हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 10 Sep, 2022
  • 11 min read
प्रारंभिक परीक्षा

संयुक्त राज्य अमेरिका और इंडोनेशिया संयुक्त सैन्य अभ्यास

हाल ही में संयुक्त राज्य अमेरिका और इंडोनेशियाई सेनाओं ने इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप पर वार्षिक संयुक्त युद्ध अभ्यास किया।

  • पहली बार हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन द्वारा बढ़ती समुद्री गतिविधि के बीच अन्य भागीदार देशों के प्रतिभागी भी शामिल हुए हैं।

संयुक्त सैन्य अभ्यास:

  • वर्ष 2022 के इस अभ्यास में अमेरिका, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, जापान और सिंगापुर के 5,000 से अधिक सैनिकों ने भाग लिया।
  • अभ्यास को एक स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत के समर्थन में अंतर-क्षमता, विश्वास और सहयोग को मज़बूत करने के लिये डिज़ाइन किया गया था।
  • यह अभ्यास 14 अगस्त 2022 तक चला, जिसमें सेना, नौसेना, वायु सेना और समुद्री अभ्यास शामिल थे।
  • अमेरिका और इंडोनेशिया के साथ के होने वाले भारत के सैन्य अभ्यास:
  • संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ होने वाले सैन्य अभ्यास:
  • भारत और अमेरिका संयुक्त सैन्य अभ्यास: यह भारत और अमेरिका के मध्य होने वाला सबसे बड़ा संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण और रक्षा सहयोग प्रयास है।
  • टाइगर ट्रायम्फ अभ्यास: इसका उद्देश्य मानवीय सहायता और आपदा राहत अभ्यास संचालन के लिये अंतर-क्षमता विकसित करना है।
  • अभ्यास वज्र प्रहार (विशेष बल अभ्यास): दोनों देशों के विशेष बलों द्वारा संयुक्त अभ्यास भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के मध्य वैकल्पिक रूप से आयोजित किया जाता है।
  • इंडोनेशिया के साथ होने वाले सैन्य अभ्यास:
  • अभ्यास समुद्र शक्ति: भारत की एक्ट ईस्ट नीति के अनुसरण में, अभ्यास 'समुद्र शक्ति' की शुरुआत वर्ष 2018 में द्विपक्षीय अभ्यास (IN-IDN) के रूप में की गई थी।
  • अभ्यास का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को मज़बूत करना और दोनों नौसेनाओं के मध्य समुद्री संचालन में आपसी समझ और अंतर को बढ़ाना है।
  • भारत-इंडोनेशिया कार्पेट (IND-INDO CORPAT) (समुद्री अभ्यास): भारत-इंडोनेशिया समन्वित गश्ती नौसेनाओं के मध्य समझ और अंतर-संचालन का निर्माण करती है और अवैध गैर-रिपोर्टेड अनियमित (IUU) मछली पकड़ने, मादक पदार्थों की तस्करी, समुद्री आतंकवाद, सशस्त्र डकैती और समुद्री डकैती को रोकने और कम करने के उपायों की सुविधा प्रदान करती है।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, विगत वर्षों के प्रश्न (PYQs):

प्रश्न. हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (IONS) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये: (2017)

  1. IONS का उद्घाटन भारतीय नौसेना की अध्यक्षता में वर्ष 2015 में भारत में किया गया था।
  2. IONS एक स्वैच्छिक पहल है जो हिंद महासागर क्षेत्र के तटीय राज्यों की नौसेनाओं के बीच समुद्री सहयोग को बढ़ाने का प्रयास करती है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (b)

व्याख्या:

  • ‘हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी’ (IONS) एक स्वैच्छिक और समावेशी पहल है, जो समुद्री सहयोग व क्षेत्रीय सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिये हिंद महासागर क्षेत्र के तटीय राज्यों की नौसेनाओं को एक साथ लाती है। अत: कथन 2 सही है।
  • यह समुद्री सुरक्षा सहयोग बढ़ाने और सदस्य देशों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों को बढ़ावा देने के लिये एक मंच प्रदान करती है।
  • इसका उद्घाटन IONS-2008 के रूप में फरवरी 2008 में नई दिल्ली, भारत में किया गया था। भारतीय नौसेनाध्यक्ष को वर्ष 2008-10 की अवधि के लिये IONS के अध्यक्ष के रूप में नामित किया गया था। अतः कथन 1 सही नहीं है।

अतः विकल्प (b) सही है

स्रोत: पी.आई.बी.


विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 10 सितंबर, 2022

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस 

प्रत्येक वर्ष 10 सितंबर को विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस (World Suicide Prevention Day) मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों में मानसिक स्वास्थ के प्रति जागरुकता फैलाना और आत्महत्या के बढ़ते मामलों को रोकना है। इसकी शुरुआत इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ सुसाइड प्रिवेंशन (IASP) द्वारा वर्ष 2003 में की गई थी। इस दिन कवर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ एंड वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन द्वारा स्पॉन्सर्ड किया जाता है। विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस को मनाने का पहला वर्ष सफल होने के बाद वर्ष 2004 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) औपचारिक रूप से इस आयोजन को फिर से को-स्पॉन्सर करने के लिये तैयार हुआ जिससे यह दिन एक वार्षिक मान्यता प्राप्त दिन (Annually Recognized Day) बन गया। वर्ष 2022 के लिये विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस की थीम ‘Creating hope through action’ यानी “लोगों में अपने काम के जरिये उम्मीद पैदा करना” निर्धारित की गयी है।इस दिन आयोजित होने वाले कार्यक्रम इसी थीम पर आधारित होंगे, इस थीम के माध्यम से विश्व स्वास्थ्य संगठन यह संदेश देना चाहता है कि आत्महत्या करने की सोच रखने वालों को किसी भी तरह से अपनी उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिये।

‘पश्चिमी क्षेत्रीय परामर्श बैठक 

महिला विकास प्रकोष्ठ और आंतरिक शिकायत समिति, गुजरात विश्वविद्यालय के सहयोग से 'राष्ट्रीय महिला आयोग' (National Women Commission-NCW) ने विभिन्न हितधारकों जिसमें गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गोवा राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश दादरा नगर हवेली तथा दमन और दीव के महिला आयोगों तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के प्रतिनिधि एवं स्वाधार गृह, उज्ज्वला और वन स्टॉप सेंटर्स का प्रतिनिधित्त्व करने वाले गैर सरकारी संगठन शामिल हैं, के साथ एक दिवसीय पश्चिमी क्षेत्रीय परामर्श बैठक का आयोजन किया। इस परामर्श बैठक में इन संगठनों के समक्ष आने वाली विभिन्न समस्याओं और उनके कारणों तथा महिला कल्याण, आश्रय, सशक्तिकरण एवं अधिकारों की सुरक्षा जैसे विषयों पर विचार-विमर्श किया गया। NCW की अध्यक्षा सुश्री रेखा शर्मा ने इस परामर्श बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लिया। भारत में महिलाओं की स्थिति पर गठित समिति ने लगभग पाँच दशक पहले शिकायतों के निवारण की सुविधा एवं महिलाओं के सामाजिक-आर्थिक विकास में तीव्रता लाने हेतु निगरानी कार्यों को पूरा करने के लिये ‘राष्ट्रीय महिला आयोग’ की स्थापना की सिफारिश की थी।  महिलाओं के लिये राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य योजना (1988-2000) सहित अन्य सभी समितियों और आयोगों ने महिलाओं के लिये एक शीर्ष निकाय के गठन की सिफारिश की। राष्ट्रीय महिला आयोग अधिनियम, 1990 के तहत राष्ट्रीय महिला आयोग की स्थापना जनवरी 1992 में एक वैधानिक निकाय के रूप में की गई थी। आयोग का गठन 31 जनवरी 1992 को ‘जयंती पटनायक’ की अध्यक्षता में किया गया था। आयोग में एक अध्यक्ष, एक सदस्य सचिव और पाँच अन्य सदस्य होते हैं। NCW के अध्यक्ष को केंद्र सरकार द्वारा नामित किया जाता है।

ज्यूरिख डायमंड लीग 

हाल ही में टोक्यो ओलिम्पिक में स्‍वर्ण पदक विजेता भाला फेंक खिलाड़ी/ज्‍वैलिन खिलाड़ी नीरज चोपड़ा स्विट्रज़लैंड में ज्यूरिख डायमंड लीग फाइनल 2022 जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। नीरज चोपड़ा ने ज्यूरिख डायमंड लीग में 88.44 मीटर भाला फेंककर डायमंड लीग ट्रॉफी जीत ली। उल्लेखनीय है कि डायमंड लीग को ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप के बाद ट्रैक एंड फील्ड की सबसे प्रतिष्ठित प्रतियोगिता माना जाता है। वर्ष 2010 में शुरू हुए इस लीग के 13वें संस्करण का आयोजन स्विट्रज़लैंड के ज्यूरिख में किया गया। नीरज ने इससे पहले वर्ष 2017 और 2018 में भी फाइनल के लिये क्वालिफाई किया था, जहाँ वह क्रमशः सातवें एवं चौथे स्थान पर रहे थे, नीरज चोपड़ा ने अपने शानदार प्रदर्शन से भारतीय खेलों को नई ऊँचाई पर पहुँचाया है। वर्ष 2022 की शुरुआत में स्टॉकहोम डायमंड लीग में नीरज चोपड़ा 94 मीटर दूर व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ भाला फेंककर दूसरे स्थान पर रहे थे। गौरतलब है कि हाल ही में नीरज ने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल मैच में 88.13 मीटर के थ्रो के साथ सिल्वर मेडल जीता था। वह अंजू बॉबी जॉर्ज (2003) के बाद ऐसा करने वाले दूसरे एथलीट हैं।


एसएमएस अलर्ट
Share Page