हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 06 Sep, 2022
  • 10 min read
प्रारंभिक परीक्षा

साइबर सुरक्षित भारत

हाल ही में राष्ट्रीय ई-शासन प्रभाग (National e-Governance Division-NeGD) ने भारतीय लोक प्रशासन संस्थान (Indian Institute of Public Administration-IIPA), नई दिल्ली में 30वें मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारी (Chief Information Security Officers-CISO) डीप-डाइव प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया।

साइबर सुरक्षित भारत पहल:

  • परिचय:
    • साइबर सुरक्षित भारत पहल की संकल्पना साइबर अपराध के बारे में जागरूकता फैलाने और सभी सरकारी विभागों में मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारियों (CISOs) एवं अग्रिम पंक्ति के सूचना प्रौद्योगिकी अधिकारियों की क्षमता निर्माण के मिशन के साथ की गई थी।
    • इसे इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology-MeitY) द्वारा वर्ष 2018 में लॉन्च किया गया था।
    • CISO प्रशिक्षण सार्वजनिक निजी भागीदारी (Public Private Partnership-PPP) मॉडल के तहत सरकार और उद्योग संघ के मध्य इस प्रकार की प्रथम साझेदारी है।
  • लक्षित प्रतिभागी:
    • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और बीमा कंपनियों, पुलिस एवं सुरक्षा बलों के तकनीकी शाखाओं सहित केंद्र तथा राज्य/केंद्रशासित प्रदेश सरकारों और अधीनस्थ एजेंसियों/सार्वजनिक उपक्रमों के अधिकारी:
      • नामित मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारी (CISOs),
      • CTOs और तकनीकी / PMU टीमों के सदस्य, अपने संबंधित संगठन में सूचना प्रौद्योगिक प्रणाली की सुरक्षा का निरीक्षण करने के लिये ज़िम्मेदार अधिकारी।
    • प्रशिक्षण:
      • NeGD, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक शाखा, प्रशिक्षण कार्यक्रमों की व्यवस्था में सहायता प्रदान करेगी, जबकि उद्योग संघ, प्रशिक्षण के लिये तकनीकी सहायता प्रदान करेगा।
      • उद्योग के प्रशिक्षण भागीदार माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft), आईबीएम (IBM), इंटेल (Intel), पालो (Palo),ऑल्टो नेटवर्क (Alto Networks), ईवाई (E&Y) और Dell-EMC हैं। NIC, CERT-In और CDAC सरकार की ओर से ज्ञान भागीदार हैं।
  • उद्देश्य:
    • इसका उद्देश्य CISOs को साइबर हमलों को व्यापक रूप से और पूरी तरह से समझने के लिये शिक्षित और सक्षम करना, सुरक्षा की नवीनतम तकनीकों में आवश्यक प्रभावों के बारे जानकारी प्राप्त करना एवं व्यक्तिगत संगठनों और नागरिकों को बड़े पैमाने पर एक लचीली ई-बुनियादी ढाँचे  के लाभों का अनुवाद करना है।
    • साइबर खतरों के उभरते परिदृश्य पर जागरूकता का विस्तार करना।
    • संबंधित समाधानों की गहन समझ विकसित करना।
    • साइबर सुरक्षा से संबंधित लागू ढाँचे, दिशानिर्देश और नीतियाँ बनाना।
    • सफलता और असफलताओं से सीखने के लिये सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करना।
    • अपने संबंधित कार्यात्मक क्षेत्र में साइबर सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर सूचित निर्णय लेने के लिये महत्त्वपूर्ण इनपुट प्रदान करना।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, विगत वर्ष के प्रश्न:

प्रश्न. हाल ही में कभी-कभी समाचारों में आने वाले शब्द 'वानाक्राई, पेट्या और इंटर्नलब्लू' निम्नलिखित में से किससे संबंधित हैं (2018)

(a) एक्सोप्लैनेट
(b) क्रिप्टोकरेंसी
(c) साइबर हमले
(d) लघु उपग्रह

उत्तर: (c)

व्याख्या:

  • रैंसमवेयर दुर्भावनापूर्ण सॉफ्टवेयर (या मैलवेयर) का एक रूप है। एक बार जब यह कंप्यूटर में प्रवेश कर लेता है, तो यह आमतौर पर डेटा तक पहुँच कर उपयोगकर्त्ताओं को नुकसान पहुँचाता है। भुगतान करने पर डेटा तक पहुँच बहाल करने का वादा करते हुए हमलावर पीड़ित से फिरौती की मांग करते है। 'वानाक्राई, पेट्या और इंटर्नलब्लू' कुछ रैनसम वेयर हैं, जिन्होंने बिटकॉइन (क्रिप्टोकरेंसी) में फिरौती के भुगतान की मांग की थी।
  • क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल मुद्रा है जिसमें एन्क्रिप्शन तकनीकों का उपयोग मुद्रा की इकाइयों की पीढ़ी को विनियमित करने और केंद्रीय बैंक से स्वतंत्र रूप से संचालित होने वाले धन के हस्तांतरण को सत्यापित करने के लिये किया जाता है। अतः विकल्प (c) सही है।

स्रोत: पी.आई.बी.


विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 06-सितंबर, 2022

लिज़ ट्रस  

कंजरवेटिव पार्टी की नेता लिज़ ट्रस 6 सितंबर को ब्रिटेन की 56वीं प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेंगी। वह बोरिस जॉनसन का स्‍थान लेंगी। 6 सितंबर को ही बोरिस जॉनसन महारानी एलि‍जाबेथ द्व‍ितीय को त्‍यागपत्र सौंपेंगे। लिज़ ट्रस को पार्टी के सदस्‍यों ने 5 सितंबर को ब्रिटेन का अगला प्रधानमंत्री और कंजर्वेटिव पार्टी का नेता चुना। पूर्व विदेश मंत्री लिज़ ट्रस ने अपने प्रतिद्वंद्वी ऋषि सुनक को 57 प्रतिशत मतों से हराया। लिज़ ट्रस, टेरेजा मे और मार्गरेट थैचर के बाद ब्रिटेन की तीसरी महिला प्रधानमंत्री होंगी। टेरेजा मे और मार्गरेट थैचर भी कंजरवेटिव पार्टी की ही नेता थीं। पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा कि वे लिज़ ट्रस को पूर्ण समर्थन देंगे। लिज़ ट्रस के सामने अब देश की अर्थव्‍यवस्‍था को पटरी पर लाने, बढ़ती मँहगाई पर अंकुश लगाने और ऊर्जा संकट से निपटने जैसी चुनौतियाँ होंगी। ऊर्जा संकट से फिलहाल पूरा यूरोपीय महाद्वीप जूझ रहा है। ब्रिटेन का प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद लिज़ ट्रस ने अर्थव्‍यवस्‍था की मज़बूती के लिये करों में कटौती और ब्रिटेन को मंदी से रोकने के लिये परिवर्तनकारी कदम उठाने का वादा किया।

2022 रेमन मैग्सेसे पुरस्कार 

हाल ही में वर्ष 2022 रेमन मैग्सेसे पुरस्कार की घोषणा कर दी गयी है। इस बार यह पुरस्कार चार लोगों को दिया गया। वर्ष 2022 के रेमन मैग्सेसे पुरस्कार विजेताओं में गैरी बेनचेघिब, तदाशी हटोरी, सोथियारा छिम और बर्नाडेट मैड्रिड शामिल है। इसे 'एशिया का नोबेल शांति पुरस्कार' भी माना जाता है। यह पुरस्कार रेमन मैग्सेसे अवार्ड्स फाउंडेशन (RMAF) द्वारा प्रतिवर्ष दिया जाता है। यह पुरस्कार का 64वाँ संस्करण था। सोथियारा छिम कंबोडियाई मनोचिकित्सक और मानसिक स्वास्थ्य अधिवक्ता, जो अपने देशवासियों की मानसिक स्वास्थ्य  संबंधित रोगों का इलाज कर रहे है। वह नोम पेन्ह के स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय में चिकित्सा का अध्ययन किया है। गैरी बेनचेघिब फ्राँसीसी है जो बाली, इंडोनेशिया में नदी में समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण को समाप्त करने के मिशन पर है। वह "मेक ए चेंज वर्ल्ड" नामक एक संगठन चलाते है, जो प्लास्टिक प्रदूषण और पर्यावरण संरक्षण पर कार्य करता है। तदाशी हटोरी जापानी नेत्र रोग विशेषज्ञ और समाजसेवी है जिन्होंने वियतनाम में मुफ्त नेत्र शल्य चिकित्सा प्रदान करने में अपना समय और संसाधन लगाया। बर्नाडेट जे. मैड्रिड फिलिपिनो बाल रोग विशेषज्ञ हैं, जो बाल संरक्षण के अधिकार के लिये कार्य कर रही है। उन्होंने वर्ष 1997 से मनीला के पहले बाल संरक्षण केंद्र फिलीपीन जनरल अस्पताल का नेतृत्व कर रही है। इस केंद्र के माध्यम से उन्होंने वर्ष 2021 तक 27,000 से अधिक बच्चों की सेवा की है। केरल की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)  केंद्रीय समिति की सदस्य के.के. शैलजा ने रेमन मैग्सेसे अवार्ड फाउंडेशन के वर्ष 2022 के पुरस्कार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। शैलजा को केरल में निपाह वायरस और COVID-19 महामारी के दौरान सार्वजनिक सेवा और सामुदायिक नेतृत्व के लिये उन्हें सम्मानित करना चाहता था। लेकिन उन्होंने इसे एक सामूहिक प्रयास बताकर, व्यक्तिगत रूप से इस पुरस्कार को लेने से मना कर दिया।


एसएमएस अलर्ट
Share Page