IAS प्रिलिम्स ऑनलाइन कोर्स (Pendrive)
ध्यान दें:
65 वीं बी.पी.एस.सी संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा - उत्तर कुंजी.बी .पी.एस.सी. परीक्षा 63वीं चयनित उम्मीदवारअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.63 वीं बी .पी.एस.सी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा - अंतिम परिणामबिहार लोक सेवा आयोग - प्रारंभिक परीक्षा (65वीं) - 2019- करेंट अफेयर्सउत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) मुख्य परीक्षा मॉडल पेपर 2018यूपीएससी (मुख्य) परीक्षा,2019 के लिये संभावित निबंधसिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा, 2019 - मॉडल पेपरUPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़Result: Civil Services (Preliminary) Examination, 2019.Download: सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा - 2019 (प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजी).

डेली अपडेट्स

भारतीय अर्थव्यवस्था

भारत का दूसरा मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल

  • 13 Sep 2019
  • 3 min read

चर्चा में क्यों?

हाल ही में प्रधानमंत्री ने गंगा नदी पर पर बने भारत के दूसरे मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल (Multi-Modal Terminal) का उद्घाटन किया।

Multi Model terminal

प्रमुख बिंदु:

  • यह भारत का दूसरा और झारखंड का पहला मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल है।
  • दूसरे मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल का निर्माण विश्व बैंक द्वारा सहायता प्राप्त जल मार्ग विकास परियोजना (Jal Marg Vikas Project-JMVP) के तहत राष्ट्रीय जलमार्ग-1 (यानी गंगा नदी) पर किया जा रहा है।
  • उल्लेखनीय है कि भारत के पहले मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल का निर्माण वाराणसी में गंगा नदी पर किया गया था।
  • दूसरे मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल का निर्माण लगभग 290 करोड़ रुपए की लागत से हुआ है।
  • साहिबगंज स्थित मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल झारखंड एवं बिहार के उद्योगों को वैश्विक बाज़ार के लिये खोलेगा, साथ ही जलमार्ग के ज़रिये भारत-नेपाल कार्गो कनेक्टिविटी को भी सुलभ बनाएगा।
  • इस टर्मिनल के ज़रिये कोयले के अलावा स्‍टोन चिप्‍स (Stone Chips), उर्वरकों, सीमेंट और चीनी की भी ढुलाई किये जाने की आशा है।
  • यह मल्‍टी-मॉडल टर्मिनल लगभग 600 लोगों के लिये प्रत्‍यक्ष रोज़गार और तकरीबन 3000 लोगों के लिये अप्रत्‍यक्ष रोज़गार सृजित करेगा।
  • इस टर्मिनल की क्षमता सालाना 30 लाख टन है। सार्वजनिक-निजी भागीदारी (Public Private Partnership-PPP) मोड के तहत दूसरे चरण में इसकी क्षमता को बढ़कर सालाना 54.8 लाख टन कर दिया जाएगा।

राष्ट्रीय जलमार्ग-1

(National Waterway-1)

  • इलाहाबाद से हल्दिया तक गंगा-भागीरथी-हुगली नदी प्रणाली को राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 1 घोषित किया गया है।
  • NW-1 उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के औद्योगिक इलाकों और उनके प्रमुख शहरों से होकर गुजरता है।

स्रोत: पी.आई.बी.

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close