प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 29 जुलाई से शुरू
  संपर्क करें
ध्यान दें:

उत्तर प्रदेश स्टेट पी.सी.एस.

  • 15 Jun 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तर प्रदेश Switch to English

स्टार्टअप और ग्रामीण उद्यमों को ऋण प्रवाह

चर्चा में क्यों?

उत्तर प्रदेश सरकार ने युवाओं के लिये वित्तीय सहायता प्रदान करने और स्वरोज़गार के अवसर सृजन करने हेतु स्टार्टअप तथा ग्रामीण उद्यमों को संस्थागत ऋण प्रवाह को आसान बनाया है।

  • इसके अलावा, राज्य पर्यटन विभाग ने ग्रामीण पर्यटन को बेहतर बनाने और रोज़गार सृजन के लिये दो समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं।

मुख्य बिंदु:

  • राज्य ने दो ऋण योजनाओं के तहत लगभग 8,300 उद्यमों को वित्तपोषित करने की योजना बनाई है: मुख्यमंत्री युवा स्वरोज़गार योजना (MYSY) और मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोज़गार योजना (MMGRY)
    • राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (SLBC) की रिपोर्ट के अनुसार, MYSY और MMGRY के तहत क्रमशः 6,259 तथा 723 इकाइयों को स्वीकृति दी गई है।
  • स्टार्टअप और ग्रामीण उद्यमों को 163 करोड़ रुपए से अधिक का संस्थागत वित्त पोषण मिला है।
    • MYSY के तहत, राज्य उद्योग स्थापित करने के लिये 25 लाख रुपए तक और सेवा क्षेत्र की संस्थाओं के लिये 10 लाख रुपए तक का ऋण प्रदान करता है।
    • उत्तर प्रदेश में लगभग 52 सरकारी मान्यता प्राप्त इनक्यूबेटर हैं और उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग के साथ 7,200 से अधिक स्टार्टअप पंजीकृत हैं।
  • हस्ताक्षरित समझौतों से स्थायी पर्यटन और सामुदायिक सशक्तीकरण को बढ़ावा मिलेगा तथा  सुविधाओं एवं बुनियादी ढाँचे में वृद्धि होगी, जिससे पर्यटकों को स्थानीय ग्रामीण जीवन का एक प्रामाणिक अनुभव मिलेगा।
  • राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (UPSRLM) और मान्यवर कांशीराम पर्यटन प्रबंधन संस्थान के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये गए हैं।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2