हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 22 Nov, 2021
  • 6 min read
विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 22 नवंबर, 2021

विश्‍व टेलीविज़न दिवस

प्रतिवर्ष 21 नवंबर को विश्व स्तर पर टेलीविज़न के महत्त्व को उजागर करने हेतु ‘विश्व टेलीविज़न दिवस’ का आयोजन किया जाता है। गौरतलब है कि अपने आविष्कार के बाद से टेलीविज़न मनोरंजन के सबसे महत्त्वपूर्ण स्रोतों में से एक रहा है। मनोरंजन के साथ-साथ यह लोगों को शिक्षित एवं सूचित करने हेतु समान रूप से महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। नवंबर 1996 में संयुक्त राष्ट्र ने अपने पहले ‘विश्व टेलीविज़न फोरम’ का आयोजन किया था। प्रमुख मीडिया हस्तियों ने इस मंच में हिस्सा लिया था, जहाँ उन्होंने विश्व स्तर पर टेलीविज़न के बढ़ते महत्त्व पर चर्चा की थी। इस कार्यक्रम के आयोजन के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्रतिवर्ष 21 नवंबर को ‘विश्व टेलीविज़न दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया। टीवी का आविष्कार स्कॉटिश इंजीनियर जॉन लॉगी बेयर्ड ने वर्ष 1924 में किया था। इस आविष्कार के तीन दशक बाद ‘संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन’ (यूनेस्को) की सहायता से 15 सितंबर, 1959 को भारत में पहली बार टेलीविज़न की शुरुआत की गई। 

आईएनएस विशाखापत्तनम

हाल ही में ‘आईएनएस विशाखापत्तनम’ को औपचारिक रूप से भारतीय नौसेना में शामिल किया गया है। आईएनएस विशाखापत्तनम एक ‘P15B’ स्टील्थ-निर्देशित मिसाइल विध्वंसक है। यह स्वदेशी रूप से भारतीय नौसेना के इन-हाउस संगठन ‘नेवल डिज़ाइन निदेशालय’ द्वारा डिज़ाइन किया गया है और इसका निर्माण मझगाँव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड, मुंबई द्वारा किया गया है। ध्यातव्य है कि नौसेना द्वारा ‘P-15B’ के तहत कुल चार युद्धपोतों (विशाखापत्तनम, मोरमुगाओ, इंफाल, सूरत) के निर्माण की योजना बनाई गई है। इन चार जहाज़ों के निर्माणके लिये वर्ष 2011 में अनुबंध हुआ था। ये जहाज़ अत्याधुनिक हथियार/सेंसर पैकेज, उन्नत स्टील्थ सुविधाओं और उच्च स्तर के स्वचालन के साथ दुनिया के अधिक तकनीकी रूप से विकसित स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डेस्ट्रॉयर हैं। ‘P-15B’ श्रेणी जैसे विध्वंसक जहाज़ हिंद-प्रशांत जैसे बड़े महासागरों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं, इससे भारतीय नौसेना को एक महत्त्वपूर्ण शक्ति बनने में मदद मिलेगी।

फिनटेक गवर्निंग काउंसिल

वैश्विक फिनटेक हब बनने के प्रयास में तमिलनाडु सरकार ने उद्योग मंत्री ‘थंगम थेनारासू’ की अध्यक्षता में एक ‘फिनटेक गवर्निंग काउंसिल’ का गठन किया है। इस परिषद में राज्य सरकार के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ नौकरशाह भी शामिल होंगे। फिनटेक- ‘फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी’ का संक्षिप्त रूप है। वित्तीय कार्यों में प्रौद्योगिकी के उपयोग को ‘फिनटेक’ कहा जा सकता है। फिनटेक शब्द का प्रयोग उन नई तकनीकों के संदर्भ में किया जाता है,  जिनके माध्यम से वित्तीय सेवाओं का प्रयोग, इसमें सुधार और स्वायत्तता लाने का प्रयास किया जाता है। डिजिटल पेमेंट, डिजिटल ऋण, बैंक टेक, इंश्योर टेक और क्रिप्टोकरेंसी आदि फिनटेक के कुछ प्रमुख घटक हैं। फिनटेक एक ऐसा उभरता हुआ क्षेत्र है जिसे तमिलनाडु सरकार द्वारा दृढ़ता से बढ़ावा दिया जा रहा है। तमिलनाडु सरकार ने पहले ही चेन्नई को एक ‘फिनटेक’ शहर के रूप में स्थापित करने हेतु 165 करोड़ रुपए के निवेश की योजना बनाई है। 

कोयला मंत्रालय- सस्टेनेबल डेवलपमेंट सेल

खनन के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिये सलाह और कार्रवाई संबंधी योजना बनाने हेतु कोयला मंत्रालय के तहत एक पूर्ण सस्टेनेबल डेवलपमेंट सेल (SDC) की स्थापना की गई है। भविष्य की कार्यवाही निर्धारित करने के अलावा ‘सस्टेनेबल डेवलपमेंट सेल’ भारत के कोयला एवं लिग्नाइट क्षेत्र में पर्यावरण शमन हेतु भविष्य की नीतिगत रूपरेखा भी तैयार करेगा। ज्ञात हो कि भारत ने हाल ही में आयोजित COP26 में वर्ष 2070 तक कार्बन तटस्थता प्राप्त कर लेने की घोषणा की है, जिसमें वर्ष 2030 तक उत्सर्जन को 50% तक कम करना भी शामिल है। ऐसे में यह सस्टेनेबल डेवलपमेंट सेल भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है।


एसएमएस अलर्ट
Share Page