हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • कोरिऑलिस बल को परिभाषित करते हुए मौसम संबंधी गतिविधियों में इसके महत्त्व की चर्चा करें। बताएँ कि भूमध्य रेखा पर इसका न शून्य क्यों होता है?

    10 Feb, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा:

    • कोरिऑलिस बल को परिभाषित करते हुए मौसम सम्बक्न्धी गतिविधियों में इसकी भूमिका को स्पष्ट करें।
    • बताएँ कि भूमध्य रेखा पर इसका मान शून्य क्यों होता है।

    कोरिऑलिस बल एक आभासी बल है जो पृथ्वी के घूर्णन के कारण उत्पन्न होता है। वस्तुतः पृथ्वी के विभिन्न अक्षांशों में परिधि का आकार तथा केंद्र से दूरी  के कारण पृथ्वी की घूर्णन गति भिन्न भिन्न होती है। इस गति-भिन्नता के कारण कोई भी गतिमान वस्तु जो एक अक्षांश से दूसरे अक्षांश की ओर गतिमान होती है, उस पर यह बल कार्य करने लगता है। कोरिऑलिस बल के कारण उत्तरी गोलार्द्ध में वायु की गति की दिशा के दाएं ओर तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में गति की दिशा के बाईं ओर बल लगता है।

    मौसम संबंधी गतिविधियों में कोरिऑलिस बल के प्रभाव को निम्नलिखित रूपों में देखा जा सकता है-

    • यह बल उपोष्ण कटिबंधीय उच्च वायुदाब पेटी तथा उप ध्रुवीय निम्न दाब पेटियों के निर्माण में सहायक होता है।
    • इसके अलावा चक्रवात तथा प्रतिचक्रवात के निर्माण में भी कोरिऑलिस बल का महत्त्वपूर्ण योगदान है। इसके  कारण चक्रवात उत्तरी गोलार्द्ध में घड़ी की सुई की विपरीत दिशा में तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में घड़ी की सुई की दिशा में घूर्णन करते हैं।
    • महासागरीय धाराओं  के दिशा परिवर्तन में भी यह बल सहायक होता है।
    • ऊपरी स्तर के वायु को प्रभावित कर यह बल जेट स्ट्रीम के निर्माण में भी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करता है।
    • इसके अलावा,  यह बल दक्षिण-पश्चिमी व्यापारिक पवनें तथा मानसून पवनों के निर्माण में भी सहायक है।

     भूमध्य रेखा पर कोरियालिस बल का मान शून्य होने के निम्नलिखित कारण हैं-

    • भूमध्य रेखा पर उत्तरी गोलार्द्ध का आभासी बल और दक्षिणी गोलार्द्ध का आभासी बल एक दूसरे को संतुलित कर देते हैं, जिससे परिणामी कोरिऑलिस बल लगभग शून्य हो जाता है।
    • विषुवत रेखा पर कोणीय आवेग के परिवर्तन की दर अपेक्षाकृत कम होती है जिससे यह बल कम हो जाता है।
    • इसके अलावा, विषुवत रेखा पर कोई  पदार्थ घूर्णन अक्ष के समानांतर होता है जिससे कोरिऑलिस बल का मान शून्य हो जाता है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close