IAS प्रिलिम्स ऑनलाइन कोर्स (Pendrive)
ध्यान दें:
65 वीं बी.पी.एस.सी संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा - उत्तर कुंजी.बी .पी.एस.सी. परीक्षा 63वीं चयनित उम्मीदवारअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.63 वीं बी .पी.एस.सी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा - अंतिम परिणामबिहार लोक सेवा आयोग - प्रारंभिक परीक्षा (65वीं) - 2019- करेंट अफेयर्सउत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) मुख्य परीक्षा मॉडल पेपर 2018यूपीएससी (मुख्य) परीक्षा,2019 के लिये संभावित निबंधसिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा, 2019 - मॉडल पेपरUPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़Result: Civil Services (Preliminary) Examination, 2019.Download: सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा - 2019 (प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजी).

डेली अपडेट्स

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

द गांधियन चैलेंज

  • 03 Oct 2019
  • 8 min read

चर्चा में क्यों?

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर अटल नवाचार मिशन (Atal Innovation Mission- AIM), अटल टिंकरिंग लैब्स (Atal Tinkering Labs- ATL), यूनिसेफ इंडिया (UNICEF India) और जेनरेशन अनलिमिटेड (Generation Unlimited) द्वारा सम्मिलित रूप से 'द गांधियन चैलेंज' प्रारंभ किया गया।

The Gandhian Challenge

संदर्भ:

  • इस वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई जा रही है। वह न केवल एक महान नेता और समाज सुधारक थे बल्कि एक उत्कृष्ट नवोन्मेषक भी थे। उनके रचनात्मक और प्रगतिशील विचार आज भी प्रासंगिक हैं।
  • महात्मा गांधी सामाजिक न्याय, अहिंसा, आत्मनिर्भरता और समानता के प्रबल समर्थक थे। अफसोस की बात यह है कि आज पूरी दुनिया इन सिद्धांतों से दूर होकर एक समावेशी समाज के बजाय एक विशिष्ट समाज की दिशा में बढ़ती हुई दृष्टिगोचर हो रही है।
  • आज दुनिया में ग्लोबल वार्मिंग, बढ़ती हिंसा की घटनाएँ और असहिष्णुता जैसी कई समस्याएँ उभर कर सामने आ रही हैं। इस मुश्किल घड़ी में यह अपरिहार्य है कि कैसे गांधीजी के मूल्यों का इस्तेमाल कर एक नई दुनिया बनाई जाए, एक ऐसी दुनिया जो प्यार, व्यवहार, शांति और न्याय से परिपूर्ण हो।

द गांधियन चैलेंज के लिये समस्या-कथन

(Problem-Statement):

"गांधी के सिद्धांतों का पालन करते हुए अपने सपनों के अनुरूप एक भविष्योन्मुख और स्थायी विश्व बनाने हेतु अपने अभिनव समाधान/विचारों को साझा करें।" (“Share your innovative solutions/ideas to create a futuristic and sustainable world of your dreams, following Gandhi's principles.”)

मुख्य बिंदु:

  • द गांधियन चैलेंज के विचार और समाधान व्यापक श्रेणियों के माध्यम से व्यक्त किये जा सकते हैं:
    • कला और नवोन्मेष (पत्र, कविताएँ, पेंटिंग, वीडियो और फोटो आदि)।
    • विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार [रोबोटिक्स, इन्टरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things- IoT), सेंसर और 3-डी प्रिंटर आदि]।
  • यह नवाचार चुनौती भारत के प्रत्येक बच्चे को गांधी के सिद्धांतों का उपयोग करते हुए उनके सपनों के एक स्थायी भारत के लिये अभिनव समाधान तैयार करने हेतु एक मंच प्रदान करती है।
  • द गांधियन चैलेंज के विजेताओं को नई दिल्ली में नवंबर में बाल दिवस के अवसर पर नीति आयोग के अटल नवाचार मिशन (Atal Innovation Mission- AIM) और यूनिसेफ द्वारा सम्मानित किया जाएगा।

दृष्टिकोण एवं उद्देश्य:

  • भागीदारी प्रत्येक बच्चे का एक अहम अधिकार है और उनकी सार्थक भागीदारी को सक्षम करना अत्यंत महत्त्वपूर्ण है।
  • इस तरह की चुनौतियाँ हमें बच्चों के दृष्टिकोण को समझने के साथ-साथ अपनी राय और नज़रिये को जाँचते हुए बाल अधिकार के परिप्रेक्ष्य में चीज़ो को समझने में सहायता करती हैं।
  • इसका उद्देश्य उचित सहयोग, समर्थन एवं अवसर प्रदान कर बच्चों को युवा नवोन्मेषकों और उद्यमियों के रूप में विकसित करना तथा इस बात को बढ़ावा देना है कि छात्र अपने नूतन व प्रगतिशील विचारों को व्यक्त करने के लिये महात्मा गांधी के सिद्धांतों को पढ़ें और समझें।
  • इस चुनौती का लक्ष्य बापू के जीवन जीने के तरीके और विचार को देश के छात्रों तक पहुँचाना है।

अटल नवाचार मिशन (Atal Innovation Mission- AIM):

  • AIM देश में नवाचार और उद्यमिता की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिये भारत सरकार की प्रमुख पहल है।
  • AIM के प्रमुख उद्देश्य:
    • अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार को बढ़ावा देने के लिये नए कार्यक्रमों और नीतियों को विकसित करना।
    • विभिन्न हितधारकों के लिये मंच और सहयोग के अवसर प्रदान करना।
    • जागरूकता पैदा करना।
    • देश के नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र की निगरानी के लिये एक एकीकृत संरचना बनाना।
  • AIM की छह प्रमुख पहल:
    • अटल टिंकरिंग लैब्स (Atal Tinkering Labs): भारत के स्कूलों में समस्याओं को सुलझाने की मानसिकता (Problem-solving Mindset) को विकसित करना।
    • अटल इन्क्यूबेशन सेंटर्स (Atal Incubation Centers): विश्व स्तर के स्टार्ट-अप को बढ़ावा देना और इनक्यूबेटर मॉडल में एक नया आयाम जोड़ना।
    • अटल न्यू इंडिया चैलेंजेज़ (Atal New India Challenges): विभिन्न क्षेत्रों/मंत्रालयों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिये उत्पाद नवाचारों को बढ़ावा देना।
    • मेंटर इंडिया कैंपेन (Mentor India Campaign): मिशन की सभी पहलों का समर्थन करने के लिये सार्वजनिक क्षेत्र, कॉरपोरेट्स और संस्थानों के सहयोग से एक नेशनल मेंटर नेटवर्क (National Mentor Network) विकसित करना।
    • अटल सामुदायिक नवाचार केंद्र (Atal Community Innovation Center): टियर-2 और टियर-3 शहरों सहित देश के दूरस्थ क्षेत्रों में समुदाय केंद्रित नवाचार और विचारों को प्रोत्साहित करने के लिये।
    • उन्नत मरम्मत और औद्योगिक कौशल संवर्द्धन (Advanced Repair & Industrial Skill Enhencement- ARISE): सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (Micro, Small and Medium Enterprises- MSME) में नवाचार तथा अनुसंधान को प्रोत्साहित करने के लिये।

जेनरेशन अनलिमिटेड

(Generation Unlimited):

  • जेनरेशन अनलिमिटेड यूनिसेफ की अगुवाई वाली एक नई वैश्विक साझेदारी है।
  • प्रमुख उद्देश्य:
    • 10-24 वर्ष की आयु के प्रत्येक युवा की वर्ष 2030 तक स्कूल, शिक्षण, प्रशिक्षण, स्वरोजगार या आयु-उपयुक्त रोज़गार के किसी-न-किसी रूप से संबद्धता सुनिश्चित करना है।
    • बालिकाओं पर विशेष ध्यान देते हुए माध्यमिक आयु-शिक्षा (Secondary Age-Education), कौशल, रोज़गार और सशक्तीकरण से संबंधित प्रामाणिक समाधानों का सह-सृजन एवं इसके लिये मानक तैयार करना है।

स्रोत: PIB

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close