हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

उत्तराखंड स्टेट पी.सी.एस.

  • 14 Jan 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तराखंड Switch to English

दून स्कूल के छात्र आराध्य ‘भौतिकी विश्व कप’में करेंगे देश का प्रतिनिधित्व

Star marking (1-5) indicates the importance of topic.

चर्चा में क्यों?

हाल ही में उत्तराखंड के देहरादून के प्रसिद्ध दून स्कूल के कक्षा नौ के छात्र आराध्य जैन का चयन 35वें अंतर्राष्ट्रीय भौतिक विज्ञान टूर्नामेंट (आईवाईपीटी 2022) के लिये पाँच सदस्यीय भारतीय टीम में हुआ है। वह रोमानिया के टिमिसोआरा में होने वाली अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे।

प्रमुख बिंदु 

  • गौरतलब है कि भौतिकी विश्व कप के नाम से यह स्पर्धा प्रसिद्ध है। यह स्कूली छात्रों की टीमों के बीच होने वाली वैज्ञानिक प्रतियोगिता है।
  • टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व करने वाले पाँच छात्रों का चयन इंडिया युवा भौतिक विज्ञान टूर्नामेंट (आईएनवाईपीटी) में तीन कठिन राउंड के बाद हुआ है।
  • दून स्कूल के शिक्षक आनंद कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि इसमें एक प्रोजेक्ट मिलता है। एक समस्या दी जाती है, जिसका हल निकालना होता है। विषय को सार्वजनिक नहीं किया जाता। दून स्कूल के छात्र आराध्य ने इसके लिये काफी मेहनत की। अंतिम दौर तक पहुँचकर अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिये चयनित हुए।
  • टीम के सदस्य दुनिया भर के प्रकाशित वैज्ञानिक अनुसंधान और प्राप्त परिणामों को पुन: दल के रूप में खोजबीन करते हैं।
  • टीम इंडिया आईएनवाईपीटी चयन में चार एलिमिनेशन राउंड होते हैं, जहाँ जजों की ओर से समान रूप से संपूर्ण समाधान वाली क्रिप्टिक भौतिकी पर आधारित समस्याओं की मांग की जाती है, जो प्रतिभागियों के कौशल स्तर को निर्धारित करता है। अथक् प्रयास, ऑनलाइन उपलब्ध सीमित जानकारी, प्रत्येक वर्ष अपने कौशल का परीक्षण करना, अंतिम दौर तक पहुँचकर अंतिम पाँच छात्रों में चयनित होना इस प्रतियोगिता की अर्हताएँ हैं।
  • ये पाँच चयनित छात्र अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तीस देशों के प्रतिभागियों से प्रतिस्पर्धा करते हैं।
  • उल्लेखनीय है कि जुलाई के मध्य में रोमानिया अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता होनी है। अगर कोविड महामारी नहीं रही तो छात्र रोमानिया जाकर अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगे, वरना प्रतियोगिता ऑनलाइन होगी।
  • आराध्य ने पिछले साल 8वाँ स्थान हासिल किया था। टीम इंडिया में शामिल होने से वह बहुत कम अंक से रह गए थे।

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page