IAS प्रिलिम्स ऑनलाइन कोर्स (Pendrive)
ध्यान दें:
65 वीं बी.पी.एस.सी संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा - उत्तर कुंजी.बी .पी.एस.सी. परीक्षा 63वीं चयनित उम्मीदवारअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.63 वीं बी .पी.एस.सी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा - अंतिम परिणामबिहार लोक सेवा आयोग - प्रारंभिक परीक्षा (65वीं) - 2019- करेंट अफेयर्सउत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) मुख्य परीक्षा मॉडल पेपर 2018यूपीएससी (मुख्य) परीक्षा,2019 के लिये संभावित निबंधसिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा, 2019 - मॉडल पेपरUPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़Result: Civil Services (Preliminary) Examination, 2019.Download: सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा - 2019 (प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजी).

डेली अपडेट्स

भारत-विश्व

भारत और इज़रायल के बीच मिसाइल रक्षा सौदा

  • 25 Oct 2018
  • 3 min read

चर्चा में क्यों?

इज़रायल की एक प्रमुख रक्षा कंपनी ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के साथ 777 मिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। उल्लेखनीय है कि रूस के बाद इज़राइल भारत का दूसरा सबसे बड़ा हथियारों का आपूर्तिकर्त्ता है।

प्रमुख बिंदु

  • इस समझौते के अनुसार, इज़राइल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज़ (IAI) भारतीय नौसेना के 7 पोतों के लिये सतह से हवा में मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल (LRSAM) और हवाई मिसाइल रक्षा प्रणाली संचालित बराक-8 के समुद्री संस्करण की आपूर्ति करेगी। 
  • भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) इस परियोजना के तहत मुख्य निर्माता की भूमिका निभाएगा।

इज़राइल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (IAI)

  • IAI इज़रायल की सबसे बड़ी एयरोस्पेस और रक्षा कंपनी है।
  • यह मिसाइल भेदी, एयर सिस्टम्स और खुफिया एवं साइबर सुरक्षा प्रणालियों तथा रक्षा प्रणालियों का विकास, विनिर्माण और आपूर्ति करती है।

भारत और इज़रायल के बीच रक्षा संबंध

  • इज़रायल की रक्षा प्रतिष्ठान के साथ भारत के घनिष्ठ संबंध हैं और इजरायली रक्षा कंपनियों के साथ भारत कई महत्त्वपूर्ण सौदों पर हस्ताक्षर कर चुका है। 
  • भारत IAI के लिये एक प्रमुख बाज़ार है और बढ़ती प्रतिस्पर्द्धा के मद्देनज़र भी वह भारत में अपनी स्थिति को और मज़बूत बनाने की योजना बना रहा है।
  • इज़राइल रक्षा मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, इज़रायल दुनिया के शीर्ष हथियार डीलरों में से एक है और इसके कुल रक्षा निर्यात का लगभग 60 प्रतिशत निर्यात एशिया-प्रशांत क्षेत्र में किया जाता है।

निष्कर्ष

  • दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग समय के साथ बराबर बढ़ता जा रहा है। राजनीतिक समझ, सुरक्षा सहयोग और प्रौद्योगिकी साझेदारी भारत और इज़राइल के बीच रणनीतिक संबंधों के मुख्य स्तंभ हैं। इसके अलावा दोनों देश अंतरिक्ष, साइबर सुरक्षा एवं नवोन्मेष (स्टार्ट-अप) जैसे नए क्षेत्रों में संभावनाओं की तलाश में हैं। 
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close