हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

भारतीय विरासत और संस्कृति

'पत्रिका गेट' जयपुर

  • 09 Sep 2020
  • 3 min read

प्रिलिम्स के लिये:

पत्रिका गेट, मिशन अनुपम, विश्व धरोहर स्थल

मेन्स के लिये:

जयपुर, नगरीय योजना

चर्चा में क्यों?

हाल ही में प्रधानमंत्री द्वारा जयपुर (राजस्थान) में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'पत्रिका गेट' (Patrika Gate) का उद्घाटन किया गया।

प्रमुख बिंदु:

  • गेट का निर्माण 'राजस्थान पत्रिका प्रकाशन समूह' (मीडिया समूह) द्वारा जवाहर लाल नेहरू मार्ग (जयपुर का प्रमुख सड़क) पर किया गया है।
  • यह 'जयपुर विकास प्राधिकरण' (Jaipur Development Authority- JDA) के 'मिशन अनुपम' (Mission Anupam) के तहत एक स्मारक के रूप में बनाया गया एक प्रतिष्ठित द्वार है। 

Pink-fort

जयपुर, विश्व विरासत स्थल:

  • यूनेस्को द्वारा 'विश्व धरोहर स्थल' (World Heritage Site) के रूप में जयपुर को मान्यता दी गई है। 'पत्रिका गेट' का निर्माण इसी को ध्यान में रखते हुए किया गया था।
  • वर्ष 2019 में जयपुर ऐसी मान्यता प्राप्त करने वाला अहमदाबाद के बाद देश का दूसरा नगर बन गया है।
  • भारत में 38 विश्व धरोहर स्थल हैं, जिनमें 30 सांस्कृतिक स्थल, 7 प्राकृतिक स्थल  और 1 मिश्रित स्थल शामिल हैं।

जयपुर, नगरीय योजना के रूप में:

  • जयपुर नगर (चारदीवारी वाला नगर) की स्थापना वर्ष 1727 में सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा की गई थी।
  • जयपुर नगर को वैदिक वास्तुकला के प्रकाश में व्याख्यायित ग्रिड योजना के अनुसार बसाया गया था।
  • नगर की सड़कों के दोनों तरफ उपनिवेश काल से व्यवसाय की सुविधा है। ये सड़कें बड़े चौराहों जिन्हें चौपड़ कहा जाता है, पर एक-दूसरे से मिलती हैं।
  • नगर की योजना में प्राचीन हिंदू , मुगल और पश्चिमी संस्कृतियों के तत्त्वों का प्रयोग किया गया है।
  • ग्रिड योजना सामान्यत: पश्चिम देशों द्वारा नगरों की स्थापना में अपनाई जाने वाली विधा है, जबकि विभिन्न शहर क्षेत्रों (चौकी) का संगठन पारंपरिक हिंदू अवधारणाओं को संदर्भित करता है।
  • नगर को एक वाणिज्यिक राजधानी के रूप में डिज़ाइन किया गया था जो अपनी स्थानीय वाणिज्यिक और सहकारी परंपराओं को अभी तक बनाए हुए है।

 Gates

स्रोत: द हिंदू

एसएमएस अलर्ट
Share Page