हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 28 Jul, 2021
  • 12 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स : 28 जुलाई, 2021

अभ्यास इंद्र-21

Exercise INDRA-21

भारत और रूस के बीच 12वाँ संयुक्त सैन्य अभ्यास इंद्र-21 (Exercise INDRA) का आयोजन  अगस्त 2021 में रूस के वोल्गोग्राद में किया जाएगा।

Russia

प्रमुख बिंदु

अभ्यास इंद्र-21 के विषय में:

  • दोनों देशों की सेनाएँ अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी समूहों के खिलाफ संयुक्त कार्रवाई संबंधी संयुक्त राष्ट्र (UN) अध्यादेश के अनुपालन में आतंक विरोधी अभ्यास करेंगी।
  • इस सैन्य अभ्यास की शुरुआत वर्ष 2003 में की गई थी, जिसे दोनों देशों के बीच बारी-बारी से द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास के रूप में आयोजित किया गया था। हालाँकि पहला संयुक्त त्रि-सेवा अभ्यास (Tri-Services Exercise) वर्ष 2017 में आयोजित किया गया था।
  • भारत और रूस के बीच पिछला संयुक्त, त्रि-सेवा अभ्यास दिसंबर 2019 में भारत में आयोजित किया गया था। यह बबीना (झांसी के निकात), पुणे और गोवा में एक साथ आयोजित किया गया था।
  • सैन्य अभ्यास का महत्त्व:
  • अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के क्षेत्र में सैन्य कूटनीति हाल के वर्षों में राष्ट्रों के राजनयिक हितों को आगे बढ़ाने के लिये एक प्रमुख उपकरण के रूप में उभरी है।
  • अंतर्राष्ट्रीय स्तर के सैन्य अभ्यासों में भाग लेना सदस्य देशों के बीच उच्चतम स्तर के विश्वास और आत्मविश्वास का संकेत है।
  • सैन्य अभ्यास सेनाओं को एक-दूसरे के अभ्यास और प्रक्रियाओं को समझने, भाषा की बाधाओं को दूर करने तथा उपकरण क्षमताओं से परिचित कराने की सुविधा प्रदान करते हैं।
  • यह संयुक्त अभियानों की स्थिति में विशेष रूप से उपयोगी है, (चाहे युद्ध में या युद्ध के अलावा अन्य ऑपरेशनों में, जैसे- मानवीय सहायता, आपदा राहत, एंटी-पायरेसी आदि - जब राष्ट्र एक सामान्य कारण के लिये एक साथ आते हैं)। 
  • संभवतः संयुक्त सैन्य अभ्यास का सबसे महत्त्वपूर्ण लाभ 'रणनीतिक संकेत' प्रदान करना है।
    • एक या अधिक देशों के साथ एक संयुक्त अभ्यास तीसरे देश को इस क्षेत्र में हमारे प्रभाव का संकेत देने और हमारे राजनयिक उद्देश्यों को आगे बढ़ाने के हमारे संकल्प का प्रदर्शन करने के उद्देश्य से कार्य करता है।
  • अप्रत्यक्ष तौर पर, सैन्य अभ्यास सैनिकों और सेनाओं के बीच भाईचारे तथा सौहार्द को बढ़ावा देते हैं।
    • सद्भावना के अलावा, यह राष्ट्र की सॉफ्ट पावर- संस्कृति, भाषा, रीति-रिवाजों, विश्वासों, भोजन की आदतों और जीवन शैली के आदान-प्रदान का एक साधन है।

अन्य देशों के साथ भारत के सैन्य अभ्यास

अभ्यास का नाम

देश

गरुड़ शक्ति 

इंडोनेशिया

एकुवेरिन

मालदीव 

हैंड-इन-हैंड

चीन

बोल्ड कुरुक्षेत्र 

सिंगापुर

मित्र शक्ति

श्रीलंका

नोमेडिक एलीफैंट

मंगोलिया

शक्ति

फ्राँस

सूर्य किरण

नेपाल

युद्ध अभ्यास

संयुक्त राज्य अमेरिका


विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 28 जुलाई, 2021

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

27 जुलाई, 2021 को देश भर में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की छठी पुण्‍यतिथि मनाई गई। डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्तूबर, 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उन्होंने वर्ष 2002 से वर्ष 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। वे न केवल एक सुविख्यात एयरोस्पेस वैज्ञानिक थे, बल्कि महान शिक्षक भी थे, जिन्होंने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) तथा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के साथ काम किया था। डॉ. कलाम वर्ष 1962 में ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ से जुड़े और वहाँ उन्हें प्रोजेक्ट डायरेक्टर के तौर पर भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह (SLV- lll) प्रक्षेपास्त्र बनाने का श्रेय हासिल हुआ। अब्दुल कलाम भारत के मिसाइल कार्यक्रम के जनक माने जाते हैं, वे ‘आम जनमानस के राष्ट्रपति’ के तौर पर प्रसिद्ध हैं। डॉ. कलाम ने अपने ‘सादा जीवन, उच्च विचार’ के दर्शन से भारत समेत दुनिया भर के लाखों युवाओं को प्रेरित किया है। संयुक्त राष्ट्र (UN) ने डॉ. कलाम के जन्म दिवस को चिह्नित करते हुए वर्ष 2010 में 15 अक्तूबर को विश्व छात्र दिवस के रूप में नामित किया था। डॉ. कलाम की उपलब्धियों को इस बात से समझा जा सकता है कि उन्हें भारत एवं विदेशों के 48 विश्वविद्यालयों और संस्थानों द्वारा डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था। उन्होंने वर्ष 1992 से वर्ष 1999 तक प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में भी कार्य किया। डॉ. कलाम को वर्ष 1981 में पद्म भूषण, वर्ष 1990 में पद्म विभूषण और वर्ष 1997 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। 

“इससे पहले कि सपने सच हों, आपको सपने देखने होंगे।”

बाईपायराज़ोल आर्गेनिक क्रिस्टल

हाल ही में भारतीय वैज्ञानिकों ने ऐसा मैटेरियल विकसित किया है, जो बिना किसी बाहरी हस्तक्षेप के क्षतिग्रस्त इलेक्ट्रॉनिक घटकों की स्वयं ही मरम्मत करने में सक्षम है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-खड़गपुर के शोधकर्त्ताओं ने ‘भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, कोलकाता’ के शोधकर्त्ताओं के साथ मिलकर ऐसे ‘पीज़ोइलेक्ट्रिक मॉलिक्यूलर क्रिस्टल’ विकसित किये हैं, जो अपनी स्वयं की यांत्रिक क्षति की मरम्मत करने में सक्षम हैं। ‘बाईपायराज़ोल आर्गेनिक क्रिस्टल’ नामक यह पीज़ोइलेक्ट्रिक मॉलिक्यूलर क्रिस्टल यांत्रिक फ्रैक्चर के बाद बिना किसी बाहरी हस्तक्षेप के पुनर्संयोजित हो जाते हैं और क्रिस्टलोग्राफिक परिशुद्धता के साथ मिलीसेकंड में स्वायत्त रूप से स्वयं ही मरम्मत करने में सक्षम हैं। इस विशिष्ट गुण के कारण किसी भी टूटे हुए घटक के टुकड़ों में विद्युत आवेश होता है और क्षतिग्रस्त हिस्से स्वायत्त मरम्मत के लिये एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं तथा पुनः जुड़ जाते हैं। दैनिक आधार पर उपयोग किये जाने वाले उपकरण प्रायः यांत्रिक क्षति के कारण टूट जाते हैं, जिससे उपकरणों की जीवन अवधि कम हो जाती है एवं उनके रखरखाव की लागत बढ़ जाती है। इसके अलावा अंतरिक्षयानों के क्षतिग्रस्त इलेक्ट्रॉनिक घटकों की मरम्मत और बहाली के लिये मानव हस्तक्षेप संभव नहीं है। ऐसी स्थितियों में वैज्ञानिकों द्वारा विकसित यह मैटेरियल काफी महत्त्वपूर्ण साबित हो सकता है।

‘पुरी’: ड्रिंक फ्रॉम टैप सुविधा वाला पहला शहर

ओडिशा राज्य का ‘पुरी’ शहर देश में ‘ड्रिंक फ्रॉम टैप’ सुविधा प्रदान करने वाला पहला शहर बन गया है। इसका अर्थ है कि शहर में अब सभी के लिये सुरक्षित पेयजल उपलब्ध है, नल के माध्यम से उपलब्ध इस जल का प्रयोग खाना पकाने और पीने के लिये किया जा सकता है। हाल ही में ओडिशा के मुख्यमंत्री ने  'सुजल' या ड्रिंक-फ्रॉम-टैप मिशन का उद्घाटन किया है, इसके साथ ही ‘पुरी’ देश का पहला ऐसा शहर बन गया है, जिसके पास 24 घंटे गुणवत्तापूर्ण जल उपलब्ध कराने की क्षमता है। ‘सुजल’ योजना के तहत कोई भी व्यक्ति प्रत्यक्ष तौर पर नल से पानी पी सकता है और इसके लिये किसी भी प्रकार के भंडारण या फिल्टर की आवश्यकता नहीं होगी। इस कदम से ‘पुरी’ शहर के लगभग 2.5 लाख निवासियों को लाभ होगा। साथ ही इससे प्रतिवर्ष ‘पुरी’ आने वाले दो करोड़ पर्यटकों को भी फायदा होगा और उन्हें अपने साथ प्लास्टिक की बोतल नहीं लानी होगी तथा शहर के पर्यावरण पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो

हाल ही में वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी नासिर कमल को ‘नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो’ (BCAS) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। नासिर कमल 1986 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (IPS) में उत्तर प्रदेश कैडर के अधिकारी हैं। ‘नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो’ भारत में नागरिक उड्डयन सुरक्षा के लिये नियामक प्राधिकरण है, जिसे जनवरी 1978 में पांडे समिति की सिफारिश पर ‘नागर विमानन महानिदेशालय’ (DGCA) में एक सेल के रूप में स्थापित किया गया था। 1 अप्रैल, 1987 को ‘नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो’ का पुनर्गठन किया गया और इसे नागरिक उड्डयन मंत्रालय के तहत एक स्वतंत्र विभाग के रूप में स्थापित किया गया। ‘नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो’ का प्राथमिक कार्य भारत में अंतर्राष्ट्रीय एवं घरेलू हवाई अड्डों पर नागरिक उड़ानों की सुरक्षा के संबंध में मानकों तथा उपायों का निर्धारण करना है। यह आकस्मिक योजनाओं की प्रभावशीलता और विभिन्न एजेंसियों की परिचालन क्षमताओं का परीक्षण करने के लिये अभ्यास का भी आयोजन करता है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसके अलावा इसके चार अन्य क्षेत्रीय कार्यालय चार शहरों- दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में स्थित हैं।


एसएमएस अलर्ट
Share Page