Study Material | Test Series
Drishti


 16 अगस्त तक अवकाश की सूचना View Details

DRISHTI INDEPENDENCE DAY OFFER FOR DLP PROGRAMME

Offer Details

Get 1 Year FREE Magazine (Current Affairs Today) Subscription
(*On a Minimum order value of Rs. 15,000 and above)

Get 6 Months FREE Magazine (Current Affairs Today) Subscription
(*On an order value between Rs. 10, 000 and Rs. 14,999)

Get 3 Months FREE Magazine (Current Affairs Today) Subscription
(*On an order value between Rs.5,000 and Rs. 9,999)

Offer period 11th - 18th August, 2018

[1]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. दक्षिण दिशा में ताम्रपर्णी में अशोक की धम्म नीति का सर्वाधिक प्रसार हुआ।
2. ताम्रपर्णी के शासक तिस्स ने अशोक से प्रभावित होकर देवानांप्रिय की उपाधि धारण की।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1 और न ही 2

Show Answer +
[2]

मौर्य काल में मंडल के नीचे प्रशासनिक विभाजन का सही क्रम था?

A)

स्थानिक > द्रोणमुख > खार्वटिक > संग्रहण

B)

द्रोणमुख > स्थानिक > खार्वटिक > संग्रहण

C)

द्रोणमुख > खार्वटिक > संग्रहण > स्थानिक

D)

स्थानिक > खार्वटिक > द्रोणमुख > संग्रहण

Show Answer +
[3]

मौर्य काल में ‘रूपदर्शक’ का संबंध निम्नलिखित में से किस कार्य से था?

A)

आंतरिक सुरक्षा

B)

मुद्रा को परखना

C)

शस्त्र निर्माण

D)

राजमहलों की देख-रेख

Show Answer +
[4]

मौर्य काल के पतन के कारणों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. 
अशोक की धार्मिक नीति ब्राह्मणों के विरुद्ध थी,अतः प्रतिक्रिया स्वरूप पुष्यमित्र शुंग ने विद्रोह कर मौर्य साम्राज्य का अंत कर दिया।
2. अशोक के बाद योग्य उत्तराधिकारियों का नितांत अभाव रहा।
3. अशोक की शांतिप्रियता तथा अहिंसा की नीति साम्राज्य को पतन की ओर ले गई।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कारण मौर्य साम्राज्य के पतन के लिये सर्वाधिक ज़िम्मेदार रहा/रहें-

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

केवल 1 और 2 

D)

1, 2 और 3

Show Answer +
[5]

शुंग वंश के शासकों का सही क्रम है-

A)

पुष्यमित्र शुंग → अग्निमित्र → वसुमित्र → देवभूति 

B)

पुष्यमित्र शुंग → वसुमित्र → अग्निमित्र → देवभूति

C)

पुष्पमित्र शुंग → अग्निमित्र → देवभूति → वसुमित्र

D)

पुष्यमित्र शुंग → वसुमित्र → देवभूति → अग्निमित्र

Show Answer +
[6]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. मौर्य काल तक भारतीय सिक्कों पर केवल देवताओं के चिह्न का अंकन होता था। 
2. मौर्योत्तर काल में यूनानी प्रभाव के कारण सिक्कों पर राजाओं के नाम व तिथियाँ उत्कीर्ण की जाने लगी। 
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1 और न ही 2

Show Answer +
[7]

यवन शासक मिनान्डर के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. मिनान्डर के राज्य में अफगानिस्तान का कुछ भाग और उत्तर-पश्चिमी सीमांत प्रदेश सम्मिलित थे।
2. कौशाम्बी के पास रेह से प्राप्त एक अभिलेख में मिनान्डर के आक्रमणों का वर्णन मिलता है।
3. मिनान्डर ने अपनी राजधानी तक्षशिला को बनाया।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से कथन सही नहीं है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 1 और 2

C)

केवल 3

D)

1, 2 और 3

Show Answer +
[8]

निम्नलिखित में से कौन-सा नगर कनिष्क की राजधानी था?

A)

तक्षशिक्षा

B)

पुरुषपुर

C)

उज्जैन

D)

कश्मीर

Show Answer +
[9]

 कनिष्क के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. कनिष्क ने कश्मीर को अपने राज्य में मिलाकर कनिष्कपुर नाम का एक नगर बसाया।
2. कनिष्क ने चीन के शासक से युद्ध किया जिसमें एक बार पराजित होने के बाद दूसरी बार विजयी हुआ।
उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

केवल 1

B)

केवल 2

C)

1 और 2 दोनों

D)

न तो 1 और न ही 2

Show Answer +
[10]

कनिष्क के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है? 

A)

कनिष्क का नाम हीनयान बौद्ध धर्म के प्रचार-प्रसार के साथ गंधार कला शैली के विकास से सम्बद्ध है।

B)

उसने चौथी बौद्ध महासंगीति का आयोजन कश्मीर में किया।

C)

कनिष्क के काल में सिक्कों पर यूनानी ढंग से खड़े और कुछ भारतीय ढंग से बैठे बुद्ध की आकृतियाँ हैं।

D)

उसकी राजसभा में पार्श्व, वसुमित्र तथा अश्वघोष जैसे दार्शनिक थे।

Show Answer +

Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.