Study Material | Test Series
Drishti


  Download : RAS (प्रारंभिक) परीक्षा, 2018 के संदर्भ में समसामयिक घटना क्रम (राजस्थान के विशेष संदर्भ सहित)

[1]

हड़प्पाकालीन लिपि के विषय में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है?

A)

सिंधु लिपि के लगभग 400 चिह्न ज्ञात हैं।

B)

इसकी लिखावट सामान्यतया बायीं से दायीं ओर है तथा लेखन प्रणाली साधारणतः अक्षर सूचक है।

C)

सामान्यतः इसे संस्कृत का आद्य रूप माना जाता है या आद्य-द्रविड़ लिपि कहा जाता है।

D)

इस लिपि को अभी तक न पढ़ा जा सकने का एक कारण यह भी है कि कहीं कोई द्विभाषिक शिलालेख नहीं मिला है।

Show Answer +
[2]

पूर्व-वैदिक आर्यों का प्रमुख धर्म था?

A)

प्रकृति पूजा और भक्ति

B)

प्रकृति पूजा और यज्ञ

C)

मूर्तिपूजा और यज्ञ

D)

भक्ति

Show Answer +
[3]

वैदिक धर्म के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. 
‘धर्म’ व्यक्ति के दायित्वों एवं स्वयं तथा दूसरों के प्रति व्यक्तिगत कर्त्तव्यों की संकल्पना थी।
2. ‘ऋत्’ मूलभूत नैतिक विधान थे जो सृष्टि और उसमें अंतर्निहित सारे तत्त्वों के क्रियाकलापों के संचालक थे।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1, न ही 2

Show Answer +
[4]

सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित कीजिये और सूचियों के नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिये।

सूची-I
(प्राचीन नाम)
सूची-II
(नदी)
A. अस्किनी  1. चेनाब
B. दृशद्वती 2. घग्गर
C. कुभा 3. काबुल
D. नदीतमा 4. सरस्वती

कूटः

    A      B      C     D

A)

1 2 3 4

B)

2 1 3 4

C)

4 3 2 1

D)

2 3 4 1

Show Answer +
[5]

ऋग्वैदिक राजनीतिक संगठन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. ऋग्वैदिक काल में राजनीतिक संगठन के कबाइली स्वरूप की पुष्टि सभा एवं विदथ जैसी संस्थाओं के स्वरूप एवं कार्य प्रणाली के विवेचन के आधार पर की जा सकती है।
2. समिति का उल्लेख केवल परवर्ती मंडलों में ही हुआ है जबकि सभा का वर्णन मूल भाग में भी मिलता है।
3. सभा, समिति और विदथ के संबंध में जो विवरण प्राप्त है, उनसे लगता है कि विभिन्न संस्थानों में सम्पूर्ण कबीले के सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक मामलों पर चर्चा होती थी।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

केवल 1 और 2

B)

केवल 2

C)

केवल 3

D)

1, 2 और 3

Show Answer +
[6]

निम्नलिखित में से कौन-सा कथन ऋग्वैदिक धार्मिक जीवन की सही व्याख्या नहीं करता है?

A)

ऋग्वैदिक धार्मिक जीवन तथा उस समय के लोगों की सैद्धान्तिक मान्यताएँ, तत्कालीन भौतिक जीवन से अत्यधिक प्रभावित थी।

B)

ऋग्वैदिक देवकुल में देवियों को भी देवताओं के समान उच्च स्थान प्राप्त था।

C)

ऋग्वैदिक लोगों के सभी देवता प्राकृतिक शक्तियों के प्रतीक के रूप में होते थे।

D)

कभी-कभी किसी विशेष प्राकृतिक शक्ति के गुणों को भी स्वतंत्र देवत्व प्रदान कर दिया जाता था।

Show Answer +
[7]

उपनिषदों के दर्शन के संदर्भ में निम्नलिखित में कौन-सा कथन असत्य है?

A)

मुण्डकोपनिषद् में यज्ञ की तुलना टूटी नौका से की गई है।

B)

उपनिषदों में कर्मकाण्ड पर बल दिया गया है।

C)

उपनिषदों में आत्मा, परमात्मा की विस्तृत विवेचना की गई है तथा आत्मा को अविनाशी और अमर बताया गया है।

D)

उपनिषदों में मोक्ष की परिकल्पना की गई है तथा ज्ञान पर बल दिया गया है।

Show Answer +
[8]

निम्नलिखित में कौन-सा संस्कार ‘गृहस्थ आश्रम में प्रवेश’ से संबंधित है?

A)

समावर्तन संस्कार

B)

चूड़ाकर्म संस्कार

C)

जातकर्म संस्कार

D)

निष्क्रमण संस्कार

Show Answer +
[9]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. इतिहासकारों के अनुसार आर्यों की पहचान जाति की अपेक्षा भाषायी वर्ग से अधिक संभव है।
2. भारत के संदर्भ में ऋग्वैदिक लोग एक से अधिक जातीय वर्गों के थे।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1, न ही 2

Show Answer +
[10]

दशराज्ञ युद्ध के विषय में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. ऋग्वेद का अध्ययन करने से एक बात स्पष्ट रूप से सामने आती है कि जनजीवन के वातावरण में युद्धों, आक्रमणों एवं जनसंहार का बोल बाला था। दशराज्ञ युद्ध इसका प्रमाण है।
2. दशराज्ञ युद्ध में दस राजाओं ने भाग लिया था।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1 न ही 2

Show Answer +

Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.