हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )UPPCS मेन्स क्रैश कोर्स.
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

डेली अपडेट्स

भारतीय विरासत और संस्कृति

एएसआई की ताजमहल के संरक्षण की योजना

  • 16 May 2019
  • 8 min read

चर्चा में क्यों?

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India-ASI) ने ताजमहल के संरक्षण के लिये ‘साइट प्रबंधन योजना’ के हिस्से के रूप में किये जाने वाले उपायों की सूची प्रस्तुत की है। सुप्रीम कोर्ट इन उपायों पर विचार करेगा।

पृष्ठभूमि

  • एएसआई की यह योजना अपर्याप्त रख-रखाव के कारण स्मारक को नुकसान पहुँचाने से संबंधित दायर याचिका के बाद आई है।
  • उल्लेखनीय है कि शीर्ष अदालत, जो कि ताजमहल के रख-रखाव की निगरानी कर रही है, ने एएसआई को ताजमहल की संरचना की सुरक्षा के लिये उचित कदम उठाने में कथित विफलता के लिये फटकार लगाई थी।
  • यह भी देखा गया कि स्मारक में प्रयुक्त सफेद संगमरमर वायु प्रदूषण के कारण पीला पड़ गया था।

शू कवर (Shoe Cover)

  • ताजमहल को देखने जाने वाले पर्यटकों को इस प्रतिष्ठित सातवीं शताब्दी के स्मारक को धूल से बचाने हेतु मुख्य समाधि में प्रवेश के समय ‘जूता कवर’ का उपयोग करना पड़ सकता है। यह प्रदूषण और उपेक्षा के कारण संरचनात्मक क्षरण का सामना कर रहा है।
  • एएसआई द्वारा मुख्य मकबरे में धूल और गंदगी को रोकने और साफ़-सफाई बनाए रखने हेतु समाधि स्थल में प्रवेश करते समय जूता कवर का उपयोग अनिवार्य करने की सिफारिश की गई है।

सीएनजी (CNG)

  • योजना के अंतर्गत आगरा में सीएनजी ईंधन के लिये एक व्यापक बदलाव, वाहन प्रदूषण मानदंडों के सख्त प्रवर्तन और अन्य उपायों के साथ मेट्रो के निर्माण से उत्पन्न धूल तथा प्रदूषण को रोकने के लिये कदम उठाए जाने की सिफारिश की गई है।
  • योजना के अंतर्गत जैव ईंधन/नगरपालिका के कचरे को जलाने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की गई है। बैटरी और सीएनजी संचालित वाहनों को प्रोत्साहित करने पर ज़ोर दिया गया है।

अन्य महत्त्वपूर्ण सुझाव

  • शहर में सार्वजनिक परिवहन के तहत चलने वाले सभी वाहनों को सीएनजी-आधारित या बैटरी चालित होना चाहिये।
  • एएसआई ने शहर के खुले क्षेत्रों में वृक्षारोपण को प्रोत्साहित करने और निर्माण से संबंधित गतिविधियों के लिये राष्ट्रीय भवन संहिता (National Building Code) के सख्त कार्यान्वयन उपायों का भी प्रस्ताव रखा है।
  • योजना के अंतर्गत मकबरे और आसपास की दीवारों का वैज्ञानिक उपचार और साफ-सफाई का सुझाव दिया गया है।
  • एएसआई द्वारा यह भी सुझाव दिया गया है कि परिसर के भीतर सभी भवनों और उद्यानों के नियमित रूप से रख-रखाव की आवश्यकता है ताकि उनका बेहतर संरक्षण सुनिश्चित हो सके।
  • इसमें कहा गया है कि वैकल्पिक कतार प्रणाली और डिफरेंशियल टिकटिंग प्रणाली (Differential Ticketing System) का उपयोग किया जाना चाहिये तथा भीड़ को देखते हुए विभिन्न स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया जाना चाहिये।
  • यह भी सिफारिश की गई है कि विद्युत शवदाह गृह के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये और ट्रेनों में उपयोग किये जाने वाले डीज़ल इंजनों को हटाया जाना चाहिये।
  • धूल को फैलने से रोकने के लिये स्मारक के 5 किलोमीटर के दायरे में सड़कों की यांत्रिक और पानी के माध्यम से सफाई की सिफारिश भी की गई है।
  • एएसआई ने यह भी सुझाव दिया है कि जल प्रदूषण से निपटने के लिये ज़रूरी कदम उठाए जाने की आवश्यकता है।

भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण

  • संस्कृति मंत्रालय के अधीन भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (ASI) राष्‍ट्र की सांस्‍कृतिक विरासतों के पुरातत्त्वीय अनुसंधान तथा संरक्षण के लिये एक प्रमुख संगठन है।
  • इसकी स्थापना 1861 में अलेक्जेंडर कनिंघम द्वारा की गई थी। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।
  • भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण का प्रमुख कार्य राष्‍ट्रीय महत्त्व के प्राचीन स्‍मारकों तथा पुरातत्त्वीय स्‍थलों और अवशेषों का रख-रखाव करना है।
  • इसके अतिरिक्‍त, प्राचीन संस्‍मारक तथा पुरातत्त्वीय स्‍थल और अवशेष अधिनियम, 1958 के प्रावधानों के अनुसार यह देश में सभी पुरातत्त्वीय गतिविधियों को विनियमित करता है।
  • यह पुरावशेष तथा बहुमूल्‍य कलाकृति अधिनियम, 1972 को भी विनियमित करता है।

सीएनजी क्या होती है?

  • प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली ज्वलनशील गैस को अत्यधिक दबाब के अंदर रखने से बनी गैस को तरल संपीड़ित प्राकृतिक गैस (CNG) कहते हैं।
  • प्राकृतिक गैस को दबाकर कम करने का प्रमुख उद्देश्य यह है कि यह आयतन कम घेरे और इंजन के दहन प्रकोष्ठ में उपयुक्त दाब के साथ प्रवेश करे।
  • प्राकृतिक गैस की तरह सीएनजी के अवयव हैं- मीथेन, ईथेन और प्रोपेन। यह रंगहीन, गंधहीन और विषहीन होती है।
  • यह पर्यावरण के लिहाज़ से बेहतर मानी जाती है। पेट्रोल और डीज़ल की तुलना में यह कार्बन डाइऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड और जैविक गैसें कम उत्सर्जित करती है। पैट्रोल और डीज़ल गाड़ियों की तुलना में सीएनजी का खर्च कम होता है।

ताजमहल के बारे में

  • आगरा का ताजमहल भारत की शान और प्रेम का प्रतीक चिह्न माना जाता है। यह विश्व धरोहर मकबरा है। इसका निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था।
  • वर्ष 1983 में ताजमहल को यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया।
  • यह उत्तर प्रदेश के आगरा ज़िले में स्थित है। मुगलों का सबसे पसंदीदा शहर होने के कारण ही उन्होंने ‍दिल्ली से पहले आगरा को अपनी राजधानी बनाया।
  • इतिहास के अनुसार सिकंदर लोदी ने इस शहर को वर्ष 1504 में बसाया था।

स्रोत : द इंडियन एक्सप्रेस

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close