हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

शासन व्यवस्था

नई सौर परियोजनाएँ: एनटीपीसी

  • 15 Jul 2021
  • 8 min read

प्रिलिम्स के लिये:

जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रीय कार्ययोजना, राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान, नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड, राष्ट्रीय सौर मिशन, अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन

मेन्स के लिये:

नई सौर परियोजनाएँ तथा उनका महत्त्व

चर्चा में क्यों?

हाल ही में ‘नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (NTPC) रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (REL) ने देश का  पहला  ‘ग्रीन हाइड्रोजन मोबिलिटी प्रोजेक्ट’ स्थापित करने हेतु केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

  • NTPC REL गुजरात के कच्छ के रण में एक सौर पार्क भी स्थापित करेगी जहाँ से यह अल्ट्रा-मेगा अक्षय ऊर्जा पावर पार्क (UMREPP) योजना के तहत व्यावसायिक स्तर पर हरित हाइड्रोजन भी उत्पन्न करेगी।
    • नवीकरणीय स्रोतों से उत्पादित हाइड्रोजन को हरित हाइड्रोजन कहा जाता है।

अल्ट्रा-मेगा अक्षय ऊर्जा पावर पार्क (UMREPP) योजना:

  • यह मौजूदा सौर पार्क योजना के तहत अल्ट्रा मेगा रिन्यूएबल एनर्जी पावर पार्क (UMREPPs) विकसित करने की एक योजना है।
    • यह योजना वर्ष 2014 में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) द्वारा शुरू की गई थी।
    • सौर पार्क योजना भी देश के विभिन्न राज्यों में सौर पार्क स्थापित करने के लिये MNRE की एक योजना है। यह सौर पार्क स्थापित करने हेतु भारत सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान करने का प्रस्ताव करती है।
  • UMREPP का उद्देश्य परियोजना विकासकर्त्ता को अग्रिम भूमि उपलब्ध कराना तथा अक्षय ऊर्जा आधारित सौर/पवन/हाइब्रिड सहित भंडारण प्रणालियों के साथ विद्युत पार्क विकसित करने के लिये पारेषण बुनियादी ढाँचे की सुविधा प्रदान करना है।

प्रमुख बिंदु:

ग्रीन हाइड्रोजन मोबिलिटी प्रोजेक्ट:

  • NTPC REL ने इस क्षेत्र में शुरुआत के लिये 5 हाइड्रोजन बसें चलाने की योजना बनाई है और कंपनी लेह में एक सौर संयंत्र तथा एक हरित हाइड्रोजन उत्पादन इकाई स्थापित करेगी।
  • यह लेह को हरित हाइड्रोजन आधारित गतिशीलता परियोजना लागू करने वाला देश का पहला शहर बना देगा। यह सही मायने में ज़ीरो एमिशन मोबिलिटी होगी।
  • यह प्रधानमंत्री के 'कार्बन न्यूट्रल' लद्दाख के दृष्टिकोण के अनुरूप भी है।
  • यह लद्दाख को अक्षय स्रोतों और हरित हाइड्रोजन पर आधारित कार्बन मुक्त अर्थव्यवस्था विकसित करने में मदद करेगा।

भारत का सबसे बड़ा सोलर पार्क:

  • NTPC REL गुजरात के कच्छ के रण में 4.75 गीगावाट अक्षय ऊर्जा पार्क स्थापित करेगा। यह भारत का सबसे बड़ा सोलर पार्क होगा, जिसका निर्माण देश की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कंपनी करेगी।
    • गुजरात में कच्छ क्षेत्र, जो देश का सबसे बड़ा नमक का रेगिस्तान है और यहाँ भारत के दो सबसे बड़े कोयले से चलने वाले बिजली संयंत्र हैं, अब अपनी उपलब्धियों में एक और नाम जोड़ देगा।

एनटीपीसी की अन्य प्रमुख परियोजनाएँ  :

  • हाल ही में एनटीपीसी ने आंध्र प्रदेश के सिम्हाद्री ताप विद्युत संयंत्र के जलाशय पर भारत का सबसे बड़ा 10 मेगावाट का फ्लोटिंग सोलर भी चालू किया है। इसके अतिरिक्त 15 मेगावाट की क्षमता वाले सयंत्र को अगस्त, 2021 तक चालू किया जाएगा।
  • इसके अलावा तेलंगाना स्थित रामागुंडम ताप विद्युत संयंत्र के जलाशय पर 100 मेगावाट की फ्लोटिंग सोलर परियोजना कार्यान्वयन के अग्रिम चरण में है।

अन्य सौर ऊर्जा पहलें:

राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम लिमिटेड (NTPC)

  • एनटीपीसी लिमिटेड विद्युत मंत्रालय के तहत एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (Public Sector Undertaking- PSU) है।
    • एनटीपीसी आरईएल (NTPC REL), एनटीपीसी (NTPC) की 100 % हिस्सेदारी वाली कंपनी है।
  • भारत की सबसे बड़ी विद्युत कंपनी, एनटीपीसी की स्‍थापना वर्ष 1975 में भारत के विद्युत विकास में तेज़ी लाने के लिये की गई थी।
  • इसका उद्देश्य नवाचार द्वारा संचालित किफायती, कुशल और पर्यावरण के अनुकूल तरीके से विश्वसनीय बिजली तथा संबंधित समाधान प्रदान करना है।
  • मई 2010 में इसे महारत्न कंपनी (Maharatna company) घोषित किया गया।
  • यह नई दिल्ली में स्थित है।

स्रोत: पी.आई.बी.

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close