हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • जेट स्ट्रीम से आप क्या समझते हैं? जेट स्ट्रीम के स्थानीय तथा प्रादेशिक मौसम पर पड़ने वाले प्रभावों की विवेचना कीजिये।

    11 Mar, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा :
    • जेट स्ट्रीम का परिचय।
    • जेट स्ट्रीक का स्थानीय तथा प्रादेशिक मौसम पर पड़ने वाला प्रभाव।

    क्षोभमंडल की ऊपरी सीमा में सैकड़ों किलोमीटर की चौड़ी पट्टी में पश्चिम से पूर्व दिशा में प्रवाहित होने वाली लहरदार पवनों को जेट स्ट्रीम कहा जाता है। ऊपरी वायुमंडल में पश्चिम से पूर्व दिशा में जेट स्ट्रीम का परिसंचरण दोनों गोलार्धों में 20° अक्षांश से ध्रुवों के मध्य 7.5 से 14 किमी. की ऊँचाई के बीच होता है।

    ग्रीष्मकाल में जेट स्ट्रीम का विस्तार कम हो जाता है तथा यह उत्तर की ओर खिसक जाता है, जबकि शीतलकाल में इसका अधिकतम विस्तार होता है तथा यह 20° अक्षांश तक पहुँच जाता है।

    जेट स्ट्रीक के कारण स्थानीय तथा प्रादेशिक मौसम पर पर्याप्त प्रभाव पड़ता है-

    • जेट स्ट्रीम के कारण धरातलीय चक्रवातों एवं प्रतिचक्रवातों के स्वरूप में परिवर्तन होने से स्थानीय मौसम में उतार-चढ़ाव (बाढ़-सूखा) होता रहता है।
    • ध्रुवीय वाताग्र जहाँ पर शीतोष्ण चक्रवात तथा तूफान उत्पन्न होते हैं, उनका संबंध उच्च स्तरीय जेट स्ट्रीम से है।
    • दक्षिण एशिया के मानसून पर जेट स्ट्रीम का महत्त्वपूर्ण प्रभाव होता है। उष्ण कटिबंधीय मानसूनी वर्षा जेट स्ट्रीम से प्रभावित होती है।

    जेट स्ट्रीम में वायु का लंबवत संचार दो रूपों में होता है। चक्रवातों में हवा ऊपर उठती है तथा प्रति चक्रवातीय वायु प्रणाली में हवा नीचे बैठती है। इस तरह उच्चतलीय हवा में उपरिमुखी एवं अधोमुखी संचरण होने से क्षोभमंडल एवं समताप मंडल में हवाओं में तेजी से मिश्रण होता है, जिस कारण मानव जनित प्रदूषकों का क्षोभमंडल से समतापमंडल में परिवहन कर दिया जाता है। उदाहरण के लिये ओजोन परत को नष्ट करने वाले क्लोरोफ्लोरो कार्बन का परिवहन जब समताप के निचले भाग में हो जाता है तो वहाँ पर ओजोन क्षरण प्रारंभ हो जाता है। जिसके कारण भूमंडलीय ताप में वृद्धि होने की संभावना रहती है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close