हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

इतिहास प्रैक्टिस प्रश्न

  • मृण्मूर्तियाँ एवं मुहरें हड़प्पाई लोगों की धार्मिक प्रथाओं पर प्रचुर प्रकाश डालती है। विवेचन करें।

    12 May, 2020

    उत्तर :

    हड़प्पाई लोग शिल्प एवं तकनीक के बारे में जानकारी और इससे संबंधित बेहतर कौशल रखते थे। इस सभ्यता में कांसे तथा पत्थर की मूर्तियों के साथ-साथ मृण्मूर्तियों (टेराकोटा) एवं मुहरों का निर्माण हुआ, जो तत्कालीन समाज की सामाजिक-आर्थिक स्थिति के साथ-साथ उस समय के धार्मिक विश्वासों पर भी प्रकाश डालती है।

    • सिंधु घाटी क्षेत्र से मातृदेवी की कई मृण्मूर्तियाँ प्राप्त हुई है। प्रतीत होता है कि सिंधु समाज में मातृदेवी की पूजा की जाती थी। कालीबंगा और लोथल से मिली मातृदेवी की मृण्मूर्तियाँ विशेष उल्लेखनीय है।
    • एक मृण्यमूर्ति में स्त्री के गर्भ से निकलता पौधा दिखाया गया है, जो संभवत: पृथ्वी देवी की प्रतिमा है। मालूम होता है कि हड़प्पाई लोग धरती को उर्वरता की देवी समझते थे और इसकी पूजा उसी तरह करते थे जिस तरह मिस्र के लोग नील नदी की देवी आइरिस की पूजा करते थे।
    • मिट्टी की मूर्तियों में कुछ दाड़ी-मूँछ वाले पुरुषों की छोटी-छोटी मूर्तियाँ मिली है, जो देवताओं की प्रतिमाएं  प्रतीत होती हैं।
    • सिंधु समाज में संभवत: एक सींग वाला देवता महत्त्वपूर्ण था। एक जगह से एक सींग वाले देवता का मिट्टी का बना मुखौटा मिला है।

    मुहरें:

    • एक मुहर पर तीन सींग वाले तथा आसन लगाए ध्यान मुद्रा में बैठे योगी का चित्रण है। पशुपति महादेव का रूप बताए जाने वाले इस देवता के चित्र के चारों ओर एक हाथी, एक बाघ और एक गैंडा है। आसन के नीचे एक भैंसा है तथा पाँवों पर दो हिरण हैं। संभवत: सिंधु समाज में पशुपति महादेव का प्रमुख थान था।
    • सिंधु समाज के लोग वृक्ष पूजा भी करते थे। एक मुहर पर पीपल की डालों के बीच विराजमान देवता चित्रित है।
    • हड़प्पाई लोग पशु-पूजा भी करते थे। मुहरों पर कई पशु अंकित है, जिनमें एक सींग वाला जानवर (यूनिफॉर्म) एवं कूबड़ वाला साँड प्रमुख है।

    इस प्रकार मृण्मूर्तियाँ एवं मुहरें तत्कालीन समाज की उत्कृष्ट कलाकृतियाँ हैं, जो शिल्प एवं तकनीक के साथ-साथ उस समय की धार्मिक प्रथाओं पर प्रचुर प्रकाश डालती है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close