हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )UPPCS मेन्स क्रैश कोर्स.
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

डेली अपडेट्स

जीव विज्ञान और पर्यावरण

वनाग्नि: एक वैश्विक चिंता के रूप में

  • 20 Jan 2020
  • 15 min read

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में ऑस्ट्रेलिया की हालिया वनाग्नि के आधार पर वनाग्नि से संबंधित विभिन्न महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।

संदर्भ

बीते वर्ष सितंबर माह में शुरू हुई ऑस्ट्रेलिया की भीषण वनाग्नि ने देश में काफी बड़े पैमाने पर विनाश किया है, इस वनाग्नि में मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स और क्वींसलैंड जैसे क्षेत्र प्रभावित हुए हैं। हालाँकि इन क्षेत्रों के लिये वनाग्नि कोई नई बात नहीं है, क्योंकि यहाँ प्रत्येक वर्ष इस अवधि में जंगलों में आग की घटनाएँ देखी जाती हैं, किंतु इस वर्ष वनाग्नि ने काफी विराट रूप धारण कर लगभग 10 लाख हेक्टेयर भूमि को तबाह कर दिया है। ऑस्ट्रेलिया के अतिरिक्त विश्व के कई अन्य हिस्सों में भी बीते कुछ समय में वनाग्नि की घटनाएँ देखने को मिली हैं, मसलन बीते वर्ष ही ब्राज़ील के अमेज़न जंगलों में काफी भीषण आग लगी थी। मई 2019 में उत्तराखंड (भारत) के अल्मोड़ा एवं नैनीताल ज़िलों में भी बड़े पैमाने पर वनाग्नि देखी गई थी। विश्व भर में लगातार बढती वनाग्नि की घटनाएँ वैश्विक समाज के समक्ष बड़ी चिंता के रूप में उभर रही हैं।

वर्तमान परिदृश्य:

  • ऑस्ट्रेलिया के वनों में आग पिछले वर्ष सितंबर से ही लगी है लेकिन दिसंबर महीने में रिकार्ड तापमान की वजह से इसका स्वरूप भीषणतम स्थिति में पहुँच गया है। डेनमार्क देश के बराबर का क्षेत्रफल ऑस्ट्रेलिया में वनाग्नि की चपेट में है।
  • ऑस्ट्रेलिया के वन और राष्ट्रीय उद्यान का बड़ा हिस्सा जलकर खाक हो चुका है। इस तबाही को देखते हुए यह कहा जा रहा है कि यह बीते 10 वर्षों में ऑस्ट्रेलिया में सबसे भीषण वनाग्नि है।
  • ऑस्ट्रेलिया के कुछ विशिष्ट जीव-जंतु भी इस वनाग्नि की चपेट आने से खत्म हो गए हैं, ऑस्ट्रेलिया का विशिष्ट जीव कोआला (जो मुख्यतः वृक्षों पर ही रहता है) की लगभग आधी जनसंख्या इस वनाग्नि की शिकार हो चुकी है। अधिक जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्रों में सक्रिय होने के कारण ऑस्ट्रेलिया की वनाग्नि अधिक चिंताजनक बन गई है।
  • ब्राज़ील स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्पेस रिसर्च (National Institute for Space Research-INPE) के आँकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2019 में ब्राज़ील के अमेज़न वनों (Amazon Forests) ने कुल 74,155 बार आग का सामना किया था। साथ ही यह भी सामने आया था कि अमेज़न वन में आग लगने की घटना वर्ष 2018 से 85 प्रतिशत तक बढ़ गई है।
  • ध्यातव्य है कि वर्ष 2019 में अमेज़न के वर्षा वनों में लगभग 9 लाख हेक्टेयर तथा वर्ष 2018 में कैलिफोर्निया के जंगलों में लगी आग लगभग 18 लाख हेक्टेयर क्षेत्र तक फैल गई थी।
  • दुनिया भर में वनाग्नि की घटनाएँ लगातार बढ़ती जा रही हैं और भारत भी इन घटनाओं से खुद को बचा नहीं पाया है। बीते वर्ष अल्मोड़ा एवं नैनीताल ज़िलों में बड़े पैमाने पर वनाग्नि की घटनाओं ने देश के नीति निर्माताओं को आपदा प्रबंधन, पर्यावरणीय सुरक्षा, बहुमूल्य वनस्पति एवं वन्यजीवों के संरक्षण जैसे महत्त्वपूर्ण प्रश्नों पर विचार करने को विवश कर दिया था।

वनाग्नि के कारण:

  • विश्व भर में देखे जानी वाली वनाग्नि की अधिकांश घटनाएँ मानव निर्मित होती हैं। वनाग्नि के मानव निर्मित कारकों में कृषि हेतु नए खेत तैयार करने के लिये वन क्षेत्र की सफाई, वन क्षेत्र के निकट जलती हुई सिगरेट या कोई अन्य ज्वलनशील वस्तु छोड़ देना आदि शामिल हैं।
    • ब्राज़ील के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के अनुसार, अमेज़न के वर्षा वनों में दर्ज की जाने वाली 99 प्रतिशत आग की घटनाएँ मानवीय हस्तक्षेप के कारण या आकस्मिक रूप से या किसी विशेष उद्देश्य से होती हैं।
  • वनाग्नि के कुछ प्राकृतिक कारण भी गिनाए जाते हैं जिनमें बिजली गिरना, पेड़ की सूखी पत्तियों के मध्य घर्षण, तापमान की अधिकता, पेड़-पौधों में शुष्कता आदि शामिल हैं।
  • वर्तमान में वनों में अतिशय मानवीय अतिक्रमण/हस्तक्षेप के कारण इस प्रकार की घटनाओं में बारंबरता देखी जा रही है। विभिन्न प्रकार के मानवीय क्रियाकलायों जैसे-पशुओं को चराना, झूम खेती, बिजली के तारों का वनों से होकर गुज़रना तथा वनों में लोगों का धूम्रपान करना आदि से भी ऐसी घटनाओं में वृद्धि हुई है।
    • झूम खेती के तहत पहले वृक्षों तथा वनस्पतियों को काटकर उन्हें जला दिया जाता है। इसके बाद साफ की गई भूमि पर पुराने उपकरणों (लकड़ी के हलों आदि) से जुताई करके बीज बो दिये जाते हैं। फसल पूर्णतः प्रकृति पर निर्भर होती है और उत्पादन बहुत कम हो पाता है।

ऑस्ट्रेलिया की वनाग्नि के कारण

  • ऑस्ट्रेलिया की भौगोलिक स्थिति उष्णकटिबंधीय है जिसके कारण यहाँ पर सूर्यातप की पर्याप्त मात्रा वर्ष भर मिलती रहती है। इसके अतिरिक्त इसका क्षेत्रफल विस्तृत है जिसके कारण यहाँ पर महाद्वीपीय प्रभाव देखा जाता है।
  • भौगोलिक स्तर पर यह वनाग्नि न्यू साउथ वेल्स राज्य को बुरी तरह प्रभावित कर रही है। क्योंकि इसकी एक तरफ ग्रेट डिवाइडिंग पर्वत श्रेणी है, तो दूसरी तरफ से विशाल मरुस्थल है। ग्रेट डिवाइडिंग पर्वत श्रेणी ऑस्ट्रेलिया में वर्षा विभाजक का कार्य करती है, इसके पूर्वी भाग में पश्चिमी भाग की अपेक्षा अधिक वर्षा होती है तथा पश्चिमी भाग वर्षा भू-वृष्टि क्षेत्र के अंतर्गत आता है। यही भाग इस समय वनाग्नि से प्रभावित है, वर्षा की सीमित मात्रा और मरुस्थलीय क्षेत्र से आने वाली तीव्र हवाओं के कारण वनाग्नि की स्थिति और गंभीर हो जाती है।
  • वनाग्नि से प्रभावित इस क्षेत्र में सवाना जलवायु पाई जाती है जहाँ की वनस्पति शुष्क और अधिक ज्वलनशील होती है। इसके कारण वनाग्नि तेज़ी से विस्तृत क्षेत्र में फैल जाती है।
  • ध्यातव्य है कि पिछले तीन वर्षों से ऑस्ट्रेलिया भीषण सूखे का सामना कर रहा है, मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने वर्ष 2019 को वर्ष 1900 के बाद सबसे गर्म वर्ष बताया है। इस दौरान तापमान औसत से 2°C अधिक था, जबकि वर्षा में सामान्य से 40 प्रतिशत की कमी देखी गई।
  • इस वर्ष ऑस्ट्रेलिया के असामान्य मौसम में हिंद महासागर द्विध्रुव (IOD) की भूमिका भी है। इस वर्ष पूर्वी हिंद महासागर क्षेत्र में सामान्य से अधिक ठंड देखी गई, जो ऑस्ट्रेलिया में हुई कम वर्षा के कारणों में से एक है।

ऑस्ट्रेलिया में वनाग्नि को रोकने के प्रयास:

  • एयरक्राफ्ट, हेलीकॉप्टर, फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट और बड़े एयर टैंकर इस वनाग्नि को बुझाने के लिये प्रयोग में लाए जा रहे हैं। इनमें से ज़्यादातर पानी की तेज़ बौछार करने में सक्षम हैं।
  • सेना के वायुयान और नेवी के क्रूज़र का प्रयोग भी वनाग्नि को बुझाने के लिये किया जा रहा है।
  • अमरीका, कनाडा और न्यूज़ीलैंड भी इस कार्य में ऑस्ट्रेलिया की सहायता कर रहे हैं। इन देशों की ओर से ऑस्ट्रेलिया को अतिरिक्त मदद और सुविधाएँ मुहैया कराई गई हैं।

वनाग्नि का प्रभाव

  • वनाग्नि से क्षेत्र विशेष की प्राकृतिक संपदा को काफी नुकसान पहुँचता है, भारतीय वन सर्वेक्षण ने वनाग्नि से हुई वार्षिक वन हानि 440 करोड़ रुपए आँकी है। जंगलों में लगी आग से कई जानवर बेघर हो जाते हैं और नए स्थान की तलाश में वे शहरों की ओर आते हैं।
  • वनों की मिट्टी में मौजूद पोषक तत्त्वों में भी भारी कमी आती है और उन्हें वापस प्राप्त करने में भी लंबा समय लगता है। वनाग्नि के परिणामस्वरूप मिट्टी की ऊपरी परत में रासायनिक और भौतिक परिवर्तन होते हैं, जिसके कारण भू-जल स्तर भी प्रभावित होता है।
  • इससे आदिवासियों और ग्रामीण गरीबों की आजीविका को भी नुकसान पहुँचता है। आँकड़ों के अनुसार, भारत में लगभग 300 मिलियन लोग अपनी आजीविका के लिये वन उत्पादों के संग्रह पर प्रत्यक्ष रूप से निर्भर हैं।
  • वनों में लगी आग को बुझाने के लिये काफी अधिक आर्थिक और मानवीय संसाधनों की ज़रूरत होती है, जिसके कारण सरकार को काफी अधिक नुकसान का सामना करना पड़ता है।
  • वनाग्नि से वनों पर आधारित उद्योगों एवं रोज़गार की हानि होती है और कई लोगों की आजीविका का साधन प्रतिकूल रूप से प्रभावित होता है। इसके अलावा वनों पर आधारित पर्यटन उद्योग को भी खासा नुकसान होता है।
  • पिछले कुछ वर्षों में कैलिफोर्निया, ऑस्ट्रेलिया और भूमध्य के क्षेत्र में वनाग्नि के कई मामले देखे गए हैं। ऐतिहासिक रूप से ये क्षेत्र गर्म एवं शुष्क वातावरण के लिये जाने जाते हैं परंतु जलवायु परिवर्तन के कारण ये क्षेत्र और अधिक गर्म तथा शुष्क हुए हैं। जलवायु परिवर्तन के परिणामस्वरूप इन क्षेत्रों में तापमान बढ़ने के साथ-साथ वर्षा में कमी आई है।

वनाग्नि और जलवायु परिवर्तन

  • वनाग्नि से न सिर्फ क्षेत्र विशेष की संपदा को नुकसान पहुँचता है, बल्कि यह जलवायु को भी प्रभावित करती है। वनाग्नि से कार्बन डाइऑक्साइड तथा अन्य ग्रीनहाउस गैसों का काफी अधिक मात्रा में उत्सर्जन होता है।
  • इसके अलावा वनाग्नि से वे पेड़-पौधे भी नष्ट हो जाते हैं, जो वातावरण से CO2 को समाप्त करने का कार्य करते हैं। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि वनाग्नि जलवायु परिवर्तन में भी एक महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करती है।

वनाग्नि संबंधी चुनौतियाँ

  • विश्व के विभिन्न देशों खासकर भारत में वनाग्नि से निपटने के लिये उपयुक्त नीतियों का अभाव है, वनाग्नि प्रबंधन से संबंधित स्पष्ट दिशा-निर्देश नहीं हैं। ज्ञात हो कि वर्ष 2017 में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (NGT) ने पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय से इस संदर्भ में राष्ट्रीय स्तर पर एक नीति के निर्माण के लिये कहा था, किंतु अब तक इस दिशा में कोई कार्य नहीं किया गया है।
  • वनाग्नि से निपटने के लिये फंड की कमी भी एक बड़ी चुनौती है।
  • आँकड़ों के मुताबिक, अधिकांश वनाग्नि की घटनाएँ मानव निर्मित होती हैं, जिनका पूर्वानुमान लगाना अपेक्षाकृत कठिन होता है।

आगे की राह

  • वनाग्नि को जलवायु परिवर्तन का एक महत्त्वपूर्ण आयाम मानते हुए इससे निपटने के लिये हमें वैश्विक स्तर पर नीति निर्माण की आवश्यकता है, जो वनाग्नि और उससे संबंधित विभिन्न महत्त्वपूर्ण पहलुओं को संबोधित करती हो।
  • वनाग्नि प्रबंधन के संबंध में कई देशों द्वारा कुछ विशेष मॉडल प्रयोग किये जा रहे हैं, आवश्यक है कि अन्य देश भी इन्हें अपने अनुसार परिवर्तित कर प्रयोग में लाएँ।
  • वनाग्नि का पता लगाने के लिये रेडियो-ध्वनिक साउंड सिस्टम (Radio-Acoustic Sound System) और डॉप्लर रडार (Doppler Radar) जैसी आधुनिक तकनीकों को अपनाया जाना चाहिये।

प्रश्न: वनाग्नि के कारणों पर चर्चा करते हुए जलवायु परिवर्तन में इसकी भूमिका की जाँच कीजिये।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close