हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 16 Nov, 2020
  • 15 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 16 नवंबर, 2020

झारखंड का स्थापना दिवस

Jharkhand Foundation Day

15 नवंबर, 2020 को झारखंड राज्य का 20वाँ स्थापना दिवस तथा बिरसा मुंडा जयंती मनाई गई।

Birsa-Munda

प्रमुख बिंदु:

  • भारतीय संसद द्वारा बिहार पुनर्गठन अधिनियम, 2000 (Bihar Reorganization Act, 2000) पारित होने के बाद वर्ष 2000 में बिहार से अलग झारखंड राज्य की स्थापना की गई थी।
  • इस दिन को आदिवासी नेता बिरसा मुंडा (Birsa Munda) की जयंती के रूप में मनाया जाता है, जिसे भगवान बिरसा (Bhagwan Birsa) के नाम से भी जाना जाता है। 

झारखंड के बारे में:

  • 15 नवंबर, 2000 को बिहार के दक्षिणी हिस्से को काटकर झारखंड की स्थापना भारत संघ के 28वें राज्य के रूप में हुई थी। 
  • इसमें छोटानागपुर का पठार तथा संथाल परगना के वन क्षेत्र आते हैं। 
  • इसके पूर्व में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में उत्तर प्रदेश एवं छत्तीसगढ़, उत्तर में बिहार तथा दक्षिण में ओडिशा राज्य स्थित हैं।   

बिरसा मुंडा (Birsa Munda):

  • बिरसा मुंडा का जन्म वर्ष 1875 में हुआ था। वे मुंडा जनजाति के थे। बिरसा का मानना था कि उन्हें भगवान ने लोगों की भलाई और उनके दुःख दूर करने के लिये भेजा है, इसलिये वे स्वयं को भगवान मानते थे। उन्हें अक्सर 'धरती अब्बा' (Dharti Abba) या ‘जगत पिता’ के रूप में जाना जाता है।
  • वर्ष 1899-1900 में बिरसा मुंडा के नेतृत्व में हुआ मुंडा विद्रोह छोटा नागपुर (झारखंड) के क्षेत्र में सर्वाधिक चर्चित विद्रोह था। इसे ‘मुंडा उलगुलान’ (विद्रोह) भी कहा जाता है।  
    • इस विद्रोह की शुरुआत मुंडा जनजाति की पारंपरिक व्यवस्था खूंटकटी की ज़मींदारी व्यवस्था में परिवर्तन के कारण हुई।
    • इस विद्रोह में महिलाओं की भूमिका भी उल्लेखनीय रही।
  • उन्होंने जनता को जागृत किया और ज़मींदारों एवं अंग्रेज़ों के खिलाफ विद्रोह किया।
    • उन्होंने अंग्रेज़ों को करों और साहूकारों को ऋण/ब्याज का भुगतान न करने के लिये जनता को संगठित किया। इस प्रकार उन्होंने ब्रिटिश शासन के अंत और झारखंड में मुंडा शासन (तत्कालीन बंगाल प्रेसीडेंसी क्षेत्र) की स्थापना के लिये विद्रोह का नेतृत्त्व किया।
  • उन्होंने दो सैन्य इकाइयों का गठन किया-
    • एक सैन्य प्रशिक्षण एवं सशस्त्र संघर्ष के लिये।
    • दूसरी प्रचार के लिये।
  • उन्होंने धर्म को राजनीति से जोड़ दिया और एक राजनीतिक-सैन्य संगठन बनाने के उद्देश्य से प्रचार करते हुए गाँवों की यात्रा की।
  • फरवरी 1900 में बिरसा मुंडा को सिंहभूम में गिरफ्तार कर राँची ज़ेल में डाल दिया गया जहाँ जून 1900 में उनकी मृत्यु हो गई।
  • आदिवासियों के खिलाफ शोषण एवं भेदभाव के विरुद्ध उनके संघर्ष के कारण ही वर्ष 1908 में छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (Chotanagpur Tenancy Act) पारित किया गया, जिसने आदिवासी लोगों से गैर-आदिवासियों में भूमि के हस्तांतरण को प्रतिबंधित कर दिया।

क्विक रिएक्शन सरफेस-टू-एयर मिसाइल

Quick Reaction Surface-to-Air Missile

हाल ही में ‘रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन’ (Defence Research and Development Organisation- DRDO) ने ओडिशा के तट पर चांदीपुर स्थित ‘इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज’ से ‘क्विक रिएक्शन सरफेस-टू-एयर मिसाइल सिस्टम’ (Quick Reaction Surface-to-Air Missile- QRSAM)  का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

Surface-to-Air Missile

प्रमुख बिंदु: 

  • यह प्रणाली पूरी तरह से स्वदेशी है। इस हथियार प्रणाली के तहत उपकरणों का निर्माण सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों- भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत डायनामिक्स लिमिटेड और निजी कंपनी एलएंडटी के माध्यम से किया गया है।
  • कई आधुनिक मिसाइलों की तरह QRSAM एक कनस्तर-आधारित प्रणाली है, जिसका अर्थ है कि यह विशेष रूप से डिज़ाइन किये गए डिब्बों के रूप में संग्रहीत एवं संचालित होती है।
    • कनस्तर में अंदर के वातावरण को नियंत्रित किया जाता है, इस प्रकार इसके परिवहन एवं भंडारण को आसान बनाने के साथ-साथ हथियारों की शेल्फ लाइफ (Shelf Life) में भी काफी सुधार होता है। 
  • QRSAM एक छोटी दूरी की सतह-से-हवा में मार करने वाली मिसाइल (SAM) प्रणाली है। इसे मुख्य रूप से DRDO द्वारा डिज़ाइन एवं विकसित किया गया है ताकि दुश्मन के हवाई हमलों से सेना के बख्तरबंद कतार को सुरक्षा कवच प्रदान किया जा सके।
  • संपूर्ण शस्त्र प्रणाली एक मोबाइल एवं गतिशील प्लेटफॉर्म से संबंधित है जो वायु सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम है।
  • इसे सेना में शामिल करने के लिये डिज़ाइन किया गया है और इसकी रेंज 25 से 30 किमी. है।
  • इस प्रणाली में एक पूरी तरह से स्वचालित कमांड एवं नियंत्रण प्रणाली, दो रडार [एक्टिव एरे बैटरी सर्विलांस रडार (Active Array Battery Surveillance Radar), एक्टिव एरे बैटरी मल्टीफंक्शन रडार (Active Array Battery Multifunction Radar)] और एक लॉन्चर शामिल हैं।
    • दोनों रडारों में ‘सर्च ऑन मूव’ और ‘ट्रैक ऑन मूव’ क्षमताओं के साथ 360 डिग्री कवरेज क्षमता है।

लोनार झील: रामसर साइट घोषित

Lonar’s meteor lake declared Ramsar site

हाल ही में महाराष्ट्र के बुलढाणा ज़िले की लोनार झील (Lonar lake) को रामसर स्थल (Ramsar Site) घोषित किया गया है, अर्थात् ‘इंटरनेशनल रामसर कन्वेंशन ऑन वेटलैंड्स’ (International Ramsar Convention on Wetlands) द्वारा ‘कंज़र्वेशन स्टेटस’ (Conservation Status) प्रदान किया गया है।

Lonar-Lake

प्रमुख बिंदु:

  • यह झील लोनार वन्यजीव अभयारण्य (Lonar Wildlife Sanctuary) का हिस्सा है। 
  • यह नासिक ज़िले में नंदुर मद्महेश्वर पक्षी अभयारण्य (Nandur Madhmeshwar Bird Sanctuary) जिसे जनवरी 2020 में रामसर स्थल घोषित किया गया था, के बाद राज्य का दूसरा रामसर स्थल है।
    • ‘नंदुर मद्महेश्वर पक्षी अभयारण्य’ गोदावरी नदी के तट पर अवस्थित है।
  • लोनार झील महाराष्ट्र के बुलढाणा ज़िले के लोनार में स्थित एक क्रेटर झील (Crater-Lake) है और इसका निर्माण प्लीस्टोसीन काल (Pleistocene Epoch) में उल्कापिंड के गिरने से हुआ था जो 1.85 किमी. के व्यास एवं 500 फीट की गहराई के साथ बेसाल्टिक चट्टानों से निर्मित है।
  • यह एक अधिसूचित राष्ट्रीय भू-विरासत स्मारक (National Geo-heritage Monument) भी है। इस झील का पानी खारा एवं क्षारीय है।
  • इस झील में गैर-सहजीवी नाइट्रोजन-फिक्सिंग रोगाणुओं (Non-Symbiotic Nitrogen-Fixing Microbes) जैसे- स्लैकिया एसपी (Slackia SP), एक्टिनोपॉलीस्पोरा एसपी (Actinopolyspora SP) और प्रवासी पक्षी जैसे- शेल्डक,  ग्रेब, रूडी शेल्डक के रूप में समृद्ध जैविक विविधता पाई जाती है।
  • इस स्थल पर 160 पक्षी, 46 सरीसृप और 12 स्तनपायी प्रजातियाँ भी पाई जाती हैं।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 16 नवंबर, 2020

सड़क यातायात पीड़ितों की स्मृति के लिये विश्व दिवस

विश्व भर में प्रत्येक वर्ष नवंबर माह के तीसरे रविवार को ‘सड़क यातायात पीड़ितों की स्मृति के लिये विश्व दिवस’ (World Day of Remembrance for Road Traffic Victims) के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस का प्राथमिक उद्देश्य विश्व भर में सड़कों पर किसी भी प्रकार की दुर्घटना के कारण मारे जाने वाले लोगों अथवा गंभीर रूप से घायल होने वाले लाखों लोगों को याद करना और पीड़ितों, पीड़ित परिवारों और समुदायों आदि की पीड़ा को स्वीकार करना है। साथ ही इस दिवस पर समर्पित कर्मचारियों, पुलिस और चिकित्सा पेशेवरों को सम्मान प्रकट किया जाता है, जो इस प्रकार की सड़क दुर्घटनाओं को रोकने का अनवरत प्रयास कर रहे हैं। सड़क यातायात पीड़ितों की स्मृति के लिये विश्व दिवस मनाने की शुरुआत सर्वप्रथम वर्ष 1993 में रोडपीस (RoadPeace) नामक एक ब्रिटिश संगठन द्वारा की गई थी। वर्ष 1995 से इस दिवस को ‘यूरोपियन फेडरेशन ऑफ रोड ट्रैफिक विक्टिम’ (FEVR) के द्वारा मनाया जाने लगा और जल्द ही अन्य देशों के गैर-सरकारी संगठनों द्वारा भी यह दिवस मनाया जाने लगा। तकरीबन 10 वर्ष बाद 26 अक्तूबर, 2005 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा भी इस दिवस को मान्यता दी गई। इस वर्ष यह दिवस 15 नवंबर, 2020 को मनाया गया है।  

नीतीश कुमार: बिहार के मुख्यमंत्री

नीतीश कुमार सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे। नीतीश कुमार का जन्म 1 मार्च, 1951 को बिहार के बख्तियारपुर में हुआ था। नीतीश कुमार ने बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, पटना (अब NIT पटना) से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है और बिहार राज्य बिजली बोर्ड में शामिल होने से पहले ही वे बिहार की राजनीति में सक्रिय हो गए थे। इसके बाद नीतीश कुमार ने सर्वप्रथम वर्ष 1977 में जनता दल के सदस्य के रूप में विधानसभा चुनाव लड़ा। गौरतलब है कि नीतीश कुमार वर्ष 1974 से वर्ष 1977 के बीच जयप्रकाश नारायण के आंदोलन में काफी सक्रिय रूप से शामिल थे। ज्ञात हो कि श्रीकृष्ण सिन्हा, जिन्हें ‘श्रीबाबू’ के नाम से भी जाना जाता है, बिहार के पहले मुख्यमंत्री थे। भारत के प्रमुख राज्यों में से एक बिहार उत्तर में नेपाल, पूर्व में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में उत्तर प्रदेश और दक्षिण में झारखंड के साथ अपनी सीमा साझा करता है। बिहार में कई सारी नदियाँ पाई जाती हैं, जिसमें सबसे प्रमुख गंगा नदी है। 

सूर सरोवर झील

हाल ही में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आगरा की सूर सरोवर झील को रामसर कन्वेंशन के तहत मान्यता प्राप्त स्थलों की सूची में शामिल किये जाने की सूचना दी है। सूर सरोवर पक्षी अभयारण्य के भीतर स्थित इस झील को कीठम झील (Keetham Lake) के नाम से भी जाना जाता है। सूर सरोवर पक्षी अभयारण्य को वर्ष 1991 में पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया था। यह झील उत्तर प्रदेश के आगरा में यमुना नदी के किनारे अवस्थित है। यह पक्षी अभयारण्य लगभग 8 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है, जिसमें 2.25 वर्ग किलोमीटर लंबी झील भी शामिल है। इस क्षेत्र में प्रवासी तथा स्थानीय पक्षियों की तकरीबन दो दर्जन प्रजातियाँ निवास करती हैं। रामसर कन्वेंशन के तहत मान्यता प्राप्त स्थलों की सूची में शामिल होने के कारण सूर सरोवर झील को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता मिलेगी।

सौमित्र चटर्जी

15 नवंबर, 2020 को प्रसिद्ध भारतीय अभिनेता सौमित्र चटर्जी का 85 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। सौमित्र चटर्जी, जिन्होंने 300 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया, वे एक कुशल नाटककार, थिएटर अभिनेता और कवि भी थे। 19 जनवरी, 1935 को जन्मे सौमित्र चटर्जी ने प्रसिद्ध रंगमंच कलाकार अहिंद्र चौधरी से अभिनय के गुण सीखे थे। सौमित्र चटर्जी ने फिल्मों में अपने कॅरियर की शुरुआत वर्ष 1959 में सत्यजीत रे की फिल्म ‘अपुर संसार’ के साथ की थी। सौमित्र चटर्जी को वर्ष 2012 में भारतीय सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से और वर्ष 2018 में फ्रांँस के सर्वोच्च पुरस्कार ‘लीज़न ऑफ ऑनर’ (Legion of Honour) प्रदान किया गया था।


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close