हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 02 जुलाई, 2021

  • 02 Jul 2021
  • 11 min read

कुवेम्पु पुरस्कार 2020

(Kuvempu Award 2020)

हाल ही में उड़िया कवि डॉ. राजेंद्र किशोर पांडा को ‘कुवेम्पु पुरस्कार 2020’ के लिये चुना गया है।

  • वर्ष 1944 में पैदा हुए डॉ. राजेंद्र किशोर पांडा ओडिशा के एक प्रसिद्ध कवि एवं उपन्यासकार हैं। अब तक उनके कुल 16 कविता संग्रह और एक उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं।
  • उन्हें वर्ष 2010 में ‘गंगाधर राष्ट्रीय पुरस्कार’ और वर्ष 1985 में ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था।

प्रमुख बिंदु

कुवेम्पु पुरस्कार

  • यह 20वीं सदी के दिवंगत कन्नड़ कवि ‘कुवेम्पु’ की स्मृति में स्थापित एक राष्ट्रीय पुरस्कार है।
  • यह पुरस्कार प्रतिवर्ष भारतीय संविधान द्वारा मान्यता प्राप्त किसी भी भाषा के साहित्य में महत्त्वपूर्ण योगदान देने वाले लेखक को दिया जाता है। 
  • इस पुरस्कार के तहत विजेताओं को 5 लाख रुपए का नकद पुरस्कार तथा एक रजत पदक एवं एक प्रशस्ति-पत्र प्रदान किया जाता है।

कवि ‘कुवेम्पु’

  • कुप्पली वेंकटप्पा पुट्टप्पा, जिन्हें उनके उपनाम ‘कुवेम्पु’ के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय कवि, नाटककार, उपन्यासकार और आलोचक थे।
  • उन्हें मुख्य तौर पर 20वीं सदी के सबसे महान कन्नड़ कवियों में से एक माना जाता है।
  • वह कन्नड़ भाषा के पहले लेखक थे जिन्हें रामायण के उनके स्वयं के संस्करण 'श्री रामायण दर्शनम' के लिये ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

ज्ञानपीठ पुरस्कार

  • ज्ञानपीठ पुरस्कार भारत में प्रतिवर्ष प्रदान किये जाने वाला सबसे प्रमुख साहित्यिक पुरस्कार है और यह एक वर्ष में एक ही भारतीय नागरिक को प्रदान किया जा सकता है।
  • भारतीय संविधान (8वीं अनुसूची) में उल्लिखित भाषाओं के साथ-साथ अंग्रेज़ी भाषा के लेखकों  का चयन भी इस पुरस्कार के लिये किया जा सकता है।
  • इस पुरस्कार के तहत 11 लाख रुपए की धनराशि, प्रशस्ति-पत्र तथा वाग्देवी (सरस्वती) की कास्य की प्रतिमा प्रदान की जाती है।
  • यह पुरस्कार सांस्कृतिक संगठन ‘भारतीय ज्ञानपीठ’ द्वारा प्रायोजित है।

साहित्य अकादमी पुरस्कार

  • वर्ष 1954 में स्थापित ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ एक साहित्यिक सम्मान है, जो कि ‘साहित्य अकादमी’ (नेशनल एकेडमी ऑफ लेटर्स) द्वारा प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है।
  • अकादमी द्वारा प्रत्येक वर्ष स्वयं द्वारा मान्यता प्रदत्त 24 भाषाओं में साहित्यिक कृतियों के साथ ही इन्हीं भाषाओं में परस्पर साहित्यिक अनुवाद के लिये भी पुरस्कार प्रदान किये जाते हैं।
  • भारतीय संविधान में शामिल 22 भाषाओं के अलावा साहित्य अकादमी ने अंग्रेज़ी तथा राजस्थानी को भी उन भाषाओं के रूप में मान्यता दी है, जिनमें अकादमी द्वारा कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं और पुरस्कार प्रदान किये जाते हैं।
  • ज्ञानपीठ पुरस्कार के बाद साहित्य अकादमी पुरस्कार, भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा सबसे बड़ा साहित्यिक सम्मान है।

गंगाधर राष्ट्रीय पुरस्कार

  • गंगाधर राष्ट्रीय पुरस्कार संबलपुर विश्वविद्यालय द्वारा मुख्यतः कविता हेतु साहित्य के क्षेत्र में दिया जाने वाला एक साहित्यिक पुरस्कार है। इसका नाम गंगाधर मेहर के नाम पर रखा गया है।
  • इस पुरस्कार के तहत 50,000 रुपए नकद, एक शॉल और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है।

फर्स्ट मूवेबल फ्रेशवॉटर टनल एक्वेरियम: इंडियन रेलवे

First Movable Freshwater Tunnel Aquarium: Indian Railways

हाल ही में भारतीय रेलवे (IR) ने बंगलूरू रेलवे स्टेशन पर देश के फर्स्ट मूवेबल फ्रेशवॉटर टनल एक्वेरियम (Movable Freshwater Tunnel Aquarium) की स्थापना की है।

Indian-Railways

प्रमुख बिंदु:

  • क्रांतिवीर संगोली रायन्ना रेलवे स्टेशन, जिसे बंगलूरू सिटी रेलवे स्टेशन के नाम से भी जाना जाता है, भारत का पहला रेलवे स्टेशन बन गया है जिसमें मूवेबल फ्रेशवॉटर टनल एक्वेरियम है।
  • भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम लिमिटेड (IRSDC) द्वारा एचएनआई एक्वाटिक किंगडम (HNi Aquatic Kingdom) के सहयोग से यह एक्वेरियम खोला गया है।
  • यह एक्वेरियम अमेज़ॅन नदी (दक्षिण अमेरिका की) अवधारणा पर आधारित अपनी तरह का एक जलीय पार्क है।
  • यह एक 12 फीट लंबा जलीय साम्राज्य है, असंख्य वनस्पतियों और जीवों के साथ पहला पलुडेरियम (विवरियम जिसमें स्थलीय और जलीय दोनों तत्त्व शामिल हैं)।
  • यह विभिन्न जलीय जंतुओं जैसे- घड़ियाल गार रेंजिंग, स्टिंग्रे, शार्क, झींगा मछली, घोंघे और श्रिम्प आदि का निवास स्थान है। एक्वेरियम प्राकृतिक चट्टानों और ड्रिफ्टवुड, कृत्रिम प्रवाल चट्टानों के टुकड़ों से सुशोभित है।
  • इसे रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के सुखद अनुभव के उद्देश्य से 1.2 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है।
  • इसका उद्देश्य भारतीय रेल के लिये राजस्व अर्जन में सुधार करना भी है।
  • यह एक प्रकार से शिक्षाप्रद भी है, यहाँ मछलियों के जीवन, आकार, साम्राज्य का अनुभव किया जा सकता है।

ताल ज्वालामुखी: फिलीपींस

Taal Volcano: Philippines 

हाल ही में फिलीपींस ने ‘ताल ज्वालामुखी’ में ‘फ्रीएटोमैग्मैटिक विस्फोट’ (Phreatomagmatic Eruption) के बाद ज्वालामुखी के चेतावनी स्तर को ‘स्तर-3’ (पाँच-स्तर के पैमाने पर) तक बढ़ा दिया है। इस ‘फ्रीएटोमैग्मैटिक विस्फोट’ के कारण तकरीबन एक किलोमीटर ऊँचा गहरे भूरे रंग का प्लम उत्पन्न हुआ था।

  • ‘स्तर-3’ मैग्मैटिक अशांति या मैग्मा की ऐसी गति इंगित करता है, जो भविष्य में आने वाले विस्फोटों में वृद्धि कर सकती है।

Philippines

प्रमुख बिंदु

  • अवस्थिति
    • यह ज्वालामुखी फिलीपींस के मनीला से 50 किलोमीटर दूर स्थित ‘लुजोन द्वीप’ पर है।
  • संवेदनशीलता:
    • फिलीपींस दो टेक्टोनिक प्लेटों- फिलीपींस सागर प्लेट और यूरेशियन प्लेट, की सीमाओं पर स्थित है इसलिये यह भूकंप और ज्वालामुखी की दृष्टि से अतिसंवेदनशील है।
    • ‘ताल ज्वालामुखी’ फिलीपींस के सबसे सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है, क्योंकि यह पैसिफिक ‘रिंग ऑफ फायर’ पर स्थित है, जो कि अपनी तीव्र भूकंपीय गतिविधियों के लिये जाना जाता है।
  • फ्रीएटोमैग्मैटिक विस्फोट: नए मैग्मा या लावा के पानी के साथ संपर्क में आने से उत्पन्न होने वाला यह विस्फोट काफी खतरनाक हो सकता है। यह पानी भूजल, हाइड्रोथर्मल प्रणाली, सतही अपवाह, झील या समुद्र से आ सकता है।
  • खतरा
    • पाइरोक्लास्टिक घनत्व धाराओं (जैसे- गर्म गैस, राख और अन्य ज्वालामुखीय मलबे के बादल) से उत्पन्न खतरे एवं ज्वालामुखी जनित सुनामी के संभावित खतरे।
  • जटिल ज्वालामुखी: इस ज्वालामुखी को ‘फिलीपीन इंस्टीट्यूट ऑफ वॉल्केनोलॉजी एंड सिस्मोलॉजी’ द्वारा ‘जटिल’ ज्वालामुखी के रूप में वर्गीकृत किया गया है।
    • जटिल ज्वालामुखी को एक ऐसे ज्वालामुखी के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसमें केवल एक मुख्य वेंट (छिद्र) या शंकु नहीं बल्कि कई विस्फोट बिंदु होते हैं। इस प्रकार के ज्वालामुखी का एक अन्य रूप इटली के पश्चिमी तट पर स्थित ‘माउंट वेसुवियस’ है।
  • अप्रत्याशित रूप से पिछली कुछ शताब्दियों में ‘ताल ज्वालामुखी’ 30 से अधिक बार विस्फोटित हो चुका है, इससे पूर्व अंतिम विस्फोट वर्ष 2020 में हुआ था।

ज्वालामुखी

  • ज्वालामुखी भू-पर्पटी पर एक ऐसा खुला छिद्र होता है जिससे पिघले हुए पदार्थ अचानक बाहर निकलते हैं।

Jwalamukhi 

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close