हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

दृष्टि आईएएस ब्लॉग

होमी जहाँगीर भाभा और भारत का परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम

टाटा फंडामेंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक शिक्षक छात्रों को परमाणु ऊर्जा के बारे में समझा रहा था। इतने में ही इस शिक्षक के निजी सहायक उन्हें धीरे से बुलाते है और कान में फुसफुसाकर कहते है कि सर, प्रधानमंत्री नेहरू जी आपसे बात करना चाहते है। इस पर वह शिक्षक अपने निजी सहायक से कहता है कि उनसे कहिये कि मैं अभी बच्चों को पढ़ा रहा हूँ, कक्षा खत्म होने तक वे इंतज़ार करें, फिर मैं उनसे बात कर लूँगा।

उपर्युक्त परिच्छेद में जिन शिक्षक महोदय की बात हो रही थी, उनका नाम है- डॉ. होमी जहाँगीर भाभा। भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के जनक और आज़ाद भारत मे वैज्ञानिक चेतना के विकास में अहम भूमिका निभाने वाले भाभा का जन्म आज ही के दिन यानी 30 अक्तूबर 1909 को मुंबई के एक प्रतिष्ठित पारसी परिवार में हुआ था। उनके पिता जहाँगीर भाभा एक प्रसिद्ध वकील थे।

होमी जहाँगीर भाभा की प्रारम्भिक शिक्षा उनके गृहक्षेत्र मुम्बई में ही स्थित कैथेड्रल स्कूल और जॉन केनन स्कूल से संपन्न हुई थी। स्कूली शिक्षा के दौरान ही उनमें गणित और भौतिकी विषयों में रूचि उत्पन्न हो गई थी। बारहवीं की पढ़ाई उन्होंने मुम्बई के एलफिंस्टन कॉलेज से की थी। इसके उपरांत उन्होंने रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस से बीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण की। आगे की पढ़ाई के लिये होमी जहाँगीर भाभा लंदन चले गए।

Homi_bhabha

दरअसल उनके पिताजी चाहते थे कि वो मैकेनिकल इंजीनियर बने। इसलिये उन्होंने 1927 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। हालाँकि मैकेनिकल इंजीनियरिंग में उनका दिल न लगता था। 1930 में उन्होंने कैवेंडिश लैब में दाखिला लिया। यहाँ पर समय बिताना व शोध करना उन्हें बहुत अच्छा लगता था। इस दौरान भौतिकी विषय मे शोध कार्यों को लेकर उनकी रूचि लगातार बढ़ती रही।

कॉस्मिक किरणों और उनके अनुप्रयोगों पर वो लगातार शोध कर रहे थे। इसके लिये वे जर्मनी भी गए। वर्ष 1933 में कॉस्मिक किरणों पर उनका शोधपत्र द अबज़ाॅर्पशनऑफ कॉस्मिक रेडिएशन प्रकाशित हुआ। इस शोधपत्र में उन्होंने कॉस्मिक किरणों की अवशोषक और इलेक्ट्रॉन उत्पन्न करने की क्षमताओं का प्रदर्शन किया। इसके एक वर्ष बाद यानी साल 1934 में कॉस्मिक किरणों संबंधी अपने शोधकार्य हेतु कैम्ब्रिज विश्विद्यालय से पीएचडी की उपाधि भी धारण की।

वर्ष 1934 में ही उन्हें आइज़क न्यूटन स्टूडेंटशिप भी प्राप्त हुई। इस दौरान उन्होंने रदरफोर्ड जैसे नामी वैज्ञानिक के साथ भी काम किया। वर्ष 1939 में डॉ. होमी जहाँगीर भाभा वापिस भारत आ गए। भारत आकर उन्होंने बेंगलुरू स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान में भौतिक विज्ञान के रीडर के रूप में कार्य करना शुरू कर दिया। यहाँ पर कॉस्मिक किरणों पर नवीनतम खोज हेतु एक अलग विभाग की स्थापना भी की। इसी दौरान वर्ष 1941 में महज 31 वर्ष की आयु में उन्हें रॉयल सोसाइटी का सदस्य भी चुना गया। वर्ष 1944 में भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु में ही वे भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर नियुक्त हुए।

डॉ. होमी जहाँगीर भाभा, उद्योगपति जेआरडी टाटा के अभिन्न मित्र भी थे। इन दोनों प्रबुद्ध जनों की इस प्रगाढ़ मित्रता की प्रमुख वजह इनका भारत में वैज्ञानिक चेतना के विकास को लेकर एक जैसी समझ का होना था। इसीलिये उन्होंने साथ मिलकर वर्ष 1957 में मुम्बई के नजदीक ट्रॉम्बे में टाटा फंडामेंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट की स्थापना भी की। इस संस्थान के पहले निर्देशक के रूप में होमी जहाँगीर भाभा ने ही कार्य किया। कालांतर में इंदिरा गांधी ने इसी संस्थान का नाम बदलकर भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र कर दिया।

JRD-Tata

होमी जहाँगीर भाभा और जेआरडी टाटा

डॉ. होमी जहाँगीर भाभा जितने योग्य शिक्षक थे उतने ही योग्य वैज्ञानिक भी थे। उनका जोर लगातार इस बात पर था कि भारत परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में नित नए कीर्तिमान स्थापित करे और इसका निष्पादन मानवता संबंधी कार्यों में किया जा सके। इसीलिये वे आज़ाद भारत मे भारतीय परमाणु ऊर्जा आयोग की स्थापना में मदद करते हैं। इस मंच की सहायता से वे अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा मंचो पर भारत का प्रतिनिधित्व भी करते थे।

इन मंचो पर उनके द्वारा बेहद सटीकता के साथ रखी गई बातों का ही परिणाम है कि आज भारत एक सशक्त परमाणु संपन्न राष्ट्र है। वर्ष 1955 में संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग पर एक सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। जेनेवा में संपन्न हुए इस सम्मेलन का सभापति डॉ. होमी जहाँगीर भाभा को ही नियुक्त किया जाता है। भाभा यहाँ पर बेहद ऊर्जापूर्ण तरीके से तर्कों के अपनी बात उठाते है और इसका नतीजा यह होता है कि कनाडा, परमाणु रिएक्टर स्थापना के क्षेत्र में भारत का सहयोग करने को तैयार हो जाता है। भारत-कनाडा के मध्य परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में किये गए इन्हीं सहयोगों का विस्तार थी- साइरस योजना।

Geneva-Convention

जेनेवा सम्मलेन में होमी जहाँगीर भाभा

विज्ञान के अलावा शास्त्रीय संगीत, मूर्तिकला और नृत्यकला में भी उनकी रूचि थी। इसीलिये प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. सी. वी. रमण उन्हें भारत का लिओनार्दो दा विंची भी कहते थे। डॉ. होमी जहाँगीर भाभा द्वारा परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र मे किये गए नवीनतम अनुसंधान आधुनिक भारत के निर्माण की कहानी है। वे न सिर्फ एक कुशल शिक्षक व वैज्ञानिक थे बल्कि एक सजग राष्ट्रप्रहरी भी थे।

यही कारण है कि उन्होंने भारत से जाकर विदेशों में बस चुके वैज्ञानिकों से देश वापिस लौटने की अपील भी की। वर्ष 1947 में उनके नेतृत्व में भारत के भावी परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की गई। इस कार्यक्रम का उद्देश्य भारत में एक सशक्त परमाणु नीति का निर्माण करना था। इस कार्यक्रम के 1 वर्ष बाद यानी वर्ष 1948 में ही भारतीय परमाणु ऊर्जा आयोग की स्थापना की जाती है।

यदि डॉ. होमी जहाँगीर भाभा के द्वारा विज्ञान के क्षेत्र मे दिये गए योगदान पर चर्चा करें तो उन्होंने भौतिकी के विभिन्न क्षेत्रों में नये-नये अनुसंधान किये हैं। भाभा ने इलेक्ट्रॉनों द्वारा पॉजिट्रॉन को बिखेरने की संभावना के लिये एक सटीक अभिव्यक्ति की रूपरेखा प्रस्तुत की। भाभा ने अपनी विज्ञान कूटनीति के माध्यम से भारत को इस क्षेत्र मे शक्ति संपन्न बनाने में भी अहम योगदान दिया।

वर्ष 1960 के दशक में विकसित देश द्वारा विकासशील देशों को लगातार ये सलाह दी जा रही थी कि इन्हें परमाणु शक्ति संपन्न होने से पहले दूसरे पहलुओं पर ध्यान देना चाहिये। विकसित देशों द्वारा उठाई जा रही इस बात का ज़ोरदार खंडन करते हुए डॉ. होमी जहाँगीर भाभा ने कहा कि विकासशील देशों को अपने यहाँ विकास कार्यों में परमाणु ऊर्जा की सहायता अवश्य लेनी चाहिये।

उनके इन्हीं प्रयासों का नतीजा था कि भारत मे वर्ष 1954 में परमाणु ऊर्जा विभाग की स्थापना की गई। इस विभाग का प्रमुख दायित्व था कि यह भारत के लिये एक सशक्त परमाणु ऊर्जा नीति की रूपरेखा निर्मित करे। डॉ. होमी जहाँगीर भाभा द्वारा किये जा रहे इन प्रयासों का ही नतीजा था कि 18 मई 1974 को भारतीय परमाणु ऊर्जा आयोग द्वारा पोखरण में भारत का पहला भूमिगत परमाणु परीक्षण संपादित किया गया। बाद में वर्ष 1998 में भारत जब पूर्णतया परमाणु शक्ति संपन्न देश बना तो इसने भारत के पड़ोसियों चीन और पाकिस्तान के साथ भी शक्ति संतुलन स्थापित किया।

भारत द्वारा परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में शक्ति संपन्न बनने का परिणाम अनेक क्षेत्रों में परिलक्षित होता है। इसने भारत की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ किया है। लंबी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइलों, समुद्र आधारित परमाणु वेक्टर, सीमित बैलेस्टिक मिसाइल रक्षा कार्यक्रम का निर्माण इन्हीं की बुनियाद पर किया गया है। भाभा ने परमाणु ऊर्जा तकनीक के व्यापक कमांड और नियंत्रण पर भी काम किया है। चूँकि भारत में यूरेनियम की कमी है और यूरेनियम प्रमुख नाभिकीय ईंधन है। इसलिये भाभा ने नाभिकीय ईंधन के रूप में थोरियम के विकास हेतु भी अनुसंधान शुरू किये। इसी के बाद फर्स्ट टाइप रिएक्टर की अवधारणा सामने आई। इसमें प्लूटोनियम की मदद से थोरियम का विखंडनीय पदार्थ के रूप में विकास किया गया।

यह भाभा के प्रयासों का ही परिणाम है कि आज भारत मे 5 परमाणु शोध केंद्र है- भाभा परमाणु अनुसंधान संस्थान, मुम्बई , इंदिरा गाँधी परमाणु ऊर्जा संस्थान, कलपक्कम , उन्नत तकनीकी केंद्र, इंदौर, वेरिएबल एनर्जी साइक्लोट्रोन केंद्र, कोलकाता और परमाणु पदार्थ अन्वेषण एवं अनुसंधान निर्देशालय, हैदराबाद है। इसके अलावा सात संस्थाएँ हैं जो परमाणु अनुसंधान में सहायता करती हैं- टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुम्बई , टाटा स्मारक केंद्र, मुम्बई , भौतिकी संस्थान, भुवनेश्वर , साहा भौतिकी संस्थान, कोलकाता , मेहता गणित एवं गणितीय संस्थान, इलाहाबाद , गणित विज्ञान संस्थान, चेन्नई , प्लाजमा अनुसंधान संस्थान, गांधीनगर है। आज भारत के पास 22 नाभिकीय ऊर्जा रिएक्टर है जहाँ पर 24 हजार मेगावॉट नाभिकीय विद्युत का उत्पादन होता है।

डॉ. होमी जहाँगीर भाभा को परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में दिये गए उनके अमूल्य योगदान के लिये विभिन्न पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया। वर्ष 1943 में उन्हें एडम्स पुरस्कार मिला। भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में दिये गए उनके अद्वितीय योगदान हेतु उन्हें वर्ष 1948 में हॉपकिंस पुरस्कार दिया गया। वर्ष 1954 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया। भाभा को 5 बार नोबेल पुरस्कार हेतु भी नामित किया गया। हालाँकि उन्हें यह पुरस्कार मिल न सका लेकिन विज्ञान के क्षेत्र में उनके अतुलनीय योगदान को कभी भुलाया न जा सकता है।

  संकर्षण शुक्ला  

संकर्षण शुक्ला उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले से हैं। इन्होने स्नातक की पढ़ाई अपने गृह जनपद से ही की है। इसके बाद बीबीएयू लखनऊ से जनसंचार एवं पत्रकारिता में परास्नातक किया है। आजकल वे सिविल सर्विसेज की तैयारी करने के साथ ही विभिन्न वेबसाइटों के लिए ब्लॉग और पत्र-पत्रिकाओं में किताब की समीक्षा लिखते हैं।

स्रोत

https://youtu.be/4JkGpV_Dp-I 

 

-->
एसएमएस अलर्ट
Share Page