दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स


रैपिड फायर

वर्ष 2047 तक भारत करेगा छह मेगा-पोर्ट विकसित

  • 12 Feb 2024
  • 2 min read

स्रोत: पी. आई. बी

बंदरगाह, जहाज़रानी और जलमार्ग मंत्रालय के हालिया अपडेट में वर्ष 2047 तक भारत में मेगा-पोर्ट के विकास के लिये महत्त्वपूर्ण योजनाओं की रूपरेखा तैयार की गई है।

    • वर्ष 2047 तक मेगा पोर्ट के रूप में विकास के लिये छह बंदरगाह समूहों की पहचान की गई।
      • 300 मिलियन टन प्रति वर्ष (MTPA) से अधिक क्षमता वाले चार बंदरगाह क्लस्टर:
        • कोचीन-विझिंजम पोर्ट क्लस्टर, गैलाथिया दक्षिणी खाड़ी पोर्ट, चेन्नई-कामराजार-कुड्डालोर पोर्ट क्लस्टर, पारादीप और अन्य गैर-प्रमुख पोर्ट क्लस्टर।
      • 500 MTPA से अधिक क्षमता वाले दो बंदरगाह क्लस्टर:
    • प्रमुख बंदरगाह समुद्री अमृतकाल विज़न, 2047 के हिस्से के रूप में क्षमता और बुनियादी ढाँचे को बढ़ा रहे हैं।
      • बंदरगाह विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (PPP) और आंतरिक संसाधनों के माध्यम से बुनियादी ढाँचा परियोजनाएँ चल रही हैं।

    और पढ़ें: विझिंजम अंतर्राष्ट्रीय बंदरगाह परियोजना

    close
    एसएमएस अलर्ट
    Share Page
    images-2
    images-2