इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

एथिक्स


एथिक्स

लोक कल्याण हेतु सक्रियता संबंधी नैतिक दुविधाएँ

  • 30 Jan 2024
  • 2 min read

पेरिस में मोना लिसा पेंटिंग पर प्रदर्शनकारियों द्वारा सूप फेंकने की हालिया घटना से "पौष्टिक एवं गुणवत्तापूर्ण भोजन" की मांग को व्यक्त करने हेतु चुने गए तरीकों के बारे में नैतिक चिंताओं को बढ़ावा मिलता है। हालाँकि एक वेहतर खाद्य प्रणाली को बढ़ावा देने जैसे अच्छे कार्य की वकालत करना महत्त्वपूर्ण है लेकिन जिस माध्यम से इन कार्यकर्ताओं ने एक अमूल्य कलाकृति को विरूपित करके अपना संदेश दिया, उससे इनके कार्यों की नैतिकता पर सवाल उठता है।

कला, मानव संस्कृति और विरासत का एक महत्त्वपूर्ण भाग है, जिससे ऐतिहासिक एवं भावनात्मक मूल्य प्रतिबिंबित होते हैं। ऐसी सांस्कृतिक कलाकृतियों को क्षतिग्रस्त करने के कृत्य को अतीत की कलात्मक एवं सांस्कृतिक विरासत के प्रति सम्मान की कमी के रूप में देखा जा सकता है। पर्यावरण और खाद्य स्थिरता संबंधी चिंताओं पर ध्यान आकर्षित करने के लिये बर्बरता करने से सांस्कृतिक अभिव्यक्ति की उपयुक्तता पर सवाल उठता है।

पर्यावरण और खाद्य स्थिरता संबंधी मुद्दों को हल करने में पारदर्शी विचार-विमर्श, शिक्षा एवं जागरूकता में संलग्न होना महत्त्वपूर्ण है जिससे समाज की विविधता का सम्मान हो सके। कलाकृति को नुकसान पहुँचाने का कृत्य लोगों का ध्यान आकर्षित कर सकता है लेकिन इससे संभावित समर्थकों के संदर्भ में मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकने का जोखिम हो सकता है।

क्या आप मानते हैं कि "पौष्टिक एवं गुणवत्तापूर्ण भोजन" के लिये कार्यकर्ताओं द्वारा किये गए कृत्य को उचित ठहराया जा सकता है या क्या आपको लगता है कि इससे सांस्कृतिक विरासत को संभावित रूप से नुकसान होने के साथ नैतिक सीमाओं का उल्लंघन होता है?

close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow