हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • अपवाह प्रतिरूप की संक्षेप में चर्चा करते हुए प्रायद्वीपीय भारत के अपवाह तंत्र को बताइये।

    13 Jun, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    प्रश्न-विच्छेद

    • अपवाह प्रतिरूप की संक्षेप में चर्चा करनी है।
    • प्रायद्वीपीय भारत के अपवाह तंत्र को बताना है।

    हल करने का दृष्टिकोण

    • प्रभावी भूमिका लिखते हुए अपवाह प्रतिरूप को बताएँ।
    • तार्किक तथा संतुलित विषय-वस्तु प्रस्तुत करते हुए प्रायद्वीपीय भारत के अपवाह को स्पष्ट करें।

    नदियों के उद्गम स्थान से लेकर उसके मुहाने तक नदी व उसकी सहायक नदियों द्वारा की गई रचना को अपवाह प्रतिरूप कहा जाता है। इसमें वृक्षाकार, वलयाकार, अभिकेंद्रीय, गुंबदाकृति, समानांतर प्रतिरूप आदि शामिल किये जाते हैं। ये सभी नाम नदी तथा उसकी वाहिकाओं द्वारा उसके बहाव क्षेत्र में विकसित किये गए बहाव जाल की आकृति के आधार पर दिये गए हैं।

    भौगोलिक आकृतियों के आधार पर भारत की नदियों के अपवाह तंत्र को मुख्यतः दो वर्गों मे विभाजित किया गया है—

    • हिमालय की नदियों का अपवाह तंत्र
    • प्रायद्वीपीय नदियों का अपवाह तंत्र

    प्रायद्वीपीय भारत का पश्चिमी घाट, अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में गिरने वाली नदियों के मध्य एक प्रमुख जल विभाजक का कार्य करता है। प्रायद्वीपीय पठार का सामान्य ढाल पूर्व एवं दक्षिण-पूर्व की ओर होने के कारण प्रायद्वीपीय भारत की अधिकांश नदियाँ पश्चिमी घाट से निकलकर बंगाल की खाड़ी में गिरती हैं। ये नदियाँ डेल्टा का निर्माण करती हैं।

    प्रायद्वीपीय भारत की नर्मदा तथा ताप्ती नदियाँ अपवाद स्वरूप बंगाल की खाड़ी में न गिरकर अरब सागर में गिरती हैं, क्योंकि ये दोनों नदियाँ भ्रंश घाटी से होकर बहती हैं तथा ज्वारनदमुख का निर्माण करती हैं। हिमालय अपवाह तंत्र की अपेक्षा, प्रायद्वीपीय अपवाह तंत्र अधिक पुराना है। इसकी द्रोणियाँ आकार में छोटी होती हैं। दक्षिण भारत की नदियाँ मुख्यतः वृक्षाकार अपवाह तंत्र बनाती हैं तथा अपने आधार तल को प्राप्त कर चुकी हैं।

    प्रायद्वीपीय भारत की नदियों को निम्न दो भागों में विभक्त किया जा सकता है—

    • अरब सागर की नदियाँ:  नर्मदा, ताप्ती, माही, साबरमती, पेरियार, मांडवी, जुआरी आदि।
    • बंगाल की खाड़ी की नदियाँ:  स्वर्ण रेखा, वैतरणी, ब्राह्मणी, गोदावरी, कृष्णा, महानदी, कावेरी आदि।

    इसके अतिरिक्त तटीय क्षेत्र में अनेक छोटी नदियाँ हैं जो पश्चिम में अरब सागर तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी की ओर बहती हैं। इनमें पश्चिम की ओर बहने वाली नदियों में शेत्रुंजी, भद्रा, वैतरणा, कालिंदी, वेद्ति, शरावती, भरतपुझा, पेरियार, पंबा आदि हैं तथा पूर्व की ओर बहने वाली नदियाँ वंशधारा, पेन्नार, पलार, वैगई आदि हैं।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close