हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली न्यूज़

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

प्रौद्योगिकी के लिये राष्ट्रीय शैक्षिक गठबंधन

  • 25 Sep 2019
  • 3 min read

चर्चा में क्यों

हाल ही में मानव संसाधन विकास मंत्रालय (Ministry of Human Resource Development- MHRD) ने एक नई पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (PPP) योजना, प्रौद्योगिकी के लिये राष्ट्रीय शैक्षिक गठबंधन (NEAT) की घोषणा की है।

प्रमुख बिंदु:

  • इस योजना का उद्देश्य कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) की सहायता से, सीखने वाले की व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अनुरूप एक अनुकूलित प्रणाली को विकसित करना है।
  • इस योजना के तहत उच्च शिक्षा में बेहतर शिक्षण परिणामों के लिये प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • MHRD द्वारा एक राष्ट्रीय NEAT प्लेटफ़ॉर्म का विकास किया जाएगा, जो इन तकनीकी समाधानों के लिये वन-स्टॉप एक्सेस प्रदान करेगा।
  • MHRD द्वारा पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (Public-Private Partnership-PPP) मॉडल के तहत प्रौद्योगिकी को विकसित करने वाली एडटेक कंपनियों (Educational Technology Companies) के साथ एक राष्ट्रीय सहयोग स्थापित जाएगा।
  • एडटेक कंपनियाँ समाधान विकसित करने के साथ-साथ NEAT पोर्टल के माध्यम से शिक्षार्थियों के पंजीकरण के प्रबंधन के लिये ज़िम्मेदार होंगी तथा वे अपनी सुविधानुसार शुल्क निर्धारित करने के लिये स्वतंत्र होंगी।
  • MHRD द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सुविधा का लाभ आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों की एक बड़ी संख्या के लिये स्वतंत्र रूप से उपलब्ध हो।
  • एडटेक कंपनियों को NEAT पोर्टल के माध्यम से उनके समाधान के लिये हुए कुल पंजीकरण के 25% की सीमा तक मुफ्त कूपन देनी होगी।
  • MHRD द्वारा इन मुफ्त कूपनों को सामाजिक/आर्थिक रूप से सबसे पिछड़े छात्रों में वितरित किया जाएगा।
  • इस योजना का संचालन MHRD द्वारा गठित एक सर्वोच्च समिति के मार्गदर्शन में किया जाएगा।
  • अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (All India Council for Technical Education-AICTE) NEAT कार्यक्रम के लिये कार्यान्वयन एजेंसी होगी।
  • एडटेक समाधानों के मूल्यांकन और चयन के लिये स्वतंत्र विशेषज्ञ समितियों का गठन किया जाएगा। चुनी गई/शॉर्टलिस्टेड एडटेक कंपनियों के साथ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किये जाएंगे।
  • शिक्षकों और छात्रों को NEAT समाधानों के बारे में जागरूक करने के लिये MHRD द्वारा जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किये जाएंगे।

स्रोत: द हिंदू एवं पी.आई.बी

एसएमएस अलर्ट
Share Page