हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )UPPCS मेन्स क्रैश कोर्स.
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

डेली अपडेट्स

भारतीय विरासत और संस्कृति

भारत में ‘मर्सिया’ कविता की परंपरा

  • 28 Sep 2019
  • 3 min read

चर्चा में क्यों?

हाल ही में पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने नई दिल्ली में 'दास्तान-ए-मर्सिया: कर्बला से काशी तक' समारोह को संबोधित करते हुए उर्दू कविता की मर्सिया परंपरा की प्रशंसा कर इसे 'अदब' (साहित्य) का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा बताया।

उर्दू कविता की मर्सिया विधा

  • मर्सिया कविता साहित्यिक अभिव्यक्ति का एक रूप है जिसका शिया मुसलमानों के लिये विशेष महत्त्व है।
  • कर्बला के ऐतिहासिक युद्ध में इमाम हुसैन के व्यक्तित्व और उनकी शहादत को समर्पित मर्सिया कविता का पाठ प्राय: मुहर्रम के महीने में किया जाता है।
  • मर्सिया शब्द का अर्थ है शोक-गीत (Elegy) अर्थात् ये मृतकों की याद में लिखे गए शोक गीत होते है।
  • मर्सिया को आमतौर पर संगीत और कविता के संयोजन से भारतीय रागों पर गाया जाता है।
  • उर्दू साहित्य में मर्सिया को मुख्य रूप से पैगंबर के दोहिते इमाम हुसैन और उनके परिवार के सदस्यों की प्रशंसा में लिखा गया है, जो 680 ईस्वी में कर्बला (वर्तमान इराक में) की लड़ाई में मारे गए थे।
  • मर्सिया कविता का ऐसा रूप है जिसमें न केवल इमाम हुसैन की शहादत और अन्य घटनाओं का ज़िक्र है बल्कि इसमें क्षमा और करुणा जैसे नैतिक आदर्शों एवं व्यवहार की भी चर्चा है।

मर्सिया परंपरा का विकास

  • मर्सिया परंपरा का प्रारंभ पहले दिल्ली और दक्कन में हुआ लेकिन लखनऊ के नवाबों के संरक्षण में यह अपने सर्वोच्च शिखर पर पहुँच गई।
  • नवाबों ने पतनशील मुगल सत्ता के समय 18वीं और 19वीं शताब्दी में इस कला को प्रोत्साहित किया।
  • 19वीं शताब्दी के मीर अनीस और मिर्ज़ा दाबीर मर्सिया के सबसे प्रतिष्ठित कवि हैं जिन्होंने छह-पंक्ति वाली छंद रचना को बढ़ावा दिया।
  • मर्सिया 7वीं शताब्दी के अरब की घटनाओं के चित्रण के लिये भी महत्त्वपूर्ण है जो दक्षिण एशिया में दर्शकों के बीच इसे लोकप्रिय बना सकता है।

स्रोत : द इंडियन एक्सप्रेस

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close