Postal Course | Test Series | Crash Course
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

प्रारंभिक परीक्षा

प्रीलिम्स फैक्ट्स: 20 अप्रैल, 2019

  • 20 Apr 2019
  • 7 min read

एथेंस में सिकंदर महान की मूर्ति (Alexander's statue in Athens)

ग्रीस की राजधानी एथेंस में सिकंदर महान की 3.5 मीटर ऊँची मूर्ति स्थापित की गई है। उल्लेखनीय है कि इस मूर्ति को स्थापित करने में 27 वर्षों का समय लगा है।

  • इस मूर्ति में सिकंदर को घोड़े पर सवार दिखाया गया है।
  • कांस्य की इस मूर्ति को ग्रीस की सरकार ने वर्ष 1992 में खरीदा था।
  • चौथी शताब्दी ईसा पूर्व के महान योद्धा सिकंदर का जन्म मौजूदा उत्तरी ग्रीस के मेसेडोनिया क्षेत्र में हुआ था।

मूर्ति स्थापित करने में हुई देरी का कारण

  1. मेसेडोनिया के नाम परिवर्तन का विवाद।
  2. नौकरशाही की लेटलतीफी।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में ‘रिपब्लिक ऑफ मेसेडोनिया’ (Macedonia) का नाम बदलकर ‘रिपब्लिक ऑफ नॉर्थ मेसेडोनिया’ किया गया था।

अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्य

  • सिकंदर ने 326 ई. पू. में भारत पर आक्रमण किया था। वह खैबर दर्रा पार करते हुए भारत आया था।
  • सिकंदर के भारत पर आक्रमण के क्रम में उसका पहला सामना तक्षशिला के शासक आम्भि से हुआ था, परंतु झेलम नदी के किनारे पहुँचने पर सिकंदर का पहला और सबसे शक्तिशाली प्रतिरोध पोरस ने किया था। वह पोरस की बहादुरी और साहस से बड़ा प्रभावित हुआ। इसलिये उसने उसका राज्य वापस कर दिया और उसे अपना सहयोगी बना लिया।
  • भारत में उस समय कोई केंद्रीय सत्ता नहीं थी। छोटे-छोटे राज्य आपस में लड़ते रहते थे। लेकिन सिकंदर के पास श्रेष्ठ सेना थी, इसलिये वह हर युद्ध में विजय प्राप्त करता गया
  • उसका भारत अभियान उन्नीस महीने (326-325 ई. पू.) तक चला था।

भारत पर सिकंदर के आक्रमण का परिणाम

  • भारत और यूनान के बीच विभिन्न क्षेत्रों में प्रत्यक्ष संपर्क की स्थापना हुई।
  • सिकंदर के अभियान से चार भिन्न-भिन्न स्थलमार्गों और जलमार्गों के द्वार खुले। इससे यूनानी व्यापारियों और शिल्पियों के लिये व्यापार का मार्ग प्रशस्त हुआ तथा व्यापार की सुविधा बढ़ी।
  • उसने झेलम के तट पर बुकेफाल नगर और सिंध में सिकंदरिया नगर बसाया था, जो सबसे महत्त्वपूर्ण उपनिवेशों में शामिल थे।

अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में भाग लेंगे भारतीय नौसेना के जहाज़ (Navy to take part in fleet review)

भारतीय नौसेना के दो जहाज़ INS कोलकाता और INS शक्ति चीन के किंगदाओ में आयोजित होने वाली अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में हिस्सा लेंगे।

  • यह फ्लीट रिव्यू पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी की 70वीं वर्षगाँठ के अवसर पर इस महीने के अंत में आयोजित होने वाले समारोह का एक हिस्सा है।
  • उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान की नौसेना इस फ्लीट रिव्यू में भाग नहीं ले रही है।
  • INS कोलकाता नौसैनिक युद्ध के सभी आयामों में खतरों से निपटने के लिये अत्याधुनिक हथियारों और संवेदकों से लैस है।
  • INS शक्ति एक पुनःपूर्ति जहाज़ है जो 27000 टन से अधिक माल को स्थानांतरित करने वाले सबसे बड़े टैंकरों में से एक है। यह 15 हज़ार टन तरल माल तथा खाद्यानों एवं गोला बारूद सहित 500 टन से अधिक ठोस माल ढोने में सक्षम है।

क्या है अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू?

  • अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू (International Fleet Review:IFR) नौसेना के जहाज़ों, विमानों एवं पनडुब्बियों की एक परेड है और इसका आयोजन राष्ट्रों द्वारा सद्भावना को बढ़ावा देने, सहयोग को मज़बूत बनाने और उनकी संगठनात्मक क्षमताओं को प्रदर्शित करने के लिये किया जाता है।
  • IFR विश्व की नौसेनाओं के लिये उनकी क्षमता और स्वदेशी जहाज़ डिज़ाइन तथा जहाज़ निर्माण क्षमताओं को एक वैश्विक/अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में प्रदर्शित करने हेतु एक आदर्श मंच का भी काम करती है।
  • भारत द्वारा फरवरी 2016 में विशाखापट्टनम में आयोजित दूसरे IFR में लगभग 100 युद्धक जहाज़ों के साथ 50 नौसेनाओं ने भाग लिया था।

काकापो तोता (Strigops Habroptila)

न्यूजीलैंड के संरक्षण विभाग (DOC) के अनुसार, काकापो (Kakapo) जो कि तोता (Parrot) की दुनिया की सबसे भारी प्रजाति है, के प्रजनन का यह वर्ष सबसे सफल सीज़न रहा है।

  • शोधकर्त्ताओं के अनुसार, इस तोता के प्रजनन पैटर्न में बदलाव के लिये जलवायु परिवर्तन ज़िम्मेदार हो सकता है।
  • काकापो तोता (माओरी में ‘रात का तोता’), जिसे उल्लू तोता (Owl Parrot) भी कहा जाता है, न्यूजीलैंड में पाया जाने वाला रात्रिचर (Nocturnal) तथा उड़ने में असमर्थ होता है।
  • काकापोस, जिनकी वर्तमान में कुल संख्या 147 है जलवायु परिवर्तन के कारण गंभीर रूप से संकटग्रस्त (Critically Endangered) होने के कगार पर हैं।
  • इसे IUCN की लाल सूची के परिशिष्ट 1 में ‘गंभीर रूप से संकटग्रस्त’ की श्रेणी में रखा गया है।
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close