हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

भारतीय अर्थव्यवस्था

विदेशी मुद्रा भंडार

  • 04 May 2020
  • 3 min read

प्रीलिम्स के लिये:

विदेशी मुद्रा भंडार, विशेष आहरण अधिकार, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

मेन्स के लिये:

भारतीय अर्थव्यवस्था और विकास से संबंधित मुद्दे

चर्चा में क्यों?

भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India-RBI) द्वारा जारी नवीनतम आँकड़ों के अनुसार, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 479.45 बिलियन डॉलर (113 मिलियन डॉलर की कमी) हो गया है।

प्रमुख बिंदु:

  • उल्लेखनीय है कि विदेशी मुद्रा परिसंपत्ति (Foreign Currency Assets- FCAs) घटकर 441.56 बिलियन डॉलर (321 मिलियन डॉलर की कमी) हो गई है।
  • स्वर्ण भंडार (Gold Reserves) में 221 मिलियन डॉलर की बढ़ोतरी के कारण अब यह 32.901 बिलियन डॉलर हो गया है।
  • विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights) घटकर 1.42 बिलियन डॉलर (6 मिलियन डॉलर की कमी) हो गया है। 
  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund-IMF) में आरक्षित निधि घटकर 3.57 बिलियन डॉलर (8 मिलियन डॉलर की गिरावट) हो गई है।
  • ध्यातव्य है कि 6, मार्च 2020 तक विदेशी मुद्रा भंडार अपने उच्चतम स्तर 487.23 बिलियन डॉलर पर था।
  • वर्ष 2019-20 के दौरान देश के विदेशी मुद्रा भंडार में लगभग 62 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी हुई थी ।

विदेशी मुद्रा भंडार

(Foreign Exchange Reserves):

  • किसी देश/अर्थव्यवस्था के पास उपलब्ध कुल विदेशी मुद्रा उसकी विदेशी मुद्रा संपत्ति/भंडार कहलाती है। 
  • किसी भी देश के विदेशी मुद्रा भंडार में निम्नलिखित 4 तत्त्व शामिल होते हैं-
    • विदेशी परिसंपत्तियाँ (विदेशी कंपनियों के शेयर, डिबेंचर, बाॅण्ड इत्यादि विदेशी मुद्रा में)
    • स्वर्ण भंडार
    • IMF के पास रिज़र्व कोष (Reserve Trench)
    • विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights-SDR)

विशेष आहरण अधिकार

(Special Drawing Rights- SDRs):

  • विशेष आहरण अधिकार को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund-IMF) द्वारा 1969 में अपने सदस्य देशों के लिये अंतर्राष्ट्रीय आरक्षित संपत्ति के रूप में बनाया गया था।
  • SDR न तो एक मुद्रा है और न ही IMF पर इसका दावा किया जा सकता है।
  • SDR का मूल्य, बास्केट ऑफ करेंसी में शामिल मुद्राओं के औसत भार के आधार पर किया जाता है। इस बास्केट में पाँच देशों की मुद्राएँ शामिल हैं- अमेरिकी डॉलर (Dollar), यूरोप का यूरो (Euro), चीन की मुद्रा रॅन्मिन्बी (Renminbi), जापानी येन (Yen), ब्रिटेन का पाउंड (Pound)।

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close