दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 17 Mar 2023
  • 0 min read
  • Switch Date:  
राजस्थान Switch to English

16 ज़िलों के 8 हज़ार 108 ग्राम अभावग्रस्त घोषित

चर्चा में क्यो?

16 मार्च, 2023 को राज्य सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर 16 ज़िलों के 8 हज़ार 108 ग्राम अभावग्रस्त घोषित कर दिये। यह अधिसूचना 31 मार्च, 2023 तक लागू रहेगी।

प्रमुख बिंदु

  • ज़िला कलेक्टरों से प्राप्त खरीफ फसल 2022 (संवत 2079) नियमित एवं विशेष गिरदावरी रिपोर्ट के आधार पर बाढ़ से फसल खराब होने पर किसानों को राहत प्रदान करने के लिये इन ज़िलों के ग्रामों के लिये के लिये अधिसूचना जारी की गई है।
  • आपदा प्रबंधन, सहायता एवं नागरिक सुरक्षा विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार झालावाड़ ज़िले के 1597 ग्राम, बारां के 1231, भरतपुर के 957, कोटा के 766, बाँसवाड़ा के 717 तथा टोंक ज़िले के 716 ग्रामों को राहत प्रदान की गई है।
  • इसी प्रकार प्रतापगढ़ ज़िले के 625, बूंदी के 517, नागौर के 347, उदयपुर के 274, अजमेर के 227, धौलपुर के 58, जोधपुर के 47, सवाई माधोपुर के 14, करौली के 13 तथा श्रीगंगानगर के 02 ग्रामों को राहत प्रदान की गई है।

राजस्थान Switch to English

राजस्थानी भाषा को राजभाषा का दर्जा देने हेतु समिति का गठन

चर्चा में क्यो?

16 मार्च, 2023 को राजस्थान के शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने विधानसभा में कहा कि राजस्थानी भाषा को राजस्थान की द्वितीय राजभाषा घोषित करने के संबंध में भाषा राज्यमंत्री ने एक समिति के गठन का अनुमोदन किया है।

प्रमुख बिंदु

  • शिक्षा मंत्री ने बताया कि यह समिति छत्तीसगढ़ एवं झारखंड के मॉडल का अध्ययन कर वहाँ की तर्ज पर राजस्थानी भाषा को मान्यता देने के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।
  • विदित है कि शिक्षा मंत्री विधानसभा में शून्यकाल के दौरान सदस्य राजेंद्र राठौड़ द्वारा राजस्थानी भाषा को राज्य की राजभाषा बनाने एवं तृतीय भाषा के रुप में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में जोड़ने के संबंध में लाए गए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का जवाब दे रहे थे।
  • उन्होंने कहा कि वर्तमान में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अंतर्गत पाठ्यक्रम में राजस्थानी भाषा साहित्यिक विषय के रुप में शामिल है। उन्होंने कहा कि सक्षम स्तर से अनुमोदन के बाद इसे तृतीय भाषा के रुप में शामिल किया जाना संभव होगा।
  • डॉ. कल्ला ने बताया कि राजस्थानी भाषा को मान्यता देने एवं संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करवाने के संबंध में राज्य विधानसभा के सभी सदस्यों द्वारा दिनांक 25 अगस्त, 2003 को सर्वसम्मति से संकल्प पारित किया गया था।
  • राजस्थानी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किये जाने के लिये केंद्र सरकार से समय-समय पर आग्रह किया जाता रहा है। इस संबंध में वर्ष 2009, 2015, 2017, 2019, 2020 व 2023 में मुख्यमंत्रियों द्वारा केंद्र सरकार को निवेदन किया गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रकरण भारत सरकार के स्तर पर विचाराधीन है।
  • शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के ध्यान में आया है कि विभिन्न राज्यों में अलग-अलग भाषाओं को राजभाषा बनाया गया है। वर्तमान में राज्य में राजस्थान राजभाषा अधिनियम-1956 लागू है। राजस्थानी भाषा को राजभाषा में सम्मिलित करने के लिये उक्त अधिनियम में संशोधन हेतु प्रकरण का परीक्षण करवाया जा रहा है।
  • उन्होंने कहा कि महापात्रा समिति ने भी राजस्थानी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिये पात्र माना है। डॉ. कल्ला ने कहा कि इस संबंध में पक्ष-विपक्ष के सदस्यों को एकजुट होकर प्रधानमंत्री से मिलकर आग्रह करना चाहिये।     

मध्य प्रदेश Switch to English

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में डिस्ट्रीब्यूशन रिफॉर्म्स समिति का पुनर्गठन

चर्चा में क्यो?

16 मार्च, 2023 को राज्य शासन ने केंद्रीय विद्युत मंत्रालय के निर्देशानुसार परिणाम आधारित वितरण क्षेत्र योजना संबंधी ‘डिस्ट्रीब्यूशन रिफॉर्म्स समिति’का पुनर्गठन मुख्य सचिव की अध्यक्षता में किया है।

प्रमुख बिंदु 

  • अपर मुख्य सचिव वन, पंचायत एवं ग्रामीण, जल-संसाधन, वित्त, प्रमुख सचिव, ऊर्जा, नगरीय विकास एवं आवास, राजस्व और पर्यावरण को सदस्य एवं प्रबंध संचालक एम.पी. पॉवर मैनेजमेंट कंपनी को सदस्य एवं संयोजक तथा प्रबंध संचालक म.प्र. पूर्व/मध्य/पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड को स्थायी आंमत्रित सदस्य बनाया गया है।
  • समिति द्वारा राज्य स्तर पर योजना की भौतिक एवं वित्तीय प्रगति, गुणवत्ता की समीक्षा तथा राज्य मंत्रि-परिषद को अनुशंसा करना एवं केंद्रीय विद्युत मंत्रालय द्वारा गठित मॉनीटरिंग कमेटी के अनुमोदन के लिये विस्तृत परियोजना रिपोर्ट पर अनुशंसा की जाएगी। 

हरियाणा Switch to English

इंटरएक्टिव डिजिटल ई-फ्लिप बुक और फ्लैश कार्ड खेल पिटारा का विमोचन

चर्चा में क्यो?

15 मार्च, 2023 को हरियाणा के स्कूल शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने राष्ट्रीय नवाचारी शिक्षक अवार्डी डॉ. विजय कुमार चावला द्वारा गणित दक्षताओं को विकसित करने लिये तैयार इंटरएक्टिव डिजिटल ई-फ्लिप बुक और फ्लैश कार्ड खेल पिटारा का विमोचन किया।

प्रमुख बिंदु 

  • स्कूल शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि बुनियादी संख्यात्मक ज्ञान कौशल विकसित करने में डिजिटल ई-फ्लिप बुक तथा फ्लैश कार्ड खेल पिटारा किट मील का पत्थर साबित होगी।
  • कंवरपाल ने कहा कि आज के आधुनिक डिजिटल युग में ‘निपुण भारत मिशन’के तहत छात्रों में संख्यात्मकता और उससे संबंधित अवधारणाओं की बुनियादी समझ और दक्षता विकसित करने के लिये गेमीफिकेशन तकनीक बेहतरीन तकनीकों में से एक है।
  • उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों में संख्यात्मक ज्ञान से संबंधित बुनियादी समझ और दक्षताएँ विकसित करने के लिये डिजिटल तथा ऑफलाइन गणित खेलों की डिजिटल इंटरैक्टिव ई-फ्लिप बुक में 32 खेल शामिल किये गए हैं।
  • विद्यार्थी डिजिटल तथा ऑफलाइन खेलों के माध्यम से खेल-खेल में बुनियादी साक्षरता और संख्यात्मक उद्देश्यों- जोड़-घटा, भाग तथा गुणा करना जैसी विभिन्न दक्षताओं का आकलन स्वयं कर पाएंगे।
  • शिक्षा मंत्री ने बताया कि इंटरैक्टिव डिजिटल ई-फ्लिप बुक और फ्लैश कार्ड पिटारा में डिजिटल और ऑफलाइन गेम दिव्यांग विद्यार्थियों की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए विकसित किये गए हैं। ये सभी खेल ध्यान विकार वाले विद्यार्थियों के लिये वास्तव में लाभदायक सिद्ध होंगे।
  • इन खेलों को खेलने के लिये विद्यार्थियों को दिये गए गेम के लिंक पर क्लिक करना होगा या क्यूआर कोड को स्कैन करना होगा। विद्यार्थी इन खेलों को खेलकर आसानी से संख्यात्मकता और उससे संबंधित अवधारणाओं की बुनियादी समझ और कौशल हासिल कर सकेंगे।
  • उन्होंने बताया कि बहुत जल्द डिजिटल और ऑफलाइन गेम्स की इंटरैक्टिव डिजिटल ई-फ्लिप बुक और फ्लैश कार्ड पिटारा किट एस.सी.ई.आर.टी., गुरुग्राम की वेबसाइट के माध्यम से मुफ्त ओपेन एजुकेशनल रिसोर्स के रूप में शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को मुहैया करवाई जाएगी।

झारखंड Switch to English

सैफ अंडर-17 महिला फुटबॉल चैंपियनशिप के लिये भारतीय टीम में झारखंड की सात महिला फुटबॉलर शामिल

चर्चा में क्यो?

16 मार्च, 2023 को ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (एआईएफएफ) ने 18 से 29 मार्च तक होनेवाली सैफ अंडर-17 महिला फुटबॉल चैंपियनशिप के लिये 20 सदस्यीय भारतीय टीम की घोषणा की, जिसमें झारखंड की सात फुटबॉलर शामिल हैं।

प्रमुख बिंदु 

  • भारतीय टीम में शामिल झारखंड की सात फुटबॉलर में से चार फुटबॉलर जेएसएसपीएस राँची की प्रशिक्षु हैं, जबकि तीन फुटबॉलर आवासीय बालिका फुटबॉल प्रशिक्षण केंद्र, गुमला से हैं।
  • टीम में झारखंड की जिन सात खिलाड़ियों का चयन किया गया है, उनमें विकसित बाड़ा (डिफेंडर), निशिमा कुमारी (डिफेंडर), बबिता कुमारी (फॉरवर्ड,), अनिषा उरांव (गोलकीपर), शाउलिना डांग (मिडफील्डर), शिवानी टोप्पो (फॉरवर्ड) और ललिता बोयपाई (मिडफील्डर) शामिल हैं।
  • विदित है कि टीम चयन के लिये इंदौर में 21-22 फरवरी को ट्रायल का आयोजन किया गया था, जिसमें देश भर से 35 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था। 

उत्तराखंड Switch to English

चमोली की मानसी नेगी ने 20 किमी. वॉक रेस में जीता स्वर्ण पदक

चर्चा में क्यो?

हाल ही में तमिलनाडु में आयोजित 82वीं ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी एथलेटिक्स प्रतियोगिता में चमोली ज़िले के मजोठी गाँव की मानसी नेगी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 20 किमी. वॉक रेस में स्वर्ण पदक जीता।

प्रमुख बिंदु  

  • गोल्डन गर्ल के नाम से मशहूर मानसी नेगी ने इस रेस को एक घंटे 41 मिनट में पूरा करते हुए अपने प्रतिद्वंद्वियों को धूल चटाई और स्वर्ण पदक हासिल किया।
  • विदित है कि मानसी नेगी ने पिछले साल गुवाहाटी में 11 से 15 नवंबर तक आयोजित 37वीं नेशनल जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप के अंडर-20 महिला वर्ग की 10 हज़ार मीटर की वॉक रेस में 47:30:94 मिनट के नए नेशनल मीट रिकार्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता था।
  • मानसी के कोच अनूप बिष्ट ने बताया कि मानसी महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज एक्सीलेंट विंग की खिलाड़ी है। मानसी सीमांत जनपद चमोली के मजोठी गाँव की रहने वाली है। मानसी के पिता लखपत सिंह नेगी की 2016 में मृत्यु हो गई थी।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2