इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

बिहार स्टेट पी.सी.एस.

  • 04 Mar 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
बिहार Switch to English

प्रधानमंत्री ने बिहार में विकास परियोजनाओं का अनावरण किया

चर्चा में क्यों?

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के औरंगाबाद ज़िले में 21,400 करोड़ रुपए की विकास परियोजनाओं का अनावरण किया।

मुख्य बिंदु:

  • 18,000 करोड़ रुपए से अधिक की राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन किया गया।
  • PM ने गंगा पर छह लेन वाले पुल की आधारशिला रखी, जिसका निर्माण मौजूदा जेपी (जयप्रकाश नारायण) गंगा सेतु के समानांतर किया जाएगा। साथ ही, पटना में यूनिटी मॉल की आधारशिला रखी, जिसका निर्माण 200 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से किया जाएगा और यह 'एक ज़िला, एक उत्पाद' परियोजना को बढ़ावा देगा।
  • उन्होंने तीन रेलवे परियोजनाएँ राष्ट्र को समर्पित कीं, जिनमें पाटलिपुत्र-पहलेजा लाइन का दोहरीकरण और बँधुआ एवं पैमार के बीच 26 किलोमीटर लंबी नई लाइन शामिल है।
  • पीएम ने नमामि गंगे योजना के तहत 2,190 करोड़ से अधिक की 12 परियोजनाओं का भी उद्घाटन किया।
    • इनमें पटना, सोनपुर, नौगछिया और छपरा के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट शामिल हैं।

एक ज़िला एक उत्पाद पहल

  • ODOP देश के प्रत्येक ज़िले से एक उत्पाद को बढ़ावा देने और ब्रांडिंग करके ज़िला स्तर पर आर्थिक विकास को बढ़ावा देने की एक पहल है।
  • इसका उद्देश्य प्रत्येक ज़िले की स्थानीय क्षमता, संसाधनों, कौशल और संस्कृति का लाभ उठाना तथा घरेलू एवं अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में उनकी एक विशिष्ट पहचान बनाना है।
  • ODOP की अवधारणा को सर्वप्रथम उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जनवरी 2018 में विकसित की गई थी।
    • यह योजना राज्य के पारंपरिक उद्योगों और शिल्प, जैसे- चिकनकारी कढ़ाई, पीतल के बर्तन, मिट्टी के बर्तन, कालीन, चमड़े की वस्तुएँ आदि को पुनर्जीवित करने में सफल रही।
    • इससे प्रेरित होकर केंद्र सरकार ने इस अवधारणा को अपनाया और इसे एक राष्ट्रीय पहल के रूप में लॉन्च किया।

नमामि गंगे कार्यक्रम

  • नमामि गंगे कार्यक्रम एक एकीकृत संरक्षण मिशन है, जिसे जून 2014 में केंद्र सरकार द्वारा ‘फ्लैगशिप कार्यक्रम' के रूप में अनुमोदित किया गया था, ताकि प्रदूषण के प्रभावी उन्मूलन और राष्ट्रीय नदी गंगा के संरक्षण एवं कायाकल्प के दोहरे उद्देश्यों को पूरा किया जा सके।
  • यह जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग तथा जल शक्ति मंत्रालय के तहत संचालित किया जा रहा है।
  • यह कार्यक्रम राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (NMCG) और इसके राज्य समकक्ष संगठनों यानी राज्य कार्यक्रम प्रबंधन समूहों (SPMGs) द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।
  • NMCG राष्ट्रीय गंगा परिषद का कार्यान्वयन विंग है (वर्ष 2016 में स्थापित किया गया था; जिसने राष्ट्रीय गंगा नदी बेसिन प्राधिकरण- NGRBA का स्थान लिया)।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2