Study Material | Mains Test Series
ध्यान दें:

डेली न्यूज़

  • 12 Jan, 2019
  • 23 min read
भारतीय विरासत और संस्कृति

टूटे सपनों की गवाही : फूटी मस्ज़िद

संदर्भ


मुर्शिदाबाद (Murshidabad) जो अब पश्चिम बंगाल का एक छोटा सुस्त शहर है 18वीं – 19वीं शताब्दी में एक सक्रिय एवं धनाढ्य शहर था। यह शहर अतीत की बहुत-सी महत्त्वपूर्ण घटनाओं, सियासी साजिशों और बहुत-से प्रसिद्ध सम्राटों के किस्सों का गवाह है।

ऐतिहासिक विवरण

  • बादशाह सरफराज खान, जिनके नाना मुर्शीद कुली खान थे, के द्वारा ही नासिरी वंश (Nasiri dynasty) एवं इस शहर (मुर्शिदाबाद Murshidabad) की स्थापना की
  • नवाब मुर्शिद कुली खान ने 1727 में अपनी मृत्यु से पहले सरफराज खान को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया क्योंकि सिंहासन का कोई प्रत्यक्ष उत्तराधिकारी नहीं था।
  • हालाँकि शुजा खान (सरफराज के पिता) मुर्शिदाबाद का मसनद (Musnad) या सिंहासन प्राप्त करना चाहता था, लेकिन नवाब इससे असंतुष्ट रहते थे इसीलिये उन्होंने सरफराज को अपना उत्तराधिकारी बनाया।
  • सरफराज 1739 में अलाउद्दीन हैदर जंग के नाम से सिंहासन पर बैठा। परंतु उसका शासन अल्पकालिक (लगभग एक साल) रहा क्योंकि उसके वज़ीर हाज़ी अहमद ने एक अमीर महाजन जगत सेठ फतेह चंद और राय रेयान चंद के साथ मिलकर नवाब के खिलाफ साजिश शुरू कर दी।
  • हाज़ी अहमद ने सरफराज खान की जगह लेने के लिये बिहार के नवाब ‘नाजिम अली वर्दी खान’ को आमंत्रित किया, फलस्वरूप गिरिया की लड़ाई में अली वर्दी खान ने सरफराज खान को हरा दिया।

महत्त्वपूर्ण ऐतिहासिक विशेषताएँ

  • मुर्शिदाबाद में नवाबों द्वारा निर्मित अनेक भव्य मस्ज़िद, महल और इमामबाड़ा हैं जो अतीत की संवृद्धि और विकास के परिचायक हैं।
  • यहाँ एक आकर्षक मस्ज़िद (फूटी मस्ज़िद) है जिसका निर्माण कार्य अधूरा है, लेकिन अपनी अधूरी संरचना में भी यह रहस्यमयी एवं सारगर्भित इतिहास को दर्शाती है।

फूटी मस्ज़िद

  • फूटी मस्ज़िद लगभग 135 फीट लंबी और 38 फीट चौड़ी, चारो कोनों पर चार गुम्बद हैं। पाँच नियोजित गुंबदों में से केवल दो का ही कार्य पूरा हुआ है।
  • जैसा कि बताया जाता है कि इसका निर्माण शुरू होने के तुरंत बाद बादशाह की मृत्यु हो गई, जिससे मस्ज़िद को कभी भी पूरा नहीं किया जा सका। इसीलिये इस मस्ज़िद का नाम फूटी मस्ज़िद (Fouti Masjid) पड़ा ।
  • फाउट (Fout) का अर्थ है मृत्यु। जैसाकि नाम से प्रतीत होता है कि मस्ज़िद को इसके निर्माता की मृत्यु के बाद ही फूटी मस्ज़िद (Fouti Masjid) नाम दिया गया होगा।
  • मस्ज़िद आज भी अधूरी है, इसके प्रवेश मार्ग ऊँचाई पर है, इसमें विशाल हॉल और मेहराब है।
  • मस्ज़िद में निर्जनता, रहस्य और आध्यात्मिकता का एक ऐसा समावेश है जो एक डरावनी (हॉरर) फिल्म जैसा प्रतीत होता है।
  • एक किंवदंती यह है कि इस मस्ज़िद का निर्माण सरफराज खान ने एक रात में किया था।

स्रोत – द हिंदू


जीव विज्ञान और पर्यावरण

तेज़ी से गर्म होते महासागर

चर्चा में क्यों?


हाल ही में अमेरिकी जर्नल ‘साइंस’ के निष्कर्ष में शोधकर्त्ताओं ने यह खुलासा किया है कि दुनिया के महासागर तेज़ी से गर्म हो रहे हैं। इन निष्कर्षों ने उन पिछली रिपोर्टों को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि हाल के वर्षों में ग्लोबल वार्मिंग में एक तथाकथित ठहराव आया है।

प्रमुख बिंदु

  • यह रिपोर्ट चीनी विज्ञान अकादमी के नेतृत्व में अमेरिकी जर्नल ‘साइंस’ में प्रकाशित की गई है।
  • यह नवीनतम रिपोर्ट 2014 और 2017 के बीच प्रकाशित चार अध्ययनों पर आधारित है, जिसमें समुद्र के पूर्व के तापमानों के बारे में अधिक सटीक अनुमान दिये गए हैं। इन अनुमानों से वैज्ञानिकों को भविष्य में शोध तथा अन्य पूर्वानुमानों की सुविधा प्राप्त होगी।
  • महासागर के तापमान में वृद्धि जलवायु परिवर्तन का एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण संकेतक है और विभिन्न अध्ययनों की बदौलत आज हमारे पास इस बात के पुख्ता सबूत उपलब्ध हैं कि महासागर बहुत तेज़ी से गर्म हो रहे हैं।
  • जीवाश्म ईंधन के जलने से उत्पन्न होने वाली अतिरिक्त ऊष्मा (जो ग्रीनहाउस गैसों द्वारा पृथ्वी पर ही रोक ली जाती है) का लगभग 93% हिस्सा दुनिया के महासागरों में जमा होता है और इनके तापमान को बढ़ा देता है।
  • एक नए विश्लेषण से यह भी पता चला है कि महासागरों के तापमान की वृद्धि के साथ-साथ वायु के तापमान में भी वृद्धि हो रही है।
  • ग्लेशियरों के पिघलने से समुद्र के जल-स्तर में कम वृद्धि होगी, जबकि महासागर का तापमान बढ़ने से जल-स्तर में तेज़ी से वृद्धि होगी क्योंकि गर्म होने पर जल का आयतन भी बढ़ता है।
  • इस रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि यदि ग्रीनहाउस गैसों को नहीं रोका गया तो महासागरों में उपरी जल-स्तर (2,000 मीटर की गहराई तक) का तापमान सदी के अंत तक 0.78 डिग्री सेल्सियस और बढ़ जाएगा।

रिपोर्ट की खास बातें

  • इस रिपोर्ट की सटीकता हासिल करने में प्रमुख योगदान महासागरीय निगरानी बेड़ों का है जिन्हें अर्गो कहा जाता है। इसमें लगभग 4000 फ्लोटिंग रोबोट शामिल हैं जो दुनिया भर के महासागरों में बहते रहते हैं और कुछ दिनों के अंतराल पर 2000
  • मीटर की गहराई तक गोताखोरी करते हैं तथा समुद्र के तापमान, pH (अम्लीयता या क्षारीयता), लवणता को मापते हैं।
  • अर्गो, फ्लोटिंग रोबोटों ने वर्ष 2000 के मध्य से समुद्र के तामपान पर लगातार और व्यापक आँकडें प्रदान किये हैं। इन्हीं आँकड़ो की बदौलत इस रिपोर्ट को तैयार किया गया है।

आगे की राह

  • ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को रोकने के लिये ऊर्जा, भूमि, शहरी अवसंरचना (परिवहन और भवनों सहित) तथा औद्योगिक प्रणालियों में तीव्र एवं दूरगामी नज़रिये से बदलाव लाने की आवश्यकता है।
  • विकासशील देशों को बड़े पैमाने पर ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन से बचना चाहिये, जबकि विकसित देशों को अपने देश में ऐसी खपत पर रोक लगानी चाहिये, जो ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को बढ़ावा देती हो।
  • विज्ञान समय-समय पर अपना फैसला सुनाता रहता है। महासागरीय तापमान वृद्धि के मद्देनज़र अब दुनिया भर के नीति निर्माताओं की ज़िम्मेदारी बनती है कि मानव जाति और पृथ्वी का अस्तित्त्व लंबे समय तक बनाए रखने हेतु ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को रोकने के लिये आवश्यक कार्रवाई करें।

भारतीय अर्थव्यवस्था

पूंजी संरक्षण बफर

चर्चा में क्यों?


हाल ही में भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने 31 मार्च, 2020 तक के लिये पूंजी संरक्षण बफर (Capital Conservation Buffer-CCB) की अंतिम किश्त के कार्यान्वयन को स्थगित कर दिया है।


प्रमुख बिंदु

  • आरबीआई ने एक अधिसूचना में कहा है कि पूंजी संरक्षण बफर की 0.625 प्रतिशत की आखिरी किस्त को लागू करने की समय-सीमा को 31 मार्च 2019 से बढ़ाकर 31 मार्च, 2020 करने का फैसला किया गया है।
  • आरबीआई के इस कदम की बदौलत अब बैंकों के पास 37,000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त पूंजी उपलब्ध होगी। जिससे बैंकों की कर्ज़ देने की क्षमता में 3.50 लाख करोड़ रुपए तक वृद्धि संभव हो सकेगी।
  • इस प्रकार, पूंजी संरक्षण का न्यूनतम अनुपात 2.5 प्रतिशत अब 31 मार्च, 2020 से लागू होगा।
  • वर्तमान में बैंकों का पूंजी संरक्षण बफर मुख्य पूंजी का 1.875 प्रतिशत है।
  • पूंजी संरक्षण बफर की आखिरी किस्त के कार्यान्वन को टालने का फैसला आरबीआई की केंद्रीय बोर्ड की बैठक में लिया गया था।

पूंजी संरक्षण बफर क्या है?

  • पूंजी संरक्षण बफर (Capital Conservation Buffer-CCB) को यह सुनिश्चित करने के लिये डिज़ाइन किया गया है कि बैंक अर्थव्यवस्था के सामान्य समय के दौरान (यानी अर्थव्यस्था पर तनाव से पहले की अवधि के दौरान) पूंजीगत बफ़र का निर्माण करें, जिसे अर्थव्यवस्था के तनावग्रस्त होने पर नुकसान के समय निकाला जा सके।
  • दूसरे शब्दों में पूंजी संरक्षण बफर (capital conservation buffer-CCB) वह पूंजी बफर है, जिसे बैंकों को आम दिनों में जमा करना पड़ता है ताकि आर्थिक संकट के दौरान नुकसान की भरपाई हेतु इसका इस्तेमाल किया जा सके।
  • यह आवश्यक न्यूनतम पूंजी आवश्यकताओं (Minimum Capital Requirements) के उल्लंघन से बचने हेतु डिज़ाइन किये गए सरल पूंजी संरक्षण नियमों (Capital Conservation Rules) पर आधारित है।
  • इसे 2008 में पूरी दुनिया में आए आर्थिक संकट के बाद प्रतिकूल आर्थिक परिस्थितियों से निपटने के लिये बैंकों की क्षमता में सुधार हेतु पेश किया गया था।

स्रोत- न्यू इंडियन एक्सप्रेस, RBI


शासन व्यवस्था

रेणुकाजी बांध परियोजना

चर्चा में क्यों?


हाल ही में छः राज्यों- दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और राजस्थान ने रेणुकाजी बांध बहुद्देशीय परियोजना (Renuka Multipurpose Dam Project) के एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किये।


प्रमुख बिंदु

  • रेणुकाजी बांध परियोजना हिमाचल प्रदेश के सिरमोर ज़िले में यमुना की सहायक गिरि नदी पर निर्मित की जाएगी।
  • इस परियोजना के अंतर्गत 148 मीटर ऊँचा बांध बनाया जाएगा तथा इससे दिल्ली व अन्य बेसिन राज्यों को 23 क्यूसेक जल की आपूर्ति की जाएगी।
  • उच्च प्रवाह के दौरान परियोजना से 40 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा।
  • बिजली परियोजना का निर्माण हिमाचल प्रदेश ऊर्जा निगम (Himachal Pradesh Power Corporation Ltd.) द्वारा किया जाएगा।
  • रेणुकाजी बांध की संग्रहण क्षमता 0.404 मिलियन एकड़ फुट है और हिमाचल प्रदेश में इस बांध का डूब क्षेत्र 1508 हेक्टेयर है।

लाभ

  • बांध निर्माण के पश्चात गिरि नदी के प्रवाह में 110 प्रतिशत की वृद्धि होगी और यह दिल्ली व अन्य बेसिन राज्यों के जल की जरूरत को पूरा करेगी।

पृष्ठभूमि

  • रेणुकाजी बांध परियोजना यमुना और इसकी दो सहायक नदियों– टोंस और गिरि पर बनाई जाने वाली संग्रह परियोजनाओं का हिस्सा है। अन्य दो परियोजनाएँ- यमुना नदी पर लखवार परियोजना तथा टोंस नदी पर किसाऊ परियोजना है।
  • वर्ष 2008 में इन तीनों परियोजनाओं को राष्ट्रीय परियोजनाओं का दर्ज़ा दिया गया था जिसके तहत सिंचाई एवं पेयजल घटक की लागत का 90% वित्तपोषण भारत सरकार द्वारा केंद्रीय सहायता के रूप में तथा शेष 10% लाभार्थी राज्य द्वारा वहन किया जाएगा।

स्रोत : पी.आई.बी


विविध

Rapid Fire करेंट अफेयर्स (12 जनवरी)

  • 12-13 जनवरी को उज्बेकिस्तान के समरकंद में आयोजित हुई पहली भारत-मध्य एशिया वार्ता; विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ उज्बेकिस्तान के विदेश मंत्री अब्दुल अज़ीज़ कामिलोव ने की बैठक की सह-अध्यक्षता; अफगानिस्तान के विदेश मंत्री ने लिया विशिष्ट अतिथि के रूप में हिस्सा; किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान के विदेश मंत्रियों और कज़ाकिस्तान के प्रथम उप विदेश मंत्री ने किया अपने-अपने देशों का प्रतिनिधित्व
  • इसरो के अध्यक्ष के. सिवन ने 2021 में देश के पहले मानव मिशन को अंतरिक्ष में भेजने का किया एलान; इस अभियान में महिला अंतरिक्ष यात्री को भी किया जा सकता है शामिल; दिसंबर 2020 तक पहले प्रायोगिक मानव रहित मिशन को भेजने की है योजना; इसके बाद जुलाई 2021 में भेजा जाएगा दूसरा मानव रहित मिशन; दोनों परीक्षण सफल होने के बाद दिसंबर 2021 में भेजा जाएगा  मानव मिशन
  • उच्चस्तरीय चयन समिति द्वारा CBI डायरेक्टर पद से हटाए जाने और तबादला किये जाने के एक दिन बाद आलोक वर्मा ने सरकार को इस्तीफा भेज दिया; AGMUT काडर के IPS ऑफिसर रहे आलोक वर्मा को फायर सर्विसेज़, सिविल डिफेंस और होम गार्ड का डायरेक्टर बनाया गया था; दिल्ली पुलिस के कमिश्नर रह चुके आलोक वर्मा CBI के 27वें डायरेक्टर थे
  • 25वें भागीदारी शिखर सम्मलेन का मुंबई में आयोजन; देश के भीतर और पूरी दुनिया के साथ सक्रिय सहभागिता एवं गठबंधन करने वाले ‘नए भारत’ को दर्शाया गया; केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग तथा महाराष्ट्र सरकार और भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) द्वारा किया गया आयोजित
  • दुनिया के बेहतरीन पर्यटक स्थलों में कर्नाटक के बेल्लारी ज़िले में स्थित हम्पी को मिला दूसरा स्थान; यूनेस्को की वैश्विक धरोहर सूची में शामिल हम्पी 1336 से 1646 तक विजयनगर साम्राज्य की राजधानी था; अमेरिकी अखबार ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की इस वर्ष की सूची में कैरेबियाई द्वीप प्यूर्टो रिको को मिला पहला स्थान; सांता बारबरा, पनामा, जर्मनी के म्यूनिख, इज़राइल के इलत, जापान के सातोशी, डेनमार्क के अलबोर्ग और पुर्तगाल के अजोरेस टॉप-10 में शामिल
  • उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने 29 दिनों तक चलने वाले सांस्कृतिक उत्सव ‘संस्कृति कुंभ’ का किया उद्घाटन; प्रयागराज में कुंभ मेला क्षेत्र के मुख्य परिसरों में भारत की आध्यात्मिक चेतना और सांस्कृतिक विरासत के संगम का उत्सव है‘ संस्कृति कुंभ’; भारत सरकार का संस्कृति मंत्रालय देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के विभिन्न आयामों- कला, लोकनृत्य, जनजातीय एवं शास्त्रीय कलाओं, हस्तशिल्प, व्यंजन और प्रदर्शनियों आदि का एक ही स्थान पर प्रदर्शन करने के उद्देश्य से कर रहा है ‘संस्कृति कुंभ’ का आयोजन
  • सिक्किम वन विभाग के कैमरे में पहली बार कैद हुआ रॉयल बंगाल टाइगर; राज्य के पूर्वी इलाके में स्थित पंगोलखा वन्यजीव अभयारण्य में लगाया गया था कैमरा; लगभग 9500 फीट की ऊँचाई पर राज्य में पहले बार देखा गया बाघ; भारत में कुल 103 रॉयल बंगाल टाइगर हैं- 81 सुंदरबन और 22 दक्षिणी 24 परगना में; बांग्लादेश में 106 है रॉयल बंगाल टाइगर की तादाद; 2014 की गणना के अनुसार भारत में हैं कुल 50 बाघ अभयारण्य और 2226 बाघ
  • दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों ने रेणुकाजी डैम परियोजना समझौते पर किये दस्तखत; इन छह राज्यों में पेयजल की ज़रूरतों के मद्देनज़र किया जा रहा है इस डैम का निर्माण; यमुना और उसकी सहायक नदियों- टोंस और गिरि पर बनाया जाएगा यह डैम; इस पर आने वाले वाले खर्च का अधिकांश हिस्सा केंद्र सरकार वहन करेगी; राज्य सरकारों पर पड़ेगा केवल 10 फ़ीसदी भार; इस परियोजना से 40 मेगावाट बिजली का उत्पादन भी होगा
  • दिल्ली ने जारी किया पशु स्वास्थ्य और कल्याण नीति, 2018 का मसौदा; पहचान को सुगम बनाने के लिये जानवरों में माइक्रोचिप्स इंजेक्ट करने का प्रस्ताव; खोए हुए या छोड़े गए जानवरों को बचाने में मिलेगी मदद; पशुपालन विभाग का नाम बदलकर पशु स्वास्थ्य और कल्याण विभाग करने की योजना; गाय छात्रावास बनेंगे जहाँ पशुपालक अपने जानवरों को रख सकेंगे; जन्म नियंत्रण के माध्यम से बंदरों की आबादी को नियंत्रित करने की भी योजना; कोई समय-सीमा तय किये बिना दिल्ली को रेबीज़ मुक्त बनाना भी है उद्देश्य; 24 घंटे चालू रहने वाला पशु चिकित्सालय भी बनेगा
  • स्वामी विवेकानंद की जयंती के मौके पर रांची (झारखंड) में हुआ देश में विवेकानंद की सबसे ऊँची प्रतिमा का अनावरण; कांसे और स्टीलसे बनी है 33 फीट ऊँची यह प्रतिमा; प्रख्यात मूर्तिकार रामसुतार और उनकी टीम ने एक वर्ष में तैयार की यह प्रतिमा
  • वेनेज़ुएला में भारी आर्थिक संकट के बीच निकोलस मादुरो दूसरी बार देश के राष्ट्रपति बने; राजधानी काराकास में उनके शपथ ग्रहण समारोह में अन्य देशों के प्रतिनिधिमंडल के अलावा बोलीविया के राष्ट्रपति एवो मोरोलेस, क्यूबा के राष्ट्रपति मिगुएल डियाज कनाल, निकारागुआ के राष्ट्रपति डेनियल ओर्टेगा और अल सल्वाडोर के राष्ट्रपति सल्वाडोर सांचेज केरेन शामिल हुए; अमेरिका और यूरोपीय संघ ने नहीं दी है निकोलस मादुरो के राष्ट्रपति बनने को मान्यता
  • टीम इंडिया के आलराउंडर हार्दिक पांड्या और बल्लेबाज के.एल. राहुल पर BCCI ने की कड़ी कार्रवाई; टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ में महिलाओं पर किये गए आपत्तिजनक कमेंट्स की वजह से दोनों हुए टीम से बाहर; क्रिकेट प्रशासक समिति के प्रमुख विनोद राय के अनुसार दोनों को जाँच पूरी होने तक के लिये किया गया निलंबित
  • 48 किग्रा. भार वर्ग में भारत की महिला बॉक्सर एम.सी. मैरीकोम बनीं विश्व की नंबर-1 बॉक्सर; 1700 अंक लेकर AIBA की रैंकिंग में टॉप पर; अन्य महिला मुक्केबाजों में पिंकी जांगड़ा 51 किग्रा. वर्ग में आठवें स्थान पर, एशियाई रजत पदक जीतने वाली मनीषा माउन 54 किग्रा. वर्ग में आठवें स्थान पर हैं; वर्ल्ड चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली सोनिया लाठेर 57 किग्रा. वर्ग में दूसरे स्थान पर हैं; विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता और हाल में राष्ट्रीय चैंपियन बनीं सिमरनजीत कौर 64 किग्रा. वर्ग में चौथे स्थान पर और पूर्व वर्ल्ड चैंपियन एल. सरिता देवी 16वें स्थान पर हैं; इंडिया ओपन की स्वर्ण पदक विजेता और चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन 69 किग्रा. वर्ग में पाँचवें स्थान पर हैं
  • बैंकर से नेता बनीं मीरा सान्याल का निधन; रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड की CEO रही मीरा सान्याल ‘आप’ पार्टी में हुई थीं शामिल; 2014 में दक्षिण मुंबई से लड़ा था लोकसभा चुनाव; 30 साल के बैंकिंग करियर में मीरा सान्याल ABN एमरो बैंक की CEO और कॉर्पोरेट फाइनेंस की प्रमुख भी रहीं

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close