हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

उत्तराखंड स्टेट पी.सी.एस.

  • 01 Oct 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड में मोहाली की तर्ज़ पर बसेंगे अलग-अलग शहर

चर्चा में क्यों?

30 सितंबर, 2022 को उत्तराखंड के शहरी विकास एवं आवास के अपर मुख्य सचिव आनंदवर्द्धन ने चंडीगढ़ के उप नगर मोहाली की तर्ज़ पर उत्तराखंड में भी अब अलग-अलग शहर बसाए जाने की जानकारी दी।

प्रमुख बिंदु

  • राज्य में अब अलग-अलग शहर बसाए जाने के संबंध में उत्तराखंड आवास एवं विकास परिषद ने निजी विकासकर्त्ताओं से आवेदन मांगे हैं। यह टाउनशिप तीन श्रेणियों में विकसित की जा सकती है।
  • नेबरहुड- यह छोटी टाउनशिप होगी। मैदानी क्षेत्रों में छह हेक्टेयर से 20 हेक्टेयर और पर्वतीय क्षेत्रों में तीन हेक्टेयर से दस हेक्टेयर भूमि पर ही यह टाउनशिप विकसित की जा सकेगी।
  • टाउनशिप- मैदानी क्षेत्रों में 20 से 40 हेक्टेयर भूमि पर और पर्वतीय क्षेत्रों में 10 से 20 हेक्टेयर भूमि पर यह टाउनशिप विकसित की जा सकेगी।
  • स्पेशल टाउनशिप- मैदानी क्षेत्रों में 40 हेक्टेयर से अधिक भूमि और पर्वतीय क्षेत्रों में 20 हेक्टेयर से अधिक भूमि पर यह टाउनशिप विकसित की जाएगी।
  • उत्तराखंड सरकार की इस योजना का उदेश्य यह है कि पुराने शहरों का बोझ कम हो और नए शहरों में लोगों को अत्याधुनिक सुविधाएँ मिलें। सभी टाउनशिप की उत्तराखंड आवास एवं विकास परिषद निगरानी करेगा।
  • सरकार ने इस योजना को अमलीजामा पहनाने के लिये टास्क फोर्स का गठन किया है। प्राप्त आवेदनों का सर्वेक्षण कराया जाएगा। विशेषज्ञ यह बताएंगे कि संबंधित ज़मीन पर टाउनशिप विकसित हो सकती है या नहीं। इसके बाद उस जगह का मास्टर प्लान तैयार होगा। विकासकर्त्ता को उस जगह पर सड़क, बिजली, पानी जैसी मूलभूत सुविधाएँ उपलब्ध करानी होंगी।
  • भू-उपयोग परिवर्तन से लेकर मास्टर प्लान, रेरा से पंजीकरण सहित तमाम सरकारी कामों में विकासकर्त्ता को परिषद से सहयोग मिलेगा, हालाँकि सरकारी शुल्क जमा कराने होंगे।
  • मोहाली की तर्ज़ पर जो शहर बनेंगे, वहाँ स्कूल, कॉलेज से लेकर अस्पताल और खेल के मैदान तक की पूरी सुविधा होगी।
  • मोहाली को जैसे सेक्टर में बाँटा गया है, वैसे ही उत्तराखंड के शहरों को भी सेक्टर में बाँटा जा सकेगा। इसमें विशेष क्षेत्र, जैसे- आईटी कंपनियों के लिये या अन्य रोज़गार देने वाली कंपनियों के लिये भी अलग से जगह सुरक्षित की जाएगी।

उत्तराखंड Switch to English

मुख्यमंत्री ने डोईवाला में रानीपोखरी जाखन पुल का उद्घाटन किया

चर्चा में क्यों?

30 सितंबर, 2022 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने डोईवाला में आयोजित एक कार्यक्रम में ऋषिकेश-भानियावाला मोटर मार्ग पर महत्त्वपूर्ण रानीपोखरी जाखन नदी और विधानसभा विकासनगर के अंतर्गत लंबरपुर लांघा मोटर मार्ग में शीतला नदी पर बने पुल का उद्घाटन किया।

प्रमुख बिंदु 

  • गौरतलब है कि पिछले साल 2021 में पुल टूट जाने के बाद जनवरी 2022 में नया पुल बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी। कार्यदायी संस्था हिमालयन कंस्ट्रक्शन ने पुल निर्माण का कार्य 6 जुलाई को पूरा कर लिया।
  • मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि ऋषिकेश, गढ़वाल आदि को राजधानी से जोड़ने वाला यह महत्त्वपूर्ण पुल है। पुल से स्थानीय जनता के अलावा सैलानियों को भी सुगमता होगी।
  • केंद्रीय सड़क अवसंरचना निधि से जनपद के विकास खंड डोईवाला के अंतर्गत भानियावाला मार्ग मोटर मार्ग के 15किमी. में 280 मीटर स्पान के गर्डर सेतु का निर्माण किया गया है। रानीपोखरी पुल के लिये स्वीकृत लागत 18 करोड़ रुपए थी।
  • मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन और दिल्ली-देहरादून एलिवेटेड रोड पर तेज़ी से काम चल रहा है। एलिवेटेड रोड प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद दिल्ली और देहरादून के बीच की दूरी दो घंटे में पूरी हो जाएगी।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि चारधाम सड़क परियोजना की तर्ज़ पर मानसखंड कॉरिडोर को भी राज्य का फ्लैगशिप प्रोजेक्ट तय कर इस पर कार्य शुरू कर दिया गया है। ऑल वेदर रोड से अब यात्रा सुगम व सुरक्षित हो गई है।

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page