18 जून को लखनऊ शाखा पर डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के ओपन सेमिनार का आयोजन।
अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें:

  संपर्क करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 27 Mar 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
छत्तीसगढ़ Switch to English

CCI ने लैंको अमरकंटक पावर लिमिटेड के 100% अधिग्रहण को मंज़ूरी दी

चर्चा में क्यों?

हाल ही में भारतीय प्रतिस्पर्द्धा आयोग (CCI) ने अडानी पावर लिमिटेड द्वारा लैंको अमरकंटक पावर लिमिटेड के 100% अधिग्रहण को मंज़ूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु:

  • अडानी पावर लिमिटेड (अधिग्रहणकर्त्ता), अडानी समूह का एक हिस्सा जो भारत के कानूनों के तहत निगमित कंपनी है।
    • यह भारत में ताप विद्युत उत्पादन के व्यवसाय में लगी हुई है
    • यह गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड और मध्य प्रदेश सहित भारत के कई राज्यों में ताप विद्युत संयंत्र संचालित करती है।
    • अडानी समूह एक वैश्विक एकीकृत बुनियादी ढाँचा कंपनी है, जो प्रमुख उद्योग क्षेत्रों संसाधनों, लॉजिस्टिक्स और ऊर्जा में कारोबार करती है।
  • लैंको समूह का एक हिस्सा लैंको अमरकंटक पावर लिमिटेड (लक्ष्य) भारत में ताप विद्युत उत्पादन के व्यवसाय में लगा हुआ है।
    • यह वर्तमान में दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता, 2016 (IBC) के तहत कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (CIRP) से गुज़र रहा है।
    • प्रस्तावित संयोजन अधिग्रहणकर्त्ता द्वारा लक्ष्य की 100% इक्विटी शेयर पूंजी के अधिग्रहण से संबंधित है।

भारतीय प्रतिस्पर्द्धा आयोग (CCI)

  • भारतीय प्रतिस्पर्द्धा आयोग एक सांविधिक निकाय है जो प्रतिस्पर्द्धा अधिनियम, 2002 के उद्देश्यों को लागू करने के लिये उत्तरदायी है। इसका विधिवत गठन मार्च 2009 में किया गया था।
  • राघवन समिति की सिफारिशों के आधार पर एकाधिकार और प्रतिबंधात्मक व्यापार व्यवहार अधिनियम (MRTP Act), 1969 को निरस्त कर इसे प्रतिस्पर्द्धा अधिनियम, 2002 द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है।

दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता, 2016

  • इसे भारत के आर्थिक इतिहास में सबसे बड़े शोधन अक्षमता सुधारों में से एक माना जाता है।
  • इसे ऐसे व्यक्तियों की संपत्ति के मूल्य को अधिकतम करने के लिये समयबद्ध तरीके से कॉर्पोरेट व्यक्तियों, साझेदारी फर्मों और व्यक्तियों के पुनर्गठन तथा शोधन अक्षमता समाधान के लिये अधिनियमित किया गया था।

कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (CIRP)

  • भारत में CIRP, IBC द्वारा शासित एक समयबद्ध प्रक्रिया है जिसका उद्देश्य अपनी संपत्ति के मूल्य को अधिकतम करते हुए कॉर्पोरेट देनदार के वित्तीय संकट को हल करना है।
  • इस प्रक्रिया का प्राथमिक उद्देश्य वित्तीय रूप से संकटग्रस्त कंपनी का पुनरुद्धार सुनिश्चित करना है और ऐसे मामलों में जहाँ कंपनी का पुनरुद्धार संभव नहीं है, यह संकटग्रस्त कंपनी की संपत्ति का व्यवस्थित परिसमापन सुनिश्चित करता है जिसे कॉर्पोरेट देनदार घोषित किया गया है।


राजस्थान Switch to English

राजस्थान में विश्व का पहला ‘ॐ’ आकार का मंदिर

चर्चा में क्यों?

राजस्थान के पाली ज़िले में पवित्र प्रतीक 'ॐ' के आकार का एक सुंदर मंदिर वर्तमान में निर्माणाधीन है। इस प्रतिष्ठित रूप में डिज़ाइन किया गया यह विश्व का पहला मंदिर होगा।

मुख्य बिंदु:

  • 'ॐ आकार' मंदिर के नाम से मशहूर यह स्मारकीय संरचना पाली ज़िले के जादान गाँव में नागर शैली में 250 एकड़ के विशाल विस्तार में फैली हुई है।
  • सूत्रों के अनुसार यह महत्त्वपूर्ण कार्य वर्ष 1995 में मंदिर की आधारशिला रखने के साथ शुरू हुआ था, जिसके वर्ष 2023-24 तक पूरा होने की उम्मीद जताई गई थी।
    • यह अपने पवित्र परिसर में भगवान महादेव की 1,008 मूर्तियों और 12 ज्योतिर्लिंगों को रखने में सक्षम होगा।
    • 135 फीट की ऊँचाई पर स्थित यह मंदिर 2,000 स्तंभों के सहारे खड़ा है, इसके परिसर में 108 कमरों की व्यवस्था की गई है।
    • मंदिर परिसर की केंद्रीय विशेषता गुरु माधवानंद जी की समाधि है।
    • मंदिर के सबसे ऊपरी खंड में एक गर्भगृह है जो धौलपुर की बंसी पहाड़ी से प्राप्त स्फटिक से निर्मित शिवलिंग से सुशोभित है।
  • इस भव्य परियोजना के पीछे दूरदर्शी ओम आश्रम के संस्थापक विश्व गुरु महामंडलेश्वर परमहंस स्वामी महेश्वर नंद पुरीजी महाराज हैं।
  • हिंदू धर्म में ॐ मंत्र का अत्यधिक महत्त्व है क्योंकि अनुयायियों द्वारा प्रतिदिन प्रातःकाल इस महामंत्र का जाप किया जाता है।

नागर शैली का मंदिर

  • उत्तर भारत में यह आम बात है कि पूरा मंदिर एक पत्थर के चबूतरे पर बनाया जाता है और ऊपर तक जाने के लिये सीढ़ियाँ होती हैं।
  • इसके अलावा, दक्षिण भारत के विपरीत इसमें सामान्यतः विस्तृत सीमा दीवारें या प्रवेश द्वार नहीं होते हैं।
  • जबकि शुरुआती मंदिरों में सिर्फ एक टावर या शिखर होता था, बाद के मंदिरों में कई टावर या शिखर होते थे।
  • गर्भगृह हमेशा सबसे ऊँचे टॉवर के ठीक नीचे स्थित होता है।
  • शिखर के आकार के आधार पर नागर मंदिरों के कई उपविभाग हैं।
  • भारत के विभिन्न हिस्सों में मंदिर के विभिन्न हिस्सों के अलग-अलग नाम हैं; हालाँकि साधारण शिखर का नाम जो आधार पर वर्गाकार होता है और जिसकी दीवारें शीर्ष पर एक बिंदु तक अंदर की ओर होती हैं, उसे 'लैटिना' या रेखा-प्रसाद प्रकार का शिकारा कहा जाता है।
  • नागरा क्रम में वास्तुशिल्प का दूसरा प्रमुख प्रकार फमसाना है, जो लैटिना की तुलना में व्यापक और छोटा होता है।
  • उनकी छतें कई स्लैबों से बनी होती हैं जो धीरे-धीरे इमारत के केंद्र पर एक बिंदु तक उठती हैं, लैटिन छतों के विपरीत जो तेज़ी से बढ़ते ऊँचे टावरों की तरह दिखती हैं।
  • नागर भवन के तीसरे मुख्य उप-प्रकार को सामान्यतः वल्लभी प्रकार कहा जाता है।
  • ये आयताकार इमारतें हैं जिनकी छत एक गुंबददार कक्ष में उठी हुई है।


हरियाणा Switch to English

विश्व कबड्डी दिवस

चर्चा में क्यों?

हाल ही में 24 मार्च को हरियाणा के पंचकुला स्थित ताऊ देवी लाल इंडोर स्टेडियम में विश्व कबड्डी दिवस मनाया गया।

मुख्य बिंदु:

  • होलिस्टिक इंटरनेशनल प्रवासी स्पोर्ट्स एसोसिएशन (HIPSA) ने विश्व कबड्डी नामक संगठन के साथ मिलकर इस वर्ष कार्यक्रम का आयोजन किया।
  • हाल ही में विश्व स्तर पर कबड्डी को बढ़ावा देने के लिये HIPSA और हरियाणा सरकार के बीच हस्ताक्षरित एक समझौता ज्ञापन (MoU) आयोजन स्थल के रूप में भारत तथा आयोजन के लिये हरियाणा को चुनने के मुख्य कारणों में से एक था।
  • हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय मुख्य अतिथि थे और गिनीज़ टीम द्वारा राज्यपाल को गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया।
  • गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड का प्रयास 'कबड्डी प्रदर्शनी मैच में सर्वाधिक खिलाड़ियों' के लिये था।

विश्व कबड्डी दिवस

  • यह दिवस वर्ष 2019 से प्रत्येक वर्ष 24 मार्च को मनाया जाता है।
  • थीम: पुरुषों द्वारा निर्मित, महिलाओं द्वारा परिपूर्ण।
    • इस विषय को महिलाओं के बीच खेल को बढ़ावा देने के लिये और विश्व स्तर पर कबड्डी के खेल को विकसित करने के लिये HIPSA के साथ हाल ही में हुए समझौता ज्ञापन के अनुरूप चुना गया था।

होलिस्टिक इंटरनेशनल प्रवासी स्पोर्ट्स एसोसिएशन (HIPSA)

  • यह एक गैर-लाभकारी कंपनी है, जो कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के तहत पंजीकृत है। इसका मुख्यालय भारत में है।
  • इसका उद्देश्य उन खेलों पर विशेष ध्यान देने के साथ खेल के माध्यम से प्रवासी भारतीय युवाओं को भारत में बढ़ावा देना और 'एकीकृत' करना है जिन पर भारत को गर्व है।
  • क्रिकेट, कबड्डी, शतरंज, खो-खो, मल्लखंभ, कुस्ती, तीरंदाजी कुछ ऐसे खेल हैं जिनसे हमारा देश अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध हुआ है।
  • खेल, 'योग एक अभ्यास के रूप में' और 'ज्ञान के लिये संस्कृति' के साथ भविष्य हेतु HIPSA के दृष्टिकोण में निर्धारित समग्र उद्देश्य हैं।


हरियाणा Switch to English

पलवल: बाल जन्म लिंगानुपात में शीर्ष स्थान

चर्चा में क्यों?

स्वास्थ्य विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2023 में पलवल ज़िला राज्य में 1,000 लड़कों के मुकाबले 946 लड़कियों के सर्वोत्तम बाल जन्म लिंगानुपात के साथ पहले स्थान पर रहा।

  • ज़िले के 25 गाँवों ने 1,000 या उससे अधिक बाल जन्म लिंगानुपात हासिल किया है।

मुख्य बिंदु:

  • वर्ष 2022 में यह ज़िला 12वें स्थान पर था। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत पंचकुला में आयोजित एक समारोह में उपायुक्त को 5 लाख रुपए का नकद इनाम मिला।
  • जनवरी और दिसंबर 2023 के बीच ज़िले में कुल 28,989 जन्म दर्ज किये गए।
    • इस अवधि में 14,899 लड़कों के जन्म के मुकाबले लड़कियों की संख्या 14,090 थी, जिससे औसत लिंगानुपात पहली बार 946 के आँकड़े तक पहुँच गया।
  • पंचकुला और फतेहाबाद को 942 एवं 934 के अनुपात के साथ क्रमशः दूसरा तथा तीसरा स्थान मिला।
  • जहाँ नूंह और गुरुग्राम चौथे एवं पाँचवें स्थान पर रहे, वहीं रोहतक वर्ष 2023 में सिर्फ 883 के आँकड़े के साथ सबसे नीचे रहा।
  • पलवल के पड़ोसी ज़िले फरीदाबाद को वर्ष 2023 में 906 के अनुपात के साथ 16वाँ स्थान मिला।
  • वर्ष 2023 में राज्य का औसत बाल लिंगानुपात 906 था।
    • बाल लिंगानुपात की गणना 0-6 वर्ष आयु वर्ग में प्रति 1000 लड़कों पर लड़कियों की संख्या के आधार पर की जाती है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान

  • इसे जनवरी 2015 में लिंग चयनात्मक गर्भपात (Sex Selective Abortion) और गिरते बाल लिंग अनुपात (Declining Child Sex Ratio) को संबोधित करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था, जो 2011 में प्रति 1,000 लड़कों पर 918 लड़कियाँ था।
  • यह महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक संयुक्त पहल है।
  • यह कार्यक्रम देश के 405 ज़िलों में लागू किया जा रहा है।

बिहार Switch to English

न्यूयॉर्क में 'बिहार दिवस' पर प्रमुख भारतीय-अमेरिकियों को सम्मानित किया

चर्चा में क्यों?

हाल ही में बिहार से आने वाले भारतीय-अमेरिकी प्रवासी के चार प्रमुख सदस्यों को उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों और योगदान के लिये 'बिहार दिवस' के अवसर पर सम्मानित किया गया।

मुख्य बिंदु:

  • होल्टेक इंटरनेशनल के संस्थापक और CEO डॉ. क्रिस सिंह, विप्रो के मुख्य परिचालन अधिकारी अमित चौधरी, PRAN मेडिकल ग्रुप के संस्थापक डॉ. दिनेश रंजन और न्यूट्रीवेट फार्मकेयर के निदेशक अभिनव अतुल को सम्मानित किया गया।
  • बिहार फाउंडेशन यूएसए, ईस्ट कोस्ट चैप्टर और बिहार झारखंड एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका (BJANA) की साझेदारी में न्यूयॉर्क में भारत के महावाणिज्य दूतावास द्वारा आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में उन्हें 'बिहार विश्व गौरव सम्मान' से सम्मानित किया गया।
  • इस कार्यक्रम में बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर के साथ-साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संदेश भी शामिल थे तथा इसमें बिहार और क्षेत्र के कई प्रवासी सदस्यों ने भाग लिया।
    • इसमें राज्य के विकास, पर्यटन, सांस्कृतिक विरासत, प्रसिद्ध मधुबनी कला और लोकप्रिय पाक व्यंजनों पर प्रकाश डाला गया।

बिहार झारखंड एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका (BJANA)

  • इसकी स्थापना वर्ष 1976 में बिहार के लोगों को एक साझा मंच पर लाने तथा संयुक्त राज्य अमेरिका में त्रि-राज्य क्षेत्र (न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी एवं कनेक्टिकट) में बिहार और झारखंड के लोगों के बीच सामाजिक तथा सांस्कृतिक बंधन को सुविधाजनक बनाने के लिये की गई थी।

उत्तर प्रदेश Switch to English

5 करोड़ आयुष्मान कार्ड जारी करने वाला पहला राज्य बना उत्तर प्रदेश

चर्चा में क्यों?

हाल ही में उत्तर प्रदेश ने पाँच करोड़ आयुष्मान कार्ड जारी करने वाला भारत का पहला राज्य बनकर एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है।

मुख्य बिंदु:

  • आर्थिक रूप से वंचित व्यक्तियों को स्वास्थ्य देखभाल लागत के खिलाफ वित्तीय सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से बनाई गई आयुष्मान भारत योजना में उत्तर प्रदेश में उल्लेखनीय प्रगति देखी गई है।
    • कुल 50,017,920 आयुष्मान कार्ड जारी किये गए, जिससे 74,382,304 व्यक्तियों को लाभ हुआ, राज्य इस महत्त्वपूर्ण पहल को लागू करने में अग्रणी बनकर उभरा है।
  • आयुष्मान कार्ड जारी करने की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित किया गया है, पंचायत सहायकों, जोतदारों और आशा कार्यकर्त्ताओं ने निवासियों के लिये कार्ड बनाने की सुविधा हेतु घर-घर जाकर दौरा किया है।
    • पात्र लाभार्थी अपने कार्ड अपने संबंधित गाँवों के ग्राम पंचायत भवन से भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • आयुष्मान भारत योजना के तहत, उत्तर प्रदेश में 92.48% की प्रभावशाली निपटान दर के साथ कुल 3,481,252 स्वास्थ्य दावे दायर किये गए हैं।
    • यह ज़रूरतमंदों को समय पर सहायता प्रदान करने में योजना की प्रभावशीलता को इंगित करता है।

आयुष्मान भारत योजना

  • यह पूरी तरह से सरकार द्वारा वित्तपोषित विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है।
  • वर्ष 2018 में लॉन्च की गई, यह माध्यमिक देखभाल और तृतीयक देखभाल के लिये प्रति परिवार 5 लाख रुपए की बीमा राशि प्रदान करती है।
    • स्वास्थ्य लाभ पैकेज में सर्जरी, चिकित्सा एवं डे केयर उपचार, दवाओं और निदान की लागत शामिल है।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow