हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट: 11 मई, 2021

  • 11 May 2021
  • 10 min read

म्युकरमाइकोसिस

Mucormycosis

कोविड-19 से संक्रमित कई रोगियों में म्युकरमाइकोसिस (Mucormycosis) नामक कवक का संक्रमण देखा जा रहा है, जिसे ‘ब्लैक फंगस’ (Black Fungus) के नाम से भी जाना जाता है।  

प्रमुख बिंदु: 

म्यूकोर्मोसिस:

  • यह एक गंभीर लेकिन दुर्लभ कवक संक्रमण है। यह  म्युकरमायसिटिस (Mucormycetes) नामक फफूँद (Molds) के कारण होता है, जो पर्यावरण में प्रचुर मात्रा में मौजूद है।
  • यह मुख्य रूप से उन लोगों को प्रभावित करता है, जिन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याएंँ हैं या वे ऐसी दवाओं का सेवन करते हैं, जो कीटाणुओं और बीमारी से लड़ने की शरीर की क्षमता को कम करती हैं।
  • म्युकरमाइकोसिस के प्रकार: राइनोसेरेब्रल (साइनस और मस्तिष्क) म्युकरमाइकोसिस, पल्मोनरी (फेफड़ों संबंधी) म्युकरमाइकोसिस, क्यूटेनियस (त्वचा संबंधी) म्युकरमाइकोसिस, डिसेमिनेटेड म्युकरमाइकोसिस

संचरण (Transmission):

  • इसका संचरण श्वास, संरोपण (Inoculation) या पर्यावरण में मौजूद बीजाणुओं के अंतर्ग्रहण द्वारा होता है।
  • म्युकरमाइकोसिस का संचार मानव-से-मानव तथा मानव-से-पशुओं के मध्य नहीं होता है।

लक्षण:

  • इसके लक्षणों में आंखों और/या नाक के आसपास दर्द और लालिमा, बुखार, सिरदर्द, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, खूनी उल्टी, और बदलती मानसिक स्थितियांँ शामिल हैं।
  • गंभीर लक्षणों में दांत दर्द, दांतों का गिरना, दर्द के साथ धुंधलापन या  दोहरी दृष्टि (Double Vision) आदि शामिल हैं।

रोकथाम:

  • निर्माण या उत्खनन स्थलों जैसे अधिक धूल वाले क्षेत्रों से बचना, तूफान और प्राकृतिक आपदाओं के बाद पानी से क्षतिग्रस्त इमारतों तथा बाढ़ के पानी के सीधे संपर्क में आने से बचना और उन गतिविधियों से बचना, जिनमें मिट्टी का निकट संपर्क शामिल है।

उपचार:

  • म्युकरमाइकोसिस के संक्रमण को रोकने हेतु कवकरोधी दवा (Antifungal Medicine) का इस्तेमाल किया जाना चाहिये।
  • प्रायः म्युकरमाइकोसिस संक्रमण के कुछ मामलों में सर्जरी आवश्यक हो जाती है, जिसमें संक्रमित ऊतक को काटकर अलग कर दिया जाता है।

महाराणा प्रताप जयंती

Birth Anniversary of Maharana Pratap

हाल ही में भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा महाराणा प्रताप को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी गई।

Maharana-Pratap

प्रमुख बिंदु: 

विवरण:

  • राणा प्रताप सिंह, जिन्हें महाराणा प्रताप के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 9 मई, 1540 में राजस्थान के कुंभलगढ़ में हुआ था।
  • वे मेवाड़ के 13वें राजा थे और उदय सिंह द्वितीय के सबसे बड़े पुत्र थे।
    • महाराणा उदय सिंह द्वितीय ने अपनी राजधानी चित्तौड़ से मेवाड़ राज्य पर शासन किया।
    • उदय सिंह द्वितीय द्वारा उदयपुर (राजस्थान) शहर की स्थापना की गई।

हल्दीघाटी का युद्ध:

  • वर्ष 1576 में हल्दीघाटी का युद्ध  मेवाड़ के राणा प्रताप सिंह और मुगल सम्राट अकबर की सेना के मध्य लडा गया था, जिसमें मुगल सेना का नेतृत्त्व आमेर के राजा मान सिंह द्वारा किया गया था।
  • महाराणा प्रताप ने वीरतापूर्ण इस युद्ध को लड़ा, लेकिन मुगल सेना ने उन्हें पराजित कर दिया ।
  • ऐसा कहा जाता है कि महाराणा प्रताप को युद्ध के मैदान से बाहर निकालने के दौरान  ‘चेतक’ (Chetak) नामक उनके वफादार घोड़े ने अपनी जान दे दी थी।

पुन:प्राप्ति : 

  •  वर्ष 1579 के बाद मेवाड़ पर मुगलों का प्रभाव कम हो गया और महाराणा प्रताप ने कुंभलगढ़, उदयपुर और गोगुन्दा सहित पश्चिमी मेवाड़ को पुनः प्राप्त कर लिया गया।
  • इस अवधि के दौरान, उन्होंने वर्तमान डूंगरपुर के पास एक नई राजधानी चावंड (Chavand) का निर्माण भी किया।

मृत्यु:

  • 19 जनवरी, 1597 को महाराणा प्रताप का निधन हो गया। महाराणा प्रताप की मृत्यु के बाद उनके पुत्र राणा अमर सिंह ने उनका स्थान लिया और मुगलों के विरुद्ध वीरतापूर्वक संघर्ष किया, हालाँकि वर्ष 1614 में राणा अमर सिंह ने अकबर के पुत्र सम्राट जहाँगीर के साथ संधि कर ली।

रवींद्रनाथ टैगोर

Rabindranath Tagore

7 मई, 2021 को प्रधानमंत्री द्वारा गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर (Gurudev Rabindranath Tagore) की  160वीं जयंती पर श्रद्धांजलि दी गई।

Rabindranath-Tagore

प्रमुख बिंदु: 

जन्म:

  • उनका जन्म 7 मई, 1861 को कलकत्ता में हुआ था।

 रवींद्रनाथ टैगोर के विषय में:

  • इन्हें 'गुरुदेव' (Gurudev) , 'कबीगुरू' (Kabiguru) और 'बिस्वाकाबी’ (Biswakabi) के नाम से भी जाना जाता है।
  • डब्लू. बी. येट्स (W.B Yeats) द्वारा रवींद्रनाथ टैगोर को आधुनिक भारत का एक  उत्कृष्ट एवं रचनात्मक कलाकार कहा गया। ये एक बंगाली कवि, उपन्यासकार और चित्रकार थे, जिन्होंने पश्चिम में भारतीय संस्कृति को अत्यधिक प्रभावशाली ढंग से पेश किया।
  • वह एक असाधारण और प्रसिद्ध साहित्यकार थे, जिन्होंने साहित्य और संगीत को महत्त्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया।।
  • वे महात्मा गांधी के अच्छे मित्र थे और माना जाता है कि उन्होंने ही महात्मा गांधी को ‘महात्मा’ की उपाधि दी थी।
  • उन्होंने सदैव इस बात पर ज़ोर दिया कि विविधता में एकता भारत के राष्ट्रीय एकीकरण का एकमात्र संभव तरीका है।
  • वर्ष 1929 तथा  वर्ष 1937 में उन्होंने विश्व धर्म संसद (World Parliament for Religions) में भाषण दिया।

योगदान:

  • माना जाता है कि उन्होंने 2000 से अधिक गीतों की रचना की है और उनके गीतों और संगीत को 'रबींद्र संगीत’ (Rabindra Sangeet) कहा जाता है।
  • उन्होंने बंगाली गद्य और कविता के आधुनिकीकरण हेतु उत्तरदायी माना जाता है।
  • उनकी उल्लेखनीय कृतियों में गीतांजलि, घारे-बैर, गोरा, मानसी, बालका, सोनार तोरी आदि शामिल है, साथ ही उन्हें उनके गीत 'एकला चलो रे’ (Ekla Chalo Re) के लिये भी याद किया जाता है।
    • उन्होंने अपनी पहली  कविताएंँ ‘भानुसिम्हा’ (Bhanusimha) उपनाम से 16 वर्ष की आयु में प्रकाशित की थीं।
  • उन्होंने न केवल, भारत और बांग्लादेश हेतु राष्ट्रगान की  रचना की बल्कि श्रीलंका के राष्ट्रगान को कलमबद्ध करने और उसकी रचना करने हेतु एक श्रीलंकाई छात्र को प्रेरित किया।
  • अपनी सभी साहित्यिक उपलब्धियों के अलावा वे एक दार्शनिक और शिक्षाविद भी थे, जिन्होंने वर्ष 1921 में विश्व-भारती विश्वविद्यालय (Vishwa-Bharati University) की स्थापना की जिसने पारंपरिक शिक्षा को चुनौती दी।

पुरस्कार:

  • रवींद्रनाथ टैगोर को उनकी काव्यरचना गीतांजलि के लिये वर्ष 1913 में साहित्य के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार दिया गया था।
    •  यह पुरस्कार जीतने वाले वह पहले गैर-यूरोपीय थे।
  • 1915 में उन्हें ब्रिटिश किंग जॉर्ज पंचम (British King George V) द्वारा नाइटहुड की उपाधि से सम्मानित किया गया। वर्ष 1919 में जलियांवाला बाग हत्याकांड (Jallianwala Bagh Massacre) के बाद उन्होंने नाइटहुड की उपाधि का त्याग कर दिया।

मृत्य:

  • 7 अगस्त, 1941 को कलकत्ता में इनका निधन हो गया।
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close