हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

शासन व्यवस्था

WEST: न्यू I-STEM पहल

  • 07 Sep 2022
  • 7 min read

प्रिलिम्स के लिये:

भारतीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग सुविधाएँ, मानचित्र (I-STEM), इंजीनियरिंग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में महिलाएँ (WEST), प्रधानमंत्री विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार सलाहकार परिषद (PM-STIAC) मिशन।

मेन्स के लिये:

विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (STEM) में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिये सरकार की पहल।

चर्चा में क्यों?

हाल ही में "इंजीनियरिंग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में महिलाएँ (WEST)" नाम की एक नई “भारतीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग सुविधाओं का खाका (I-STEM)” पहल का शुभारंभ किया गया।

WEST पहल:

  • WEST पहल विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (STEM) पृष्ठभूमि वाली महिलाओं को पूरा करेगा और उन्हें विज्ञान, प्रौद्योगिकी तथा नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान करने हेतु सशक्त बनाएगा।
  • WEST पहल के माध्यम से I-STEM, वैज्ञानिक रूप से इच्छुक महिला शोधकर्त्ताओं, वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों को विज्ञान और इंजीनियरिंग के अग्रणी क्षेत्रों में बेसिक या अप्लाइड साइंसेज में अनुसंधान करने के लिये एक अलग मंच प्रदान करेगा।
  • महिलाएंँ इस WEST कार्यक्रम में शामिल हो सकती हैं और विभिन्न क्षेत्रों में हितधारक बनने के अवसरों का पता लगा सकती हैं। वे विभिन्न स्तरों पर अनुसंधान एवं विकास में कॅरियर बना सकती हैं, जैसे कि तकनीशियन, प्रौद्योगिकीविद, वैज्ञानिक और उद्यमी।
    • ये अवसर वैज्ञानिक उपकरणों के संचालन और उनकी देखरेख से लेकर, उनके डिज़ाइन और निर्माण तक प्रदान करते हैं।
  • कौशल विकास कार्यक्रम WEST के तहत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पृष्ठभूमि वाली महिलाओं को उनकी क्षमताओं पर काम करने और प्रयोगशाला तकनीशियनों और मेंटेनंस इंजीनियरों के रूप में "फील्ड में" संलग्न होने के लिये प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
  • I-STEM पोर्टल के जरिये उपलब्ध अनुसंधान और विकास सुविधाओं और सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्मों (कॉमसॉल, मैटलैब, लैबव्यू, ऑटोकैड) तक पहुँच, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में महिला उद्यमियों के लिये एक मज़बूत समर्थन नेटवर्क तैयार करेगी।
  • इसके अलावा, ऑनलाइन चर्चा और तत्काल मदद के लिये I-STEM के व्हाट्सएप और टेलीग्राम प्लेटफॉर्म के जरिये एक डिजिटल समूह "कनेक्ट क्विकली" भी स्थापित किया गया है।
  • महिलाओं की एक समर्पित टीम WEST पहल के सफल कार्यान्वयन को सुनिश्चित करेगी।

I-STEM:

  • I-STEM के विषय में:
    • I-STEM अनुसंधान एवं विकास (Research and Development- R&D) सुविधाओं को साझा करने के लिये एक राष्ट्रीय वेब पोर्टल है।
    • यह पोर्टल शोधकर्त्ताओं को उपकरणों के उपयोग के लिये स्लॉट तक पहुँचने के साथ-साथ परिणामों के विवरण जैसे- पेटेंट, प्रकाशन और प्रौद्योगिकियों को साझा करने की सुविधा प्रदान करता है।
  • लॉन्च:
    • इस पोर्टल को जनवरी 2020 में लॉन्च किया गया। यह प्रधानमंत्री विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार सलाहकार परिषद (Prime Minister’s Science, Technology & Innovation Advisory Council- PM-STIAC) के तत्त्वावधान में भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार कार्यालय की एक पहल है।
      • PM-STIAC: यह एक व्यापक परिषद है जो प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार कार्यालय को विशिष्ट विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में स्थिति का आकलन करने, भविष्य का रोडमैप विकसित करने, चुनौतियों को समझने आदि विषय पर प्रधानमंत्री को सलाह देने की सुविधा प्रदान करती है।

ISTEM

WEST का महत्त्व और आगे की राह:

  • महत्त्व:
    • यह पहल कॅरियर में लंबे अंतराल के बाद के बाद महिलाओं को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी डोमेन में पुनः वापसी में भी सहायता करेगी।
    • देश के अनुसंधान एवं विकास के बुनियादी ढाँचे के अंतराल में महत्त्वपूर्ण रूप से कमी आएगी।
    • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिला उद्यमियों के लिये एक सशक्त समर्थन नेटवर्क का निर्माण किया जा सकेगा।
    • I-STEM महिला शोधकर्त्ताओं को उपलब्धियों, मुद्दों पर विचार-विमर्श करने और विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार में प्रगति के माध्यम से देश को आगे ले जाने के लिये विचारों का आदान-प्रदान करने हेतु एक मंच प्रदान करेगा।
    • महिलाएँ I-STEM प्लेटफॉर्म के माध्यम से परिष्कृत उपकरणों/यंत्रों के संचालन और रख-रखाव के लिये सलाहकार के रूप में सेवा कर सकती हैं।
    • यह एक "कौशल अंतराल" कम करने और सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित उपायों के सदुपयोग के क्रम में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

आगे की राह:

  • I-STEM को फीडबैक प्राप्त करके पहल के प्रभाव की निगरानी करनी चाहिये।
  • WEST और I-STEM में महिलाओं की व्यापक भागीदारी बढ़ाने के लिये कदम उठाए जाने चाहिये।

स्रोत: पी.आई.बी.

एसएमएस अलर्ट
Share Page