हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 29 Sep, 2020
  • 21 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 29 सितंबर, 2020

उमंग एप पर नई सेवाएँ

New Services on Umang App

उमंग एप (Umang App) पर पहले से उपलब्ध 16 सेवाओं के अलावा, अब कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation-EPFO) ने एक अन्य सुविधा शुरू करके कर्मचारी पेंशन योजना (EPS) के सदस्यों को कर्मचारी पेंशन योजना, 1995 (Employees Pension Scheme, 1995) के अंतर्गत योजना के प्रमाण पत्र के लिये आवेदन करने में सक्षम बना दिया है।

प्रमुख बिंदु: 

  • गौरतलब है कि COVID-19 महामारी के दौरान EPF खाताधारकों में उमंग एप के प्रति अधिक जागरूकता देखने को मिली जिसने उन्हें इस मुश्किल दौर में घरों पर ही सहजता से सेवाओं का उपयोग करने में सक्षम बनाया। 

कर्मचारी पेंशन योजना प्रमाण पत्र:

  • कर्मचारी पेंशन योजना का प्रमाण पत्र ऐसे सदस्यों को जारी किया जाता है जो अपना EPF अंशदान निकाल लेते हैं किंतु सेवानिवृत्ति की उम्र पर पेंशन लाभ लेने के लिये EPFO के साथ अपनी सदस्यता बरकरार रखना चाहते हैं।
  • एक सदस्य सिर्फ तभी पेंशन के लिये पात्र होता है, जब वह कर्मचारी पेंशन योजना, 1995 के तहत कम-से-कम 10 वर्ष तक सदस्य रहता है। 
  • नई नौकरी से जुड़ने के बाद योजना प्रमाण पत्र यह सुनिश्चित करता है कि पिछली पेंशन योग्य सेवा को नए नियोक्ता के साथ प्रदान की गई पेंशन योग्य सेवा के साथ जोड़ दिया जाए जिससे पेंशन लाभ बढ़ जाता है। 
  • इसके अलावा, पात्र सदस्य की मृत्यु की स्थिति में परिवार के सदस्यों द्वारा पेंशन प्राप्त करने में भी योजना प्रमाण पत्र उपयोगी होता है।

उमंग एप द्वारा लाभ:

  • उमंग एप के माध्यम से योजना प्रमाण पत्र के लिये आवेदन आसान होने से सदस्यों को अब भौतिक रूप से आवेदन करने की अनावश्यक परेशानियों से मुक्ति मिलेगी। विशेष रूप से इससे COVID-19 महामारी के दौरान लाभ होगा और अनावश्यक कागजी कार्यवाही से भी मुक्ति मिलेगी। 
  • इस सुविधा से 5.89 करोड़ से ज्यादा सदस्यों को लाभ होगा। उमंग एप पर सेवाएँ हासिल करने के लिये एक सक्रिय यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (Universal Account Number- UAN) और EPFO के साथ पंजीकृत मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।

उमंग एप:

  • भारत में मोबाइल गवर्नेंस को गति देने के लिये इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा नेशनल ई-गवर्नेंस डिविज़न (National e-Governance Division- NeGD) ने उमंग (यूनिफाइड मोबाइल एप्लिकेशन फॉर न्यू-एज़ गवर्नेंस- Unified Mobile Application for New-age Governance) का विकास किया है।


हड़प्पा सभ्यता की खोज की शताब्दी को चिह्नित करने के लिये व्याख्यान श्रृंखला

Lecture series to mark centenary of discovery of Harappan civilization

मोहनजोदड़ो में हड़प्पा सभ्यता की खोज के शताब्दी वर्ष को चिह्नित करने के लिये पुरातत्त्व एवं संग्रहालय निदेशालय, महाराष्ट्र (Directorate of Archaeology and Museums, Maharashtra) के सहयोग से ‘इंडिया स्टडी सेंटर ट्रस्ट’ (India Study Centre Trust) 5 अक्तूबर से 10-दिवसीय ऑनलाइन व्याख्यान श्रृंखला का आयोजन करेगा।

प्रमुख बिंदु:

  • इस कार्यक्रम के तहत दुनिया के विभिन्न हिस्सों के 10 से अधिक वक्ता जो विभिन्न पुरातात्विक परियोजनाओं पर कार्य कर रहे हैं, व्याख्यान श्रृंखला के दौरान अपनी अंतर्दृष्टि साझा करेंगे। 
    • मोहनजोदड़ो की खोज दुनिया में सबसे महत्त्वपूर्ण निष्कर्षों में से एक है।
  • हड़प्पा सभ्यता की खोज ने दुनिया का ध्यान भारतीय उपमहाद्वीप की ओर खींचा जिससे खोजकर्त्ताओं ने यहाँ की संस्कृति, समाज एवं अतीत का अध्ययन करने में रुचि दिखाई।
    • ब्रिटिश पुरातत्त्वशास्त्रियों के अनुसार, हड़प्पा सभ्यता की खोज से पहले ‘मिस्र’ पुरानी सभ्यताओं के अध्ययन का केंद्र था।
  • ‘इंडिया स्टडी सेंटर ट्रस्ट’ ने पुरातत्त्व, भूविज्ञान एवं जैव विविधता के क्षेत्रों में मुख्य ध्यान केंद्रित किया है।

मोहनजोदड़ो:

Moenjo-Daro

  • मोहनजोदड़ो को ‘मृतकों का टीला’ भी कहा जाता है। इसकी खोज वर्ष 1922 में रखालदास बनर्जी ने की थी।     
  • मोहनजोदड़ो, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के लरकाना ज़िले में सिंधु नदी के तट पर अवस्थित है।
  • मोहनजोदड़ो में की गई खोजों में निम्नलिखित शामिल हैं:
    • विशाल स्नानागर
    • अन्नागार
    • कांस्य की नर्तकी की मूर्ति
    • पशुपति महादेव की मुहर
    • दाड़ी वाले मनुष्य की पत्थर की मूर्ति
    • बुने हुए कपड़े
  • मोहनजोदड़ो प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता के सबसे बड़े शहरों में से एक था जिसे हड़प्पा सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है।
  • मोहनजोदड़ो की प्रमुख विशेषता उसकी सड़कें थी, सड़कें सीधी दिशा में एक-दूसरे को  समकोण पर काटती हुई नगर को अनेक वर्गाकार एवं चतुर्भुजाकार खंडों में विभाजित करती थीं।   
  • यहाँ लगभग प्रत्येक घर में निजी कुएंं एवं स्नानागार होते थे और पानी के निकास के लिये नालियों की व्यवस्था थी।   

इंडिया स्टडी सेंटर ट्रस्ट’ (India Study Centre Trust): 

  • ‘इंडिया स्टडी सेंटर’ एक ऐसा संगठन है जो भारतीय संस्कृति, सभ्यता, इतिहास, कला, भाषाओं और साहित्य, दर्शन, वास्तुकला, चिकित्सा विज्ञान, प्राकृतिक विज्ञान, खगोल विज्ञान और गणित का अध्ययन करने के लिये प्रतिबद्ध है।


सज्जनगढ़ वन्यजीव अभयारण्य

Sajjangarh wildlife sanctuary

राजस्थान के उदयपुर ज़िले के प्रसिद्ध सज्जनगढ़ वन्यजीव अभयारण्य (Sajjangarh Wildlife Sanctuary) में आक्रामक लैंटाना झाड़ियों (Lantana Bushes) को उखाड़ने के लिये एक विशेष अभियान ने घास के मैदानों की पारिस्थितिक पुनर्स्थापन एवं जैव विविधता को बचाने में मदद की है।

SajjanGarh-wildlife-century

प्रमुख बिंदु:

  • डेढ़ महीने के इस अभियान में देशी प्रजातियों के रोपण के साथ-साथ भूमि की साफ सफाई भी की गई है।

सज्जनगढ़ वन्यजीव अभयारण्य

(Sajjangarh Wildlife Sanctuary): 

  • दक्षिणी अरावली पहाड़ियों में यह छोटा अभयारण्य जो 5.19 वर्ग किमी. क्षेत्र में फैला हुआ है, बड़ी संख्या में शाकाहारी जीव-जंतुओं का निवास स्थल हैं।
  • यहाँ एक कृत्रिम झील है जिसे ‘जियान सागर’ (Jiyan Sagar) के नाम से जाना जाता है, इसे ‘टाइगर लेक’ के नाम से भी जाना जाता है।
  • इसे वर्ष 1987 में संरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया था।

लैंटाना कैमरा (Lantana Camara):

Lantana-Camara

  • लैंटाना कैमरा (Lantana Camara) नामक घनी झाड़ियों ने इस अभयारण्य के विशाल भाग को कवर किया है जिससे अभयारण्य की वनस्पतियों के लिये पर्याप्त प्राकृतिक प्रकाश एवं पोषण नहीं मिल पाता है।
    • भारत में पहली बार वर्ष 1807 में ‘लैंटाना कैमरा’ का पता लगाया गया था। 
  • इसके पत्ते एवं पके फलों में ज़हरीले पदार्थ ने कई जानवरों को प्रभावित किया जबकि इसके विस्तार ने घास एवं अन्य झाड़ियों की प्राकृतिक वृद्धि को रोक दिया है।
  • वनस्पति का पर्याप्त विकास न होने के कारण शाकाहारी जीवों को पर्याप्त चारा नहीं मिलता था परिणामतः मांसाहारी जीवों के शिकार का आधार कम हो रहा था, जिससे खाद्य श्रृंखला में पारिस्थितिक असंतुलन पैदा हो गया था।

मिशन लैंटाना (Mission Lantana):

  • ‘मिशन लैंटाना’ को एक वरिष्ठ महिला पुलिस अधिकारी द्वारा शुरू किया गया था, जिन्होंने अपने प्राकृतिक आवास के क्रमिक सिकुड़न के साथ चित्तीदार हिरणों के झुंडों के बीच एक बेचैनी को देखा था।
    • परिणामतः वन्यजीव विशेषज्ञों के साथ इस मामले पर चर्चा करके लैंटाना झाड़ियों से छुटकारा पाने के लिये कार्रवाई शुरू की गई जिसने लगभग 50% अभयारण्य को ढक रखा था।
  • इस अभियान में वन अधिकारियों, पुलिस कर्मियों, वन्यजीव प्रेमियों, स्वैच्छिक समूहों के प्रतिनिधियों एवं स्थानीय ग्रामीणों द्वारा सामूहिक प्रयास और 'श्रम दान' (स्वैच्छिक शारीरिक कार्य) शामिल थे।
  • 45 दिनों के बाद, लगभग 10 हेक्टेयर भूमि को साफ कर दिया गया है। राजस्थान वन विभाग ने साफ की गई भूमि पर 500 से अधिक पौधे लगाए हैं।


स्क्रब टाइफस

Scrub Typhus

हाल ही में बैक्टीरियल बीमारी स्क्रब टाइफस (Scrub Typhus) जिसे बुश टाइफस (Bush Typhus) भी कहा जाता है, के प्रकोप से म्यांमार की सीमा से लगे नागालैंड के नोक्लाक (Noklak) ज़िले में 5 लोगों की मृत्यु हो गई और 600 लोग संक्रमित हुए हैं।

प्रमुख बिंदु:

  • गौरतलब है कि भारत का पूर्वोत्तर क्षेत्र मलेरिया, जापानी इंसेफेलाइटिस एवं COVID-19 महामारी जैसी बीमारियों के प्रकोप से भी पीड़ित है।
    • यहाँ ‘अफ्रीकन स्वाइन फीवर’ (African swine fever) से मवेशी भी प्रभावित हुए हैं। 
  • स्क्रब टाइफस (Scrub Typhus) बीमारी, ओरिएंटिया त्सूत्सूगामुशी (Orientia Tsutsugamushi) बैक्टीरिया के कारण होती है। 
  • यह संक्रमण ट्रॉम्बिकुलिड (Trombiculid) परिवार के लारवल माइट्स (Larval Mites) के काटने के कारण फैलता है, जिसे चीगर्स (Chiggers) भी कहा जाता है।
  • इस संक्रमण से रोगी में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं:
    • बुखार 
    • सिरदर्द 
    • शरीर में दर्द 
    • कभी-कभी शरीर में दाने निकलना     
  • यह बीमारी अधिकतर दक्षिण-पूर्व एशिया, इंडोनेशिया, चीन, जापान, भारत एवं उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के ग्रामीण क्षेत्रों में होती है।
  • इस बीमारी के इलाज के लिये एंटीबायोटिक्स के अतिरिक्त कोई टीका उपलब्ध नहीं है।

टाइफस (Typhus): 

  • टाइफस बैक्टीरिया के संक्रामक रोगों का एक समूह है जिसमें एपिडमिक टाइफस (Epidemic Typhus), स्क्रब टाइफस और मुराइन टाइफस (Murine Typhus) शामिल हैं।
    • एपिडमिक टाइफस, रिकेट्सिया प्रोवाज़ेकी (Rickettsia Prowazekii) के कारण होता है।
    • मुराइन टाइफस, पिस्सू द्वारा फैलने वाले रिकेट्सिया टाइफी (Rickettsia Typhi) के कारण होता है।
  • वर्ष 1812 में रूस पर आक्रमण के दौरान नेपोलियन की सेना एपिडमिक टाइफस से संक्रमित हो गई थी जिससे वह पीछे हट गया था।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 29 सितंबर, 2020

राष्ट्रीय जाँच अभिकरण

हाल ही में गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (National Investigation Agency- NIA) की तीन अतिरिक्त शाखाओं को इम्फाल, चेन्नई और राँची में स्थापित करने की मंज़ूरी दी है। ध्यातव्य है कि भारत सरकार के इस निर्णय से देश की प्रमुख आतंकवाद-रोधी जाँच एजेंसी द्वारा इन राज्यों में किसी भी उभरती हुई स्थिति पर त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। यह निर्णय आतंकवाद से संबंधित मामलों और अन्य राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मामलों की जाँच में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) की क्षमता को मज़बूत करेगा। इसके अतिरिक्त यह निर्णय गंभीर अपराधों से संबंधित महत्त्वपूर्ण जानकारी और साक्ष्य को समय रहते संग्रहित करने की सुविधा भी प्रदान करेगा। वर्तमान में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) की कुल नौ शाखाएँ हैं, जो कि गुवाहाटी, मुंबई, जम्मू, कोलकाता, हैदराबाद, कोच्चि, लखनऊ, रायपुर और चंडीगढ़ में स्थित हैं, इसके अलावा इस विशेष सुरक्षा इकाई का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसका वास्तविक नाम राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण है, जिसे आमतौर पर राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) के नाम से जाना जाता है। इसका गठन राष्ट्रीय जाँच एजेंसी अधिनियम, 2008 के तहत किया गया था। इस एजेंसी का मुख्य उद्देश्य भारत में आतंकवाद का मुकाबला करना भी है। इस प्रकार यह केंद्रीय आतंकवाद विरोधी कानून प्रवर्तन एजेंसी के रूप में कार्य करती है। 

ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन प्लेयर ऑफ द ईयर

भारतीय राष्ट्रीय पुरुष फुटबॉल टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू और महिला फुटबॉल टीम की मिडफील्डर संजू यादव को पुरुषों तथा महिलाओं की श्रेणी में वर्ष 2019-20 सत्र के लिये ‘ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन प्लेयर ऑफ द ईयर’ के रूप में चुना गया है। यह पहली बार है जब पंजाब में जन्मे गुरप्रीत सिंह संधू को ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन प्लेयर (AIFF) का वार्षिक पुरस्कार मिला है, जिसके साथ वे यह सम्मान पाने वाले देश के दूसरे गोलकीपर बन गए हैं, उससे पहले वर्ष 2009 में सुब्रत पाल (Subrata Pal) को यह पुरस्कार मिला था। इस पुरस्कार का गठन वर्ष 1992 में किया गया था। ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) भारत में फुटबॉल का शासी निकाय है, जिसकी स्थापना वर्ष 1937 में शिमला स्थित सेना मुख्यालय में हुई थी। ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन प्लेयर (AIFF), एशियाई फुटबॉल परिसंघ (AFC) के संस्थापक सदस्यों में से एक है।

डॉ. पी. डी. वाघेला 

भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के वरिष्‍ठ अधिकारी डॉ. पी. डी. वाघेला को भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (DoPT) द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, उनकी नियुक्ति कुल तीन वर्ष के कार्यकाल अथवा 65 वर्ष की आयु, जो भी पहले हो, तक की गई है। वर्ष 1986 के गुजरात-कैडर के IAS अधिकारी डॉ. पी. डी. वाघेला भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) के वर्तमान अध्यक्ष आर.एस. शर्मा का स्थान लेंगे, जो कि जल्द ही सेवानिवृत्त होने वाले हैं। डॉ. पी. डी. वाघेला वर्तमान में रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत फार्मास्यूटिकल्स विभाग (DoP) के तहत सचिव के पद पर कार्यरत हैं। भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) भारत में दूरसंचार व्यवसाय का स्वतंत्र नियामक है और इसकी स्थापना दूरसंचार सेवाओं तथा टैरिफ को विनियमित करने के लिये संसद के एक अधिनियम द्वारा 20 फरवरी, 1997 को की गई थी। यह संस्था भारत में दूरसंचार के क्षेत्र में काम कर रही कंपनियों के लिये नियामक अर्थात् उनके नियमन और देख-रेख का काम करती है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल

एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, संगठन की मानवाधिकार संबंधी कार्यवाहियों के कारण उसे भारत के कार्यों को रोकने के लिये मज़बूर होना पड़ा है। एमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना है कि सरकार ने भारत में उसके बैंक खाते फ्रीज़ कर दिये हैं और इसके सभी अभियान तथा शोध कार्यों को निलंबित कर दिया गया है। एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, संगठन ने सभी अंतर्राष्ट्रीय और भारतीय कानूनों का अनुपालन किया है, इसके बावजूद भी यह कार्यवाही की गई है। संगठन के मुताबिक सरकार की यह कार्यवाही मुख्य तौर पर पूर्वोत्तर दिल्ली में हुए दंगों को लेकर संगठन द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के संबंध में की गई है। ध्यातव्य है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने बीते दिनों अपनी एक रिपोर्ट में पूर्वोत्तर दिल्ली में हुए दंगों के दौरान पुलिस द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन के सभी आरोपों की स्वतंत्र जाँच करने की मांग की थी। एमनेस्टी इंटरनेशनल (Amnesty International) लंदन स्थित एक गैर-सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1961 में पीटर बेन्सन नामक एक ब्रिटिश वकील द्वारा की गई थी। इसे वर्ष 1977 में ‘अत्याचारों के विरुद्ध मानवीय गरिमा की रक्षा करने’ के लिये नोबेल शांति पुरस्कार और वर्ष 1978 में मानव अधिकारों के क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close