कि दिल्ली को प्रतिदिन 330 क्यूसिक अतिरिक्त पानी दिया जाए। इससे पहले दिल्ली का पानी में हिस्सा प्रतिदिन 719 क्यूसिक था।
  • ध्यातव्य है कि गत वर्ष दिल्ली सरकार द्वारा हरियाणा के विरुद्ध याचिका दाखिल कर सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना का आरोप लगाया गया था, क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय ने 1996 में अपने निर्णय में दिल्ली की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये वज़ीराबाद प्लांट में हमेशा पानी का उच्च स्तर बनाए रखने का निर्देश दिया था। जबकि दिल्ली सरकार के अनुसार हरियाणा द्वारा इसका पालन नहीं किया जा रहा है।

झारखंड Switch to English

साइंस फिल्म फेस्टिवल की मेज़बानी करेगा बोकारो

चर्चा में क्यों?

हाल ही में सोसाइटी फॉर साइंस संस्था के अध्यक्ष डॉ. टी. पचाल ने बताया कि स्वतंत्रता के 75वें वर्ष को विज्ञान जागरूकता वर्ष के रूप में मनाते हुए बोकारो में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल की मेज़बानी करने का निर्णय लिया गया है।

प्रमुख बिंदु

  • साइंस फॉर सोसाइटी, झारखंड की कार्यकारिणी समिति बोकारो की बैठक में सर्वसम्मति से बोकारो में पहली बार साइंस फिल्म फेस्टिवल मनाने का फैसला किया गया है। यह दोदिवसीय कार्यक्रम इस साल सितंबर में आयोजित होगा।
  • इस फिल्म महोत्सव में देश भर की करीब 30 पुरस्कार विजेता फिल्मों की स्क्रीनिंग की जाएगी। झारखंड, बंगाल, असम, उत्तराखंड, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गोवा, ओडिशा, कर्नाटक, दिल्ली और अन्य राज्यों में निर्मित विज्ञान फिल्मों का भी प्रदर्शन किया जाएगा।
  • फिल्म के निर्माता और निर्देशक भी इस महोत्सव में भाग लेंगे। इसके अलावा इस कार्यक्रम में ज़िले के छात्र, शिक्षक, डॉक्टर, इंजीनियर और नागरिक भाग लेंगे।
  • बोकारो के सोसाइटी फॉर साइंस के महासचिव राजेंद्र कुमार ने कहा कि यह फिल्म महोत्सव बच्चों को विज्ञान को बढ़ावा देने और प्रचार करने के लिये काफी हद तक प्रेरित करेगा।

छत्तीसगढ़ Switch to English

मुख्यमंत्री ने बीजापुर में ज्ञान गुड़ी एजुकेशन सिटी का किया लोकार्पण

चर्चा में क्यों?

20 मई, 2022 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान बीजापुर में ज्ञान गुड़ी एजुकेशन सिटी का लोकार्पण कर परिसर में रुद्राक्ष के पौधे का रोपण किया।

प्रमुख बिंदु

  • एजुकेशन सिटी परिसर में संचालित छू लो आसमान कोचिंग सेंटर में 9वीं से 12वीं तक के बच्चों को नीट, जेईई मेंस, एडवांस, बोर्ड एग्जाम आदि एंट्रेंस एग्जाम के लिये नि:शुल्क शिक्षा दी जा रही है। इस वर्ष जेईई में 3 बच्चे, नीट में 5 बच्चों का चयन हुआ हैं।
  • परिसर में लड़कों व लड़कियों के सर्वसुविधायुक्त हॉस्टल स्थित हैं। परिसर में स्थित स्पोर्ट्स स्टेडियम में विभिन्न खेल, जैसे- फुटबॉल, वॉलीबॉल, तीरंदाज़ी, स्विमिंग, कबड्डी, जूडो-कराटे, एथलेटिक्स इत्यादि का प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
  • यहाँ 280 बच्चों की क्षमता है तथा वर्तमान में 90 बच्चे प्रशिक्षणरत् है। 5 बच्चे अंतर्राष्ट्रीय खेल व 2 बच्चे खेलो इंडिया में विजेता रहे।
  • समर्थ पुनर्वास केंद्र में बच्चों को टीचिंग लर्निंग मटेरियल के माध्यम से सिखाया जाता है। समर्थ में वर्तमान में बीजापुर ज़िले के सभी विकासखंड के 40 बच्चे हैं, जिन्हें शासन द्वारा मुफ्त में भोजन, आवास आदि सभी सुविधाएँ दी जा रही हैं। यहाँ मानसिक, दृष्टिबाधित अन्य दिव्यांग बच्चों को समर्थ के प्रयास से शिक्षित बनाया जा रहा है।
  • संवेदी कक्ष में 21 प्रकार की फिजिकल डिसएबिलिटी वाले बच्चे प्रशिक्षणरत् हैं। यहाँ दृष्टिबाधित बच्चों को हाथों व पैरों के स्पर्श से वस्तुओं एवं रंगों की पहचान करने और स्वाद चखकर खाद्य पदार्थों को पहचानने का भी प्रशिक्षण दिया जाता है।

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page