हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 26 अक्तूबर, 2020

  • 26 Oct 2020
  • 7 min read

विश्व पोलियो दिवस

World Polio Day

प्रत्येक वर्ष 24 अक्तूबर को विश्व पोलियो दिवस मनाया जाता है।

  • इस दिवस को मनाने की शुरुआत एक दशक पहले रोटरी इंटरनेशनल द्वारा पोलियो या पोलियोमाइलाइटिस (Poliomyelitis) के खिलाफ टीका विकसित करने वाली टीम का नेतृत्त्व करने वाले जोनास साल्क के जन्म दिवस के अवसर पर की गई थी।
  • वैश्विक स्तर पर रोग की स्थिति की निगरानी वैश्विक पोलियो उन्मूलन पहल (Global Polio Eradication Initiative- GPEI) द्वारा की जा रही है।
    • GPEI की स्थापना वर्ष 1988 में की गई थी। यह एक सार्वजनिक-निजी साझेदारी है, जिसमें रोटरी इंटरनेशनल, WHO, यू.एस. रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (US Centers for Disease Control and Prevention- CDC), यूनिसेफ, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन तथा अन्य देशों की सरकारें शामिल हैं।

पोलियो क्या है?

  • पोलियोमाइलाइटिस/पोलियो एक अत्यधिक संक्रामक विषाणुजनित रोग है। पोलियो का विषाणु मुख्यत: मल मार्ग या किसी सामान्य वाहक (जैसे दूषित जल अथवा भोजन) के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक संचारित होता है। आँतों में पहुँचकर इस वायरस की संख्या दोगुनी हो जाती है तथा वहाँ से यह तंत्रिका तंत्र में पहुँचता है और पक्षाघात (Paralysis) का कारण बनता है।
  • यह मुख्य रूप से छोटे बच्चों (पाँच वर्ष से कम आयु) को प्रभावित करता है।

Poliovirus-destroys

  • पोलियोवायरस के तीन संस्करण हैं:
    1. वाइल्ड पोलियोवायरस टाइप-1 (WPV1)
    2. वाइल्ड पोलियोवायरस टाइप- 2 (WPV2)
    3. वाइल्ड पोलियोवायरस टाइप- 3 (WPV3)
  • उल्लेखनीय है कि WHO द्वारा वर्ष 2019 में WPV3 तथा वर्ष 2015 में WPV2 के उन्मूलन की घोषणा की जा चुकी है, जबकि WPV1 का उन्मूलन होना शेष है क्योंकि अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान के क्षेत्रों में यह अभी भी विद्यमान है।
  • ध्यातव्य है कि पोलियो उन्मूलन के लिये वाइल्ड तथा टीका-व्युत्पन्न दोनों प्रकार के पोलियो संक्रमण के मामलों की संख्या शून्य होनी चाहिये।

पोलियो के मामले में भारत की स्थिति

  • लगातार तीन वर्षों तक पोलियो का कोई मामला न मिलने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2014 में भारत को पोलियो मुक्त राष्ट्र घोषित किया।

किसान सूर्योदय योजना

Kisan Suryoday Yojana

हाल ही में प्रधानमंत्री द्वारा गुजरात में ‘किसान सूर्योदय योजना’ की शुरुआत की गई।

  • गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के नेतृत्व में गुजरात सरकार ने सिंचाई के लिये दिन में विद्युत की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिये ‘किसान सूर्योदय योजना’ की घोषणा की थी। 
  • इस योजना के तहत किसानों को सुबह पाँच बजे से रात नौ बजे तक बिजली की आपूर्ति की जाएगी।

Kisan-Suryoday-Yojana

  • राज्य सरकार ने वर्ष 2023 तक इस योजना के तहत विद्युत संचार अवसंरचना (Transmission Infrastructure) स्थापित करने के लिये 3500 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया है। 
  • परियोजना के तहत 220KV सब-स्टेशन के अलावा कुल 3490 सर्किट किलोमीटर की लंबाई के साथ '66-किलोवाट' की 234 ट्रांसमिशन लाइनें स्थापित की जाएंगी।
  • वर्ष 2020-21 के लिये योजना के तहत दाहोद, पाटन, महिसागर, पंचमहल, छोटा उदयपुर, खेड़ा, तापी, वलसाड, आनंद और गिर-सोमनाथ ज़िलों को शामिल किया गया है। शेष ज़िलों को वर्ष 2022-23 तक चरणबद्ध तरीके से शामिल किया जाएगा।

आसन संरक्षण रिज़र्व

Asan Conservation Reserve

  • हाल ही में देहरादून स्थित आसन संरक्षण रिज़र्व को रामसर कन्वेंशन (Ramsar Convention) के तहत अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की आर्द्रभूमि (Wetland of International Importance) का दर्जा दिया गया है।
  • आसन संरक्षण रिज़र्व, उत्तराखंड का पहला रामसर स्थल है।
  • इस रिज़र्व को रामसर द्वारा मान्यता मिलने के बाद भारत में रामसर स्थलों की संख्या 38 हो गई है जो कि दक्षिण एशिया में सबसे अधिक है।
  • आसन संरक्षण रिज़र्व ने रामसर स्थल घोषित किये जाने के लिये आवश्यक नौ मानदंडों में से पाँच मानदंडों (प्रजातियों एवं पारिस्थितिक समुदायों, जल-पक्षियों तथा  मछलियों से संबंधित) को पूरा किया जिसके बाद इसे अंतर्राष्ट्रीय आर्द्रभूमि के रूप में मान्यता दी गई।

आसन संरक्षण रिज़र्व के बारे  में

  • यह रिज़र्व हिमालयी राज्य उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में देहरादून ज़िले के पास यमुना नदी के तट पर स्थित है।
  • आसन संरक्षण रिज़र्व 4.44 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • आसन कई दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों जैसे- रूडी शेल्डक (स्थानीय भाषा में सुर्खाब) और रेड क्रेस्टेड पोचार्ड (स्थानीय भाषा  में लालसर) आदि का निवास स्थान है। 
  • कई लुप्तप्राय पक्षी भी यहाँ पाए जाते हैं, कुछ पक्षी प्रवास के दौरान यहाँ आते हैं जिसके चलते यह रिज़र्व पारिस्थितिक रूप से एक महत्त्वपूर्ण स्थल बन जाता है।
    • आसन संरक्षण रिज़र्व में प्रवासी पक्षियों की लगभग 40 प्रजातियाँ पाई जाती हैं जिनमें रूडी शेल्डक (सुर्खाब), कॉमन कूट, गडवाल, किंगफिशर, इंडियन कॉर्मोरेंट (जलकौआ), बेयर का पॉचर्ड, नॉर्दर्न पिंटेल (सूचिपुच्छ बत्‍तख), बार-हेडेड गूज (अवरोधक सिर वाले हंस) आदि शामिल हैं।
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close