IAS प्रिलिम्स ऑनलाइन कोर्स (Pendrive)
ध्यान दें:
65 वीं बी.पी.एस.सी संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा - उत्तर कुंजी.बी .पी.एस.सी. परीक्षा 63वीं चयनित उम्मीदवारअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.63 वीं बी .पी.एस.सी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा - अंतिम परिणामबिहार लोक सेवा आयोग - प्रारंभिक परीक्षा (65वीं) - 2019- करेंट अफेयर्सउत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) मुख्य परीक्षा मॉडल पेपर 2018यूपीएससी (मुख्य) परीक्षा,2019 के लिये संभावित निबंधसिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा, 2019 - मॉडल पेपरUPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़Result: Civil Services (Preliminary) Examination, 2019.Download: सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा - 2019 (प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजी).

डेली अपडेट्स

सामाजिक न्याय

उम्मीद पहल

  • 24 Sep 2019
  • 2 min read

चर्चा में क्यों?

हाल ही में भारत सरकार ने नवजात शिशुओं से संबंधित आनुवंशिक बीमारियों से निपटने के लिये उम्मीद (Unique Methods of Management and Treatment of Inherited Disorders- UMMID) पहल की शुरुआत की है।

  • सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज (Universal Health Coverage) हेतु अत्याधुनिक वैज्ञानिक प्रौद्योगिकी और आणविक चिकित्सा के उपयोग को नियमित करने के लिये सरकारी अस्पतालों के माध्यम से इस कार्यक्रम को लागू किया जाएगा।
  • इस पहल को रोकथाम इलाज से बेहतर है (Prevention is Better than Cure) की अवधारणा पर तैयार किया गया है।
  • भारत के शहरी क्षेत्रों में जन्म से पहले और जन्म के समय की जन्मजात विकृतियाँ तथा आनुवंशिक विकार शिशुओं की मृत्यु का कम वजन तथा संक्रमण के बाद तीसरा सबसे बड़ा कारण है।
  • भारत में एक बड़ी जनसंख्या, उच्च जन्म दर और कई समुदायों में सजातीय विवाह (Consanguineous Marriage) जैसे कारक आनुवंशिक विकारों के उच्च प्रसार हेतु ज़िम्मेदार हैं।
  • उम्मीद पहल का उद्देश्य:
    • सरकारी अस्पतालों में परामर्श, प्रसवपूर्व चिकित्सा, प्रबंधन तथा सभी विषयों से संबंधित देखभाल प्रदान करने के लिये निदान (National Inherited Diseases Administration- NIDAN) केंद्रों की स्थापना करना ।
    • मानव जेनेटिक्स (Human Genetics) के क्षेत्र में कुशल चिकित्सकों को बढ़ावा देना।
    • आकांक्षी ज़िलों (Aspirational Districts) के अस्पतालों में आनुवंंशिक बीमारियों से पीड़ित गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं की जांँच करना।
    • चिकित्सकों के बीच आनुवंशिक विकारों के बारे में जागरूकता फैलाना और अस्पतालों में आणविक निदान (Molecular Diagnostics) की व्यवस्था सुनिश्चित करना।

स्रोत: pib

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close