हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

सामाजिक न्याय

नेशनल हेल्थ स्टैक तथा नेशनल डिजिटल हेल्थ ब्लूप्रिंट

  • 09 Nov 2019
  • 7 min read

प्रीलिम्स के लिये

नेशनल हेल्थ स्टैक, नेशनल डिजिटल हेल्थ ब्लूप्रिंट

मेन्स के लिये

यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज की दिशा में नेशनल हेल्थ स्टैक तथा नेशनल डिजिटल हेल्थ ब्लूप्रिंट का योगदान

चर्चा में क्यों?

हाल ही में आयुष्मान भारत योजना के सफल क्रियान्वयन में तकनीक के प्रयोग के लिये आई. टी. तथा संचार सचिव जे. सत्यनारायण की अध्यक्षता में गठित समिति ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंपी।

  • इस रिपोर्ट में नेशनल हेल्थ स्टैक (National Health Stack-NHS) तथा नेशनल डिजिटल हेल्थ ब्लूप्रिंट (National Digital Health Blueprint-NDHB) के प्रयोग का प्रस्ताव रखा गया।

नेशनल हेल्थ स्टैक

(National Health Stack-NHS)

वर्ष 2018 में नीति आयोग द्वारा प्रारंभ किया गया NHS एक डिजिटल अवसंरचना है जिसका निर्माण देश की स्वास्थ्य बीमा प्रणाली को अधिक पारदर्शी तथा मज़बूत बनाना है। NHS के पाँच मुख्य घटक हैं।

  1. एक इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय स्वास्थ्य रजिस्ट्री (National Health Registry) का निर्माण किया जाएगा जो पूरे देश के स्वास्थ्य आँकड़ों के लिये एकल स्रोत का कार्य करेगी।
  2. कवरेज तथा दावा प्लेटफॉर्म (Coverage and claims platform), यह बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजनाओं की विस्तृत पहुँच तथा उनसे संबंधित दावों के लिये एक मंच का कार्य करेगा। इसके साथ ही यह राज्यों को आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं के क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर विस्तार हेतु अनुमति देगा तथा इनके क्रियान्वयन में धोखाधड़ी का पता लगाने में एक मज़बूत भूमिका निभाएगा।
  3. मानव स्वास्थ्य की समझ को और अधिक विकसित करने के लिये एक एकीकृत व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड (Federated Personal Health Record) बनाया जाएगा। इसका प्रयोग मरीज़ द्वारा उसके स्वयं के स्वास्थ्य आँकड़ों को देखने तथा चिकित्सा क्षेत्र में शोध के लिये किया जा सकता है।
  4. इसके तहत एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य विश्लेषण प्लेटफॉर्म (National Health Analytics Platform) का निर्माण किया जाएगा जो कि विभिन्न स्वास्थ्य नवाचारों पर आधारित सूचनाओं को एकत्रित करेगा। इसके द्वारा भविष्य में स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं के नीति निर्माण में मदद मिलेगी।
  5. इसके अलावा कई अन्य घटक इसमें शामिल हैं। जैसे कि यूनिक हेल्थ आईडी (Unique Health ID-UHID), हेल्थ डेटा डिक्शनरी (Health Data Dictionary) तथा दवाओं की आपूर्ति शृंखला प्रबंधन (Supply Chain Management) और उससे संबंधित भुगतान प्रणाली का निर्माण आदि।

नेशनल डिजिटल हेल्थ ब्लूप्रिंट

(National Digital Health Blueprint-NDHB)

  • यह NHS के क्रियान्वयन के लिये तैयार किया गया एक संरचनात्मक दस्तावेज़ है। इसका लक्ष्य एक ऐसे राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी (Digital Health Ecosystem) का निर्माण करना है जिसके माध्यम से देश में दक्ष, सुलभ, समावेशी, सस्ता, समयोचित तथा सुरक्षित यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (Universal Health Coverage) को लागू किया जा सके।
  • इस ब्लूप्रिंट की मुख्य विशेषताओं में एक एकीकृत संरचना, संरचना से संबंधित सिद्धांत, पाँच स्तरीय संरचनात्मक इकाई (Building Blocks), यूनिक हेल्थ आईडी (UHID), निजता तथा सहमति प्रबंधन, स्वास्थ्य विश्लेषण आदि शामिल हैं।
  • इसके साथ ही इन सभी सुविधाओं तक आसानी से पहुँच के लिये इसे कॉल सेंटर, डिजिटल इंडिया हेल्थ पोर्टल (Digital India Health Portal) तथा माय हेल्थ मोबाइल एप (MyHealth App) से जोड़ा जाएगा।
  • NDHB के सफल क्रियान्वयन तथा प्रचार के लिये राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन National Digital Health Mission) की स्थापना की जाएगी।

NHS की आवश्यकता

  • वर्तमान में भारत में आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) के अतिरिक्त अनेक योजनाएँ राज्यों के स्तर पर चल रही हैं। जैसे- पश्चिम बंगाल में स्वास्थ्य साथी, तेलंगाना में आरोग्यश्री, तमिलनाडु में मुख्यमंत्री व्यापक स्वास्थ्य बीमा योजना (Chief minister’s Comprehensive Health Insurance Scheme), महाराष्ट्र में महात्मा ज्योतिबा फुले जन आरोग्य योजना आदि। यूनिवर्सल हेल्थ केयर के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये आवश्यक है कि इन सभी योजनाओं को एकीकृत किया जाए जिसके लिये NHS एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
  • देश में संचालित अन्य सभी स्वास्थ्य योजनाओं के संचालन तथा अंतर-संचालनीयता (Inter-Operabilty) के लिये एक सामान्य भाषा की आवश्यकता होगी। NHS इसके लिये प्रभावी होगा।

आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY)

  • यह भारत सरकार की एक फ्लैगशिप योजना है जिसका मुख्य उद्देश्य देश में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज तथा सतत् विकास लक्ष्यों की प्राप्ति की दिशा में आगे बढ़ना है। इसकी स्थापना राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति-2017 के अनुदेशों पर की गई थी।
  • आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत इसकी दो शाखाएँ हैं। पहली शाखा है- हेल्‍थ एंड वेलनेस सेंटर जिसके अंतर्गत प्राथमिक उपचार शामिल है तथा दूसरी शाखा है- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) जिसके अंतर्गत 10.74 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए की स्वास्थ्य सुविधा दी जाएगी।
  • पश्चिम बंगाल ने स्वयं को आयुष्मान भारत योजना से अलग कर लिया है। तेलंगाना तथा ओडिशा प्रारंभ से ही इसका हिस्सा नहीं थे।

स्रोत : इंडियन एक्सप्रेस

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close