प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:
 Switch to English


सिंधुताई सपकाल

सिंधुताई सपकाल

संक्षिप्त विवरण: सिंधुताई सपकाल

  • उन्हें समाज में उनके योगदान के लिये 2021 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया।
  • सपकाल, जिन्हे "माई" के नाम से जाना जाता था, पुणे में एक अनाथालय चलाती थीं जहाँ उन्होंने 1,000 से अधिक अनाथ बच्चों को गोद लिया था।

सामाजिक कार्य:

  • उन्होंने 1970 में अपना सामाजिक कार्य शुरू किया, जिसके दौरान वे राज्य के ग्रामीण हिस्सों के संपर्क में आईं और पारधी समुदाय की कठिनाइयों और मुद्दों से अवगत हुईं।
  • वह सपकाल हडपसर के पास मंजरी में 'सनमती बाल निकेतन संस्था' नाम से एक अनाथालय चलाती हैं।
    •  बच्चों के लिये सभी सुविधाओं के साथ इनका अपना भवन है और यह सार्वजनिक दान पर चलता है। 
  • उन्होंने पारधी समुदाय और उनके बच्चों के उत्थान के लिये चिंचवाड़ क्षेत्र में एक गैर सरकारी संगठन, पुनरुत्थान समरसता गुरुकुलम की शुरुआत की।
  • वह इन बच्चों के लिये एक स्कूल और आवासीय सुविधा चलाती हैं।
    • शिक्षा की "गुरुकुल" प्रणाली के आधार पर, पारधी समुदाय के 200 बालक और 150 बालिकाएँ यह सुविधा प्राप्त कर रहे हैं।
  • 2010 में, सपकाल पर एक मराठी बायोपिक महाराष्ट्र में रिलीज़ हुई थी। 

तुलसी गौड़ा
तुलसी गौड़ा
हरेकला हजब्बा
हरेकला हजब्बा
अब्दुल जब्बार
अब्दुल जब्बार
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2