हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

डेली अपडेट्स

अंतर्राष्ट्रीय संबंध

ओरल इन्सुलिन पर शोध

  • 08 Sep 2017
  • 4 min read

चर्चा में क्यों?

बायोकॉन (Biocon) और जे.डी.आर.एफ. (Juvenile Diabetes Research Foundation-JDRF) ने टाइप-1 डायबिटीज़ से प्रभावित लोगों में मौखिक इंसुलिन दवा के उम्मीदवार इंसुलिन ट्रेगोपिल (Insulin Tregopil) के वैश्विक अध्ययन के लिये एक साझेदारी की घोषणा की है। 

ओरल इन्सुलिन क्या है ? 

  • इंसुलिन ट्रेगोपिल, बायोकॉन द्वारा विकसित एक मौखिक इंसुलिन अणु है। 
  • यह वैश्विक स्तर पर मौखिक इंसुलिन तैयार करने से संबंधित कार्यक्रमों में से एक है। 
  • यह इंसुलिन दुष्प्रभाव को कम कर और अधिक अनुपालन के साथ पश्च-ग्रस्त ग्लूकोज नियंत्रण में सुधार कर सकता है।  इस प्रकार यह टाइप-1 डायबिटीज़  के प्रबंधन में सहायता प्रदान कर सकता है।

प्रमुख बिंदु

  • एक अनुमान के अनुसार वर्ष 2014 में विश्व स्तर पर 422 मिलियन वयस्क मधुमेह से पीड़ित थे। 
  • टाइप-1 और टाइप-2 मधुमेह के लिये अलग-अलग वैश्विक अनुमान मौजूद नहीं हैं, परंतु यह अनुमान है कि 1.25 मिलियन अमेरिकी टाइप-1 डायबिटीज़ के साथ जीवित हैं। 
  • अमेरिका में 2050 तक पाँच लाख लोगों में टाइप-1 डायबिटीज़ होने की उम्मीद है। 

बायोकॉन

  • बायोकॉन भारतीय दवा निर्माता कंपनी है। किरण मजूमदार-शॉ बायोकॉन की सीएमडी हैं। 
  • बायोकॉन ने अमेरिका में किये गए चरण-1 के अध्ययन के बाद इंसुलिन टेग्रोपिल के लिये  2016 में सकारात्मक नैदानिक ​​डेटा की घोषणा की थी, जिसने भोजन के बाद ग्लिसेमिक नियंत्रण में दवा की महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की थी।
  • इनमें से एक अध्ययन ने इंसुलिन टेग्रोपिल की तेज़ी से क्रिया का प्रदर्शन किया है, जिसमें अन्य भेदभावपूर्ण इंसुलिन की तुलना में विशिष्ट गुण हैं।
  • अतः प्राप्त सकारात्मक डेटा सेटों के आधार पर बायोकॉन ने इसके और नैदानिक ​​परीक्षणों के माध्यम से इस शोध को आगे ले जाने का निर्णय लिया है तथा टाइप 2 डायबिटीज़ में इंसुलिन टेग्रोपिल के साथ चरण II और III के अध्ययन के लिये भारतीय नियामक के समक्ष एक क्लीनिकल ट्रायल आवेदन भी दायर किया है। 
  • जे.डी.आर.एफ. एक प्रमुख चैरिटेबल संस्था है जो दुनिया भर में टाइप-1 डायबिटीज़ के अनुसंधान में फंडिंग करता है। इसका मुख्यालय न्यूयॉर्क, अमेरिका में है। इसकी स्थापना 1970 में हुई थी।  

डायबिटीज़

  • डायबिटीज़  दो प्रकार होती है, टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज़।  
  • टाइप-1 डायबिटीज़ में इंसुलिन बनना कम हो जाता है या फिर इंसुलिन बनना बंद हो जाता है और यह काफी हद तक नियंत्रण हो सकता है। 
  • इसमें शरीर में शर्करा की मात्रा उच्च हो जाती है।  
  • इसमें अग्नाशय की बीटा कोशिकाएँ पूरी तरह से नष्ट हों जाती हैं। 
  • टाइप-2 डायबिटीज़ से ग्रस्त लोगों में रक्त शुगर का स्तर बहुत बढ़ जाता है जिसे नियंत्रित करना बहुत कठिन होता है।
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close