हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रीलिम्स फैक्ट्स

  • 20 Jun, 2019
  • 11 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रीलिम्स फैक्ट्स: 20 जून, 2019

कैट फॉक्स (Cat fox)

उत्तरी कॉर्सिका (Corsica) द्वीप के जंगलों में लोमड़ी जैसी दिखने वाली बिल्ली (Cat fox) की एक नई प्रजाति पाई गई है, जो आकार में पालतू बिल्लियों से बड़ी है।

Cat Fox

  • वैज्ञानिकों के अनुसार, यह बिल्ली अब तक की अज्ञात प्रजातियों का हिस्सा है संभवतः यह हज़ारों साल पहले अफ्रीका या मध्य पूर्व में उत्पन्न हुई थी।
  • इनकी पूंछ चक्राकार और रदनक दांत (Canine Teeth) ‘अत्यधिक विकसित’ होते हैं। इन्हें चैट-रेनार्ड (Chat-Renard) या ‘कैट-फॉक्स’ (Cat-Fox) के रूप में भी जाना जाता है।
  • शोधकर्त्ताओं द्वारा इस बिल्ली के डीएनए (DNA) का विश्लेषण किये जाने के बाद यह स्पष्ट किया गया है कि यह यूरोप में पाई जाने वाली जंगली बिल्ली, फेलिस सिल्वट्रिस सिल्विस्ट्रिस (Felis silvestris silvestris) की प्रजाति से भिन्न हैं। लेकिन अफ्रीकी जंगली बिल्ली, फेलिस सिल्वेस्ट्रिस लिबिका (Felis Silvestris Lybica) की प्रजाति से इसके लक्षण काफी मिलते जुलते हैं।
  • फिलहाल अभी तक इसकी निश्चित पहचान नहीं की जा सकी है।

इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ENDS)

हरियाणा खाद्य एवं औषधि प्रशासन के सामने एक नई चुनौती सामने आई है जिसमें युवाओं का इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (Electronic Nicotine Delivery Systems- ENDS) के प्रति रुझान में वृद्धि देखी गई है।

  • ENDS में ई-सिगरेट (e-Cigarettes) , हीट-नो-बर्न डिवाइस (Heat-Not-Burn Devices), ई-निकोटीन युक्त फ्लेवर्ड हुक्का (e-Nicotine Flavoured Hookah) और ई-शीशा (e-Sheesha) आदि शामिल हैं।
  • इसके अंतर्गत तंबाकू के पत्तों को जलाने के बजाय उपयोगकर्त्ता द्वारा निकोटीन युक्त विलयन का वाष्प के रूप में सेवन किया जाता है। जिसमें निकोटीन के अलावा स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट भी पाए जाते हैं।
  • अधिकांश ENDS उत्पाद चीन में बनाए जाते हैं। ये उत्पाद ऑनलाइन एवं पान विक्रेताओं के पास से आसानी से मिल जाते हैं।
  • 1 जून, 2019 को हरियाणा FDA ने ड्रग्स कंसल्टेंट कमेटी, दिल्ली की एक बैठक में, ENDS को औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 1940 (Drugs and Cosmetics Act 1940) के तहत दवा की परिभाषा के तहत लाने के प्रस्ताव को रद्द कर दिया था।
  • हरियाणा FDA ने राज्य की विभिन्न अदालतों में ENDS के उपयोग से संबंधित 37 मामलों की सुनवाई भी शुरू की है।

हाथियों के लिये हाइड्रोथेरेपी उपचार केंद्र

हाल ही में देश के एकमात्र एलीफेंट हॉस्पिटल में अब हाथियों को पुराने दर्द जैसे गठिया, जोड़ों के दर्द और पैरों की बीमारियों से निजात दिलाने को हाइड्रोथैरेपी की सुविधा शुरू की गई है। इस थैरेपी के लिये जंबो पूल का निर्माण किया गया है।

  • आगरा-दिल्ली हाईवे पर मथुरा के निकट चुरमरा नामक स्थान पर इस हाइड्रोथैरेपी केंद्र को स्थापित किया गया है। जो हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र (Elephant Conservation and Care Centre-ECCC) के निकट स्थित है।
  • यह उत्तर प्रदेश वन विभाग और गैर सरकारी संगठन वन्यजीव एस.ओ.एस. (Wildlife SOS) की एक संयुक्त पहल है।
  • इसके लिये वृहद हाइड्रोथेरेपी जलाशय का निर्माण कराया गया है जिसकी गहराई 11 फुट है। इसमें 21 उच्च-दाब वाले जेट स्प्रे लगाए गए हैं जो उपचार के तौर पर हाथियों के पैरों और शरीर की मालिश करता है। यह मांसपेशियों के ऊतकों तक ऑक्सीजन और महत्वपूर्ण खनिजों की आपूर्ति भी करता है।
  • हाइड्रोथेरेपी जीर्ण मांसपेशियों के दर्द से राहत देने के साथ-साथ इनमें प्राकृतिक प्रतिरोध की क्षमता में वृद्धि के साथ ही मांसपेशियों को सुदृढ़ करता है।
  • वन्यजीव SOS के अंतर्गत भारतीय वन्यजीवों की रक्षा करना, जीवों के अनुकूल वातावरण निर्मित करना, जैव विविधता का अध्ययन एवं अनुसंधान करना और पशु के प्रति क्रूरता के खिलाफ कार्रवाई करना, मानव-पशु संघर्षों को हल करने के लिए काम करना, लोगों में पशुओं से मानवीय व्यवहार करने के प्रति जागरुकता फैलाना इसके प्रमुख कार्य हैं।

सोलेनम प्लास्टिसेक्सम

(Solanum Plastisexum)

हाल ही में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों के एक दल ने उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के एक पौधे की प्रजाति को सोलेनम प्लास्टिसेक्सम (Solanum Plastisexum) नाम दिया है।

  • इसकी खोज वर्ष 1977 में की गई थी और इसे डंगोवन बुश टोमैटो (Dungowan bush tomato) के नाम से भी जाना जाता है।

Solanum Plastisexum

  • बीते कई दशकों तक, इस पौधे का नामकरण नहीं हो सका क्योंकि वैज्ञानिकों द्वारा इस पौधे की कार्यिकी को समझने में असहजता हो रही थी जिसका कारण अध्ययन के दौरान हर बार इसके फूलों में अस्पष्टता (नर तथा मादा गुणों में परिवर्तन) का होना था।
  • इस प्रजाति का नाम सोलेनम प्लास्टिसिक्सेम ’ग्रीक’ भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ मोल्डेबल या परिवर्तनशील है।
  • सामान्यतः फूल उभयलिंगी (Hermaphrodite) होते है अर्थात् वे पुष्प जिनमें नर और मादा दोनों प्रजनन भाग पाए जाते हैं, इन्हें पादप जगत के बाइनरी सेक्सुअल नॉर्म्स (Binary Sexual Norms) के अंतर्गत भी नहीं रखा जाता है।
  • सोलेनम प्लास्टिसेक्सम विभिन्न प्रकार के पौधों में देखे जाने वाले यौन/प्रजनन रूप की विविधता का ही एक मॉडल है और यह इस बात को भी प्रमाणित करता है कि पृथ्वी पर उपस्थित जीवित प्राणियों के बीच ‘मानक’ लैंगिक स्थिति की पहचान करना बहुत ही जटिल कार्य है।
  • सामान्यतः सजीवों के अंतर्गत पादपों और जीवों में लैंगिक विविधता पाई जाती है उदाहरण के लिये- एक मादा छिपकली की प्रजातियाँ जिनके अंडों के प्रजनन के लिये आवश्यक सभी आनुवंशिक पदार्थ मौज़ूद होते हैं तथा मसखरा मछली, जो जन्म के समय नर होती हैं लेकिन बाद में मादा में परिवर्तित हो जाती हैं।

पूंजीगत लाभ कर

(Capital Gain Tax)

  • किसी ‘पूंजीगत परिसंपत्ति’ की बिक्री से हमे जो भी लाभ प्राप्त होता है उसे ‘पूंजीगत लाभ’ कहा जाता है। आयकर अधिनियम, 1961 के अनुसार इस लाभ को ‘आय’ के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
  • इसीलिए संपत्ति हस्तांतरित करने वाले व्यक्ति को अपने द्वारा कमाए गए लाभ पर आय के रूप में कर देना होता है जिसे ‘पूंजीगत लाभ कर’ कहा जाता है।
  • ‘पूंजीगत लाभ कर’ अल्पकाल तथा दीर्घकाल दोनों प्रकार का हो सकता है।
  • दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ कर : यह कर उन परिसंपत्तियों पर लगाया जाता जिन्हें एक साल या उससे अधिक समयावधि के लिये रखा गया हो। इसके लिए दरें 0%, 15% और 20% हैं।
  • अल्पकालिक पूंजीगत लाभ कर : यह कर उन परिसंपत्तियों पर लगाया जाता जिन्हें एक साल से कम समयावधि के लिये रखा गया हो। इस पर सामान्य आयकर की दरें ही लागू होती हैं।
  • यदि कोई परिसंपत्ति अपने ख़रीद मूल्य (purchase price) से कम मूल्य पर बेंची जाती है तो दोनों मूल्यों के अंतर को ‘पूंजीगत हानि’ कहा जाता है और जब ‘पूंजीगत लाभ’ में से ‘पूंजीगत हानि’ को घटाया जाता है तो हमे शुद्ध पूंजीगत लाभ (net capital gains) प्राप्त होता है।

‘पूंजीगत परिसंपत्ति’

  • ‘पूंजीगत परिसंपत्ति’ वह संपत्ति होती है जिसे सामान्य तौर पर बेचने के लिए नहीं रखा जाता है और जिसके मूल्य में प्रतिवर्ष मूल्य-ह्रास होता है। भूमि, भवन, गृह संपत्ति, वाहन, पेटेंट, ट्रेडमार्क, मशीन और आभूषण इस प्रकार की संपत्ति के प्रमुख उदाहरण हैं।

संपादित लाभ (Realized Gain)

यदि किसी संपत्ति को उसके ख़रीद मूल्य (purchase price) से अधिक मूल्य पर बेचा जाता है तो दोनों मूल्यों के अंतर को संपादित लाभ कहते हैं।

विरासती संपत्ति (Inherited Property):

  • ‘पूंजीगत लाभ’ का सिद्धांत विरासत में मिली संपत्ति पर लागू नहीं होता है, क्योंकि इस स्थिति में कोई भी संपत्ति बेची नहीं जाती सिर्फ हस्तांतरित की जाती है।
  • आयकर अधिनियम में खासतौर पर उन संपत्तियों को कर से छूट प्रदान की गई है जो वसीहत के माध्यम से उपहार के रूप में प्रदान होती है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close