हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • भूकंपीय तरंगें पृथ्वी की आतंरिक संरचना के अध्ययन में किस प्रकार उपयोगी हैं? व्याख्या करें।

    17 Mar, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

     उत्तर की रूपरेखा :

    • भूकंप का अर्थ।
    • भूकंपीय तरंगों का प्रकार एवं उनकी विशेषताएँ।
    • भूकंपीय तरंगे किस प्रकार पृथ्वी की आतंरिक संरचना के अध्ययन में उपयोगी हैं।
    • निष्कर्ष।

    पृथ्वी का आंतरिक भाग मानव के लिये दृश्यगत न हो पाने के कारण इसकी वास्तविक स्थिति तथा संरचना के विषय में सही जानकारी प्राप्त करना अत्यंत कठिन है। हालाँकि पृथ्वी की आंतरिक संरचना के अध्ययन के संदर्भ में अनेक प्रयास किये गए किंतु भूकंपीय तरंगों के अध्ययन के आधार पर हाल के वर्षों में पृथ्वी के बारे में जो नवीन जानकारी प्राप्त हुई है वह सर्वाधिक विश्वसनीय है।

    भूकंपीय तरंगों का अध्ययन पृथ्वी की आंतरिक परतों का संपूर्ण चित्र प्रस्तुत करता है। भूकंप का अर्थ है- पृथ्वी का कंपन। यह एक प्राकृतिक घटना है। पृथ्वी के अंदर से ऊर्जा के निकलने के कारण तरंग उत्पन्न होती है जो सभी दिशाओं में फैलकर भूकंप लाती है।

    भूकंपीय तरंग P, S तथा L प्रकार की होती है, जिनमें P तरंग ठोस, तरल एवं गैस तीनों माध्यम में गमन करती है, वहीं S तरंग केवल ठोस पदार्थों के माध्यम में ही गमन कर सकती है। S तरंगों की इसी विशेषता ने वैज्ञानिकों को भूगर्भीय संरचना समझने में मदद की। L तरंगे, P और S तरंगों एवं धरातलीय चट्टानों के मध्य अन्योन्य क्रिया के कारण उत्पन्न होती है। L तरंगों को धरातलीय तरंगे कहा जाता है। क्योंकि ये तरंगे धरातल के साथ-साथ चलती है। पृथ्वी की आंतरिक संरचना को जानने के लिये P और S तरंगों से विशेष रूप से सहायता मिलती है।

    यदि पृथ्वी की आंतरिक संचना समरूप होती तो P और S तरंगों के व्यवहार में समरूपता पाई जाती किंतु ऐसा नहीं होता है। 33 किमी. की गहराई पर भूकंपीय तरंगों की गति अचानक बढ़ जाती है क्योंकि चट्टानों के घनत्व एवं प्रत्यास्थता में वृद्धि होती है। 100-200 किमी. की गहराई में भूकंपीय तरंगों की गति कम होती है। अतः इस प्रदेश को ‘निम्न वेग का प्रदेश’ कहते हैं। इस परत में चट्टाने आंशिक रूप से पिघली हुई अवस्था में है, इस कारण भूकंपीय वेग में कमी आती है। 200 किमी. की गहराई के पश्चात् भूकंपीय तरंगों के वेग में वृद्धि होती है तथा 2500 किमी. की गहराई पर S तरंगे विलुप्त हो जाती है जबकि P रतंगों के वेग में कमी आती है। 5150 किमी. के पश्चात् P तरंगों के वेग में पुनः वृद्धि होती है। इसी आधार पर पृथ्वी की आंतरिक संरचना को क्रस्ट, मेंटल व कोर में विभक्त किया गया है।

    इन तीन संकेंद्रीय परतों में भूकंपीय तरंगों का वेग भिन्न-भिन्न होता है। इस प्रकार परतों की सीमाओं पर भूकंपीय असंगति मिलती है जहाँ भूकंपीय तरंगों के वेग में अचानक परिवर्तन आता है। संकेंद्रीय परतों में असंगति दोनों कोरों व बाह्य कोर और मेंटल के बीच स्पष्ट है। क्रस्ट की दोनों परतों तथा क्रस्ट व मेंटल के बीच असंगति पाई जाती है। इन असंगति को विभिन्न नामों तथा कोनार्ड, मोहो, रेपटी, गुटेनबर्ग, लेहमन आदि के नाम से जाना जाता है।

    उपरोक्त विवरण से स्पष्ट है कि पृथ्वी की आंतरिक संरचना के वैज्ञानिक अध्ययन के लिये भूकंपीय तरंगे सर्वाधिक उपयोगी हैं।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close